मंगलवार, दिसम्बर 10, 2019

बांग्लादेश पुलिस ने तीन रोहिंग्या तस्करो को मारा, 15 शरणार्थियों को बचाया

Must Read

बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए रिकॉर्ड किया तेलुगू गाना

सिंगर बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए अपना पहला तेलुगू गाना 'सूर्योदय चंद्रुडिवो' रिकॉर्ड किया है।...

आईआईटी-मद्रास के 831 छात्रों की हुई कैंपस प्लेसमेंट

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटी-एम) के छात्रों को कैंपस प्लेसमेंट के पहले चरण के दौरान 184 कंपनियों द्वारा कुल...

दक्षिण अफ्रीका का मदद करने को तैयार हैं गैरी कर्स्टन

पूर्व सलामी बल्लेबाज और भारत को विश्व विजेता बनाने वाले कोच गैरी कस्टर्न ने कहा है कि वह जरूत...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

बांग्लादेश की पुलिस ने तीन लोगो को 15 रोहिंग्या मुस्लिमों की मलेशिया में तस्करी की कोशिश करने के शक में मार दिया है। बांग्लादेश के शरणार्थी शिविरों में मंगलवार को संघर्ष हो गया था और महीनो में यह दूसरा संघर्ष था। करीब 900000 रोहिंग्या शरणार्थी पड़ोसी मुल्क से सेना की कार्रवाई के बाद भागकर बांग्लादेश आये थे।

बांग्लादेश के कॉक्स बाजार में विश्व का सबसे बड़ा शरणार्थी शिविर है और अन्य अस्थायी बस्तियां है। एक पुलिस अधिकारी प्रोदीप कुमार दास ने बताया कि “हमारी टीम वहां मौजूद थी और उन्होंने हम पर गोलियां चलाई और पुलिस ने उनको जवाब दिया।”

उन्होंने कहा कि “एक आदमी ने शरणार्थियों की तस्करी की कोशिश की थी जिसमे कुछ लड़कियां भी शामिल थी, उसे गोली मार दी थी और अस्पताल के रास्ते में उस व्यक्ति ने दम तोड़ दिया था। शरणार्थियों को बचा लिया गया है और शुरूआती पूछताछ के बाद वापस दो भिन्न शिविरों में भेज दिया गया है।”

यह संघर्ष कुटुपलोंग से 30 किलोमीटर की दूरी पर हुआ था। यह आदमी खुद को रोहिंग्या बताता है लेकिन मानव तस्करी करता है। वह साल 2017 में रोहिंग्या शरणार्थियों के पहले वहां रह रहा था। म्यांमार से भागे हुए रोहिंग्या शरणार्थियों ने कहा कि “वह सैन्य बलों के अत्याचारों को झेल रहे थे लेकिन इन सभी आरोपों से विभाग इंकार करता है।

इस क्षेत्र के लोगो और सहायता कार्यकार्ता ने कहा कि “म्यांमार में वापसी को लेकर शंका के कारण बांग्लादेश के कुछ शरणार्थी हिंसा और ड्रग के दलदल में गिर गए हैं।” तस्करी विरोधी समूहों को भय है कि रोहिंग्या शरणार्थियों की तस्करी के लिए बंगाल की खाड़ी के मार्गो का इस्तेमाल किया जा सकता है।

हालिया महीनो में पुलिस और बचाव कर्मियों ने कई शरणार्थियों को बचाया है। बीते महीने पुलिस ने गोलीबारी में दो संदिग्ध तस्करो की हत्या कर दी थी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए रिकॉर्ड किया तेलुगू गाना

सिंगर बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए अपना पहला तेलुगू गाना 'सूर्योदय चंद्रुडिवो' रिकॉर्ड किया है।...

आईआईटी-मद्रास के 831 छात्रों की हुई कैंपस प्लेसमेंट

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटी-एम) के छात्रों को कैंपस प्लेसमेंट के पहले चरण के दौरान 184 कंपनियों द्वारा कुल 831 छात्रों को नौकरियों के...

दक्षिण अफ्रीका का मदद करने को तैयार हैं गैरी कर्स्टन

पूर्व सलामी बल्लेबाज और भारत को विश्व विजेता बनाने वाले कोच गैरी कस्टर्न ने कहा है कि वह जरूत पड़ने पर दक्षिण अफ्रीका की...

दुष्कर्म की घटनाओं पर प्रधानमंत्री चुप क्यों? : राहुल गांधी

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने यहां सोमवार को सवाल उठाया कि देश में दुष्कर्म की बढ़ती घटनाओं पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुप क्यों...

भारतीय जवानों को हनीट्रैप में फंसाने का प्रयास कर रही आईएसआई : रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) ने भारतीय सशस्त्र बलों के अधिकारियों को फंसाने के लिए हनीट्रैप को एक उपकरण के तौर पर...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -