मंगलवार, नवम्बर 12, 2019

सूडान: बशीर के तख्तापलट के बाद सूडानी पीएम ने पहली कैबिनेट के गठन का किया ऐलान

Must Read

मप्र : शिवपुरी में स्वच्छ भारत मिशन का शौचालय ढहा, 2 आदिवासी बच्चों की मौत

भोपाल, 12 नवंबर (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट स्वच्छ भारत मिशन के तहत बनाए गए शौचालय के...

आयात एक्सपो में काफी संख्या में अमेरिकी प्रदर्शक

बीजिंग, 12 नवंबर (आईएएनएस)। चीन अंतर्राष्ट्रीय आयात एक्सपो की आयोजन समिति द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, वर्तमान एक्सपो में...

भाजपा महासचिव ने फडणवीस को बताया मैन ऑफ द मैच, शिवसेना पर साधा निशाना

नई दिल्ली, 12 नवंबर,(आईएएनएस)। भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के महासचिव(संगठन) बीएल संतोष ने महाराष्ट्र में अब तक के राजनीतिक घटनाक्रम...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

सूडान के प्रधानमन्त्री अबदल्ला हम्दोक ने गुरूवार को पहली ट्रांजीशनल कैबिनेट के गठन का अधिकारिक ऐलान कर दिया है। सेना ने सूडान के पूर्व राष्ट्रपति ओमर अल बशीर को सत्ता से उखाड़ फेंका था। उन्होंने कहा कि संप्रभु परिषद् के अध्यक्ष ने एक संवैधानिक हुक्मनामा जारी किया है।

नई मंत्रिमंडल का गठन

इस हुक्नामे के तहत 18 मंत्रियो को नियुक्त किया गया है लेकिन मंत्रालयों के लिए सांसदों के नाम के ऐलान में देरी कर रहे हैं इसमें संरचना एवं परिवहन मंत्रालय और मिनिस्ट्री ऑफ़ लाइवस्टॉक एवं फिशरीज भी है। इस हुक्मनामे के तहत जमाल ओमेर को रक्षा मंत्री और अल तेरैफी इदरिस को आंतरिक मंत्री नियुक्त किया गया है।

इन दोनों मंत्रियों के नामो का ऐलान संप्रभु परिषद् के सैन्य विभाग ने किया है। इस कैबिनेट में चार महिलाओं को भी जगह दी गयी है। इसमें पहली बार विदेश मंत्री का कार्यभार एक महिला अस्मा मोहमद अब्दुल्ला को सौंपा गया है। विश्व बैंक के पूर्व अर्थशास्त्री इब्राहीम एल्बदावी को वित्त मंत्री का कार्यभार सौंपा गया है।

सरकार की प्राथमिकता शान्ति और अर्थव्यवस्था

हम्दोक ने कहा कि “कैबिनेट का गठन एक नए दौर में किया जा रहा है और अगर हम इसे बेहतर तरीके से संभाल पाए तो ऐसे देश का मिर्मान करने में सक्षम होंगे जिस पर हमें गर्व होगा। नवनिर्वाचित सरकार की प्राथमिकतायें शान्ति को हासिल, युद्ध का अंत और आर्थिक सुधार होंगी।”

बीते महीने सूडान की सिंय परिषद् और विपक्ष ने अधिकारिक तौर पर एक राजनीतिक और लोकतान्त्रिक घोषणा पत्र पर दस्तखत किये थे। पूर्व राष्ट्रपति बशीर को सेना ने अप्रैल में सत्ता से उखाड़ फेंका था और इसका कारण उनके खिलाफ भारी विरोध प्रदर्शन था।

प्रदर्शनकारियों ने सेना से सत्ता की डोर को नागरिक प्रशासन को सौंपने के लिए प्रदर्शन किये थे। 3 जून को सैन्य मुख्यालय के बाहर बैठे प्रदर्शनकारियों को तितर बितर करने के लिए सेना ने हिंसक हमला कर दिया था।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

मप्र : शिवपुरी में स्वच्छ भारत मिशन का शौचालय ढहा, 2 आदिवासी बच्चों की मौत

भोपाल, 12 नवंबर (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट स्वच्छ भारत मिशन के तहत बनाए गए शौचालय के...

आयात एक्सपो में काफी संख्या में अमेरिकी प्रदर्शक

बीजिंग, 12 नवंबर (आईएएनएस)। चीन अंतर्राष्ट्रीय आयात एक्सपो की आयोजन समिति द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, वर्तमान एक्सपो में अमेरिकी प्रदर्शनी क्षेत्र लगभग 47,500...

भाजपा महासचिव ने फडणवीस को बताया मैन ऑफ द मैच, शिवसेना पर साधा निशाना

नई दिल्ली, 12 नवंबर,(आईएएनएस)। भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के महासचिव(संगठन) बीएल संतोष ने महाराष्ट्र में अब तक के राजनीतिक घटनाक्रम में देवेंद्र फडणवीस को मैन...

चिप से स्मार्टफोन को बनाएं कार की चाभी

नई दिल्ली, 12 नवंबर (आईएएनएस)। एनएक्सपी सेमीकंडक्टर ने मंगलवार को घोषणा करते हुए कहा कि उसने अपने अल्ट्रा-वाइडबैंड (यूडब्ल्यूबी) चिप को नए ऑटोमोटिव इंटिग्रेटेड...

झारखंड : 50 सीटों पर अकेले चुनाव लड़ेगी लोजपा, जारी किए 5 उम्मीदवारों के नाम (लीड-2)

नई दिल्ली, 12 नवंबर (आईएएनएस)। केंद्र में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की अगुआई वाले सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में शामिल लोक जनशक्ति पार्टी...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -