बुधवार, जनवरी 22, 2020

सूडान: बशीर के तख्तापलट के बाद सूडानी पीएम ने पहली कैबिनेट के गठन का किया ऐलान

Must Read

स्टीव स्मिथ का मानना है ऑस्ट्रेलिया के लिए तीनों प्रारूपों में खेल सकते हैं जोश फिलिप

स्टीव स्मिथ को लगता है कि विकेटकीपर-बल्लेबाज जोश फिलिप में आस्ट्रेलिया के लिए तीनों प्रारूपों में खेलने की काबिलियत...

सीएए पर बहस करने को तैयार अखिलेश यादव, गृहमंत्री के ‘डंके की चोट’ शब्द को लेकर कहा, यह राजनेता की भाषा नहीं हो सकती

समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि वह नागरिकता कानून (सीएए) और विकास...

महिला निशानेबाज मनु भाकर को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार नहीं मिलने पर पिता ने उठाए सरकार पर सवाल

भारत के लिए ओलम्पिक कोटा हासिल कर चुकी युवा महिला निशानेबाज मनु भाकेर को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार न...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

सूडान के प्रधानमन्त्री अबदल्ला हम्दोक ने गुरूवार को पहली ट्रांजीशनल कैबिनेट के गठन का अधिकारिक ऐलान कर दिया है। सेना ने सूडान के पूर्व राष्ट्रपति ओमर अल बशीर को सत्ता से उखाड़ फेंका था। उन्होंने कहा कि संप्रभु परिषद् के अध्यक्ष ने एक संवैधानिक हुक्मनामा जारी किया है।

नई मंत्रिमंडल का गठन

इस हुक्नामे के तहत 18 मंत्रियो को नियुक्त किया गया है लेकिन मंत्रालयों के लिए सांसदों के नाम के ऐलान में देरी कर रहे हैं इसमें संरचना एवं परिवहन मंत्रालय और मिनिस्ट्री ऑफ़ लाइवस्टॉक एवं फिशरीज भी है। इस हुक्मनामे के तहत जमाल ओमेर को रक्षा मंत्री और अल तेरैफी इदरिस को आंतरिक मंत्री नियुक्त किया गया है।

इन दोनों मंत्रियों के नामो का ऐलान संप्रभु परिषद् के सैन्य विभाग ने किया है। इस कैबिनेट में चार महिलाओं को भी जगह दी गयी है। इसमें पहली बार विदेश मंत्री का कार्यभार एक महिला अस्मा मोहमद अब्दुल्ला को सौंपा गया है। विश्व बैंक के पूर्व अर्थशास्त्री इब्राहीम एल्बदावी को वित्त मंत्री का कार्यभार सौंपा गया है।

सरकार की प्राथमिकता शान्ति और अर्थव्यवस्था

हम्दोक ने कहा कि “कैबिनेट का गठन एक नए दौर में किया जा रहा है और अगर हम इसे बेहतर तरीके से संभाल पाए तो ऐसे देश का मिर्मान करने में सक्षम होंगे जिस पर हमें गर्व होगा। नवनिर्वाचित सरकार की प्राथमिकतायें शान्ति को हासिल, युद्ध का अंत और आर्थिक सुधार होंगी।”

बीते महीने सूडान की सिंय परिषद् और विपक्ष ने अधिकारिक तौर पर एक राजनीतिक और लोकतान्त्रिक घोषणा पत्र पर दस्तखत किये थे। पूर्व राष्ट्रपति बशीर को सेना ने अप्रैल में सत्ता से उखाड़ फेंका था और इसका कारण उनके खिलाफ भारी विरोध प्रदर्शन था।

प्रदर्शनकारियों ने सेना से सत्ता की डोर को नागरिक प्रशासन को सौंपने के लिए प्रदर्शन किये थे। 3 जून को सैन्य मुख्यालय के बाहर बैठे प्रदर्शनकारियों को तितर बितर करने के लिए सेना ने हिंसक हमला कर दिया था।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

स्टीव स्मिथ का मानना है ऑस्ट्रेलिया के लिए तीनों प्रारूपों में खेल सकते हैं जोश फिलिप

स्टीव स्मिथ को लगता है कि विकेटकीपर-बल्लेबाज जोश फिलिप में आस्ट्रेलिया के लिए तीनों प्रारूपों में खेलने की काबिलियत...

सीएए पर बहस करने को तैयार अखिलेश यादव, गृहमंत्री के ‘डंके की चोट’ शब्द को लेकर कहा, यह राजनेता की भाषा नहीं हो सकती

समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि वह नागरिकता कानून (सीएए) और विकास को लेकर भाजपा के लोगों...

महिला निशानेबाज मनु भाकर को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार नहीं मिलने पर पिता ने उठाए सरकार पर सवाल

भारत के लिए ओलम्पिक कोटा हासिल कर चुकी युवा महिला निशानेबाज मनु भाकेर को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार न मिलने पर उनके पिता रामकिशन...

पाकिस्तान : पीपीपी अध्यक्ष बिलावल भुट्टो ने कहा, कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएगी इमरान सरकार

पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी ने प्रधानमंत्री इमरान खान के नेतृत्व वाली पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) सरकार की आलोचना करते हुए...

चीन : कोरोना वायरस से हुए निमोनिया के 440 नए मामलों की पुष्टि

चीनी स्वास्थ्य अधिकारियों ने कोरोना वायरस से होने वाले निमोनिया के 440 नए मामलों की पुष्टि होने की बुधवार को घोषणा की। देश में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -