Thu. Jun 13th, 2024
    'बटला हाउस' स्टार जॉन अब्राहम को धर्मनिरपेक्ष नहीं लगती हिंदी फिल्म इंडस्ट्री

    जॉन अब्राहम इन दिनों अपनी आगामी फिल्म ‘बटला हाउस‘ का प्रचार कर रहे हैं। हाल ही में, मुंबई में एक समारोह के दौरान उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री के धर्मनिरपेक्ष न होने पर बात की। उनके मुताबिक, “आपको किसने बताया कि इंडस्ट्री धर्मनिरपेक्ष है? इंडस्ट्री 100 प्रतिशत धर्मनिरपेक्ष नहीं है। यह ध्रुवीकृत है। यह जीवन का एक तथ्य है।

    उन्होंने कहा-“समस्या यह है कि दुनिया ध्रुवीकृत है। मेरी फिल्म में एक संवाद है, ‘ऐसा नहीं है कि एक विशेष समुदाय पीड़ित है, पूरी दुनिया पीड़ित है।’ (डोनाल्ड) ट्रम्प को देखो, ब्रेक्सिट को देखो, बोरिस जॉनसनको देखो- दुनिया आज ध्रुवीकृत है। आप इस दुनिया में रह रहे हैं, इसलिए, आपको इससे निपटना होगा। साथ ही, मुझे लगता है कि यह सबसे अच्छा देश और सबसे अच्छी इंडस्ट्री है।”

    https://www.instagram.com/p/B0kc-acF-KU/?utm_source=ig_web_copy_link

    46 वर्षीय अभिनेता का मानना है कि सोशल मीडिया को गंभीरता से नहीं लिया जाना चाहिए क्योंकि जो लोग ट्रोल करते हैं, उनके पास चेहरा नहीं है।

    सोशल मीडिया पर गैर-जिम्मेदाराना बयान साझा करने वाले लोगों के बारे में बात करते हुए, जॉन ने कहा-“ज्यादातर आप सोशल मीडिया पर यह सब देखते हैं क्योंकि जब आप एक दर्शक के रूप में बैठे होते हैं, तो कुछ ऐसा होता है जो वास्तव में हमारी भावनाओं को नियंत्रित करता है और हमें गैर-जिम्मेदाराना बयान देने से रोकता है। सोशल मीडिया पर, हममें से किसी के पास वास्तव में कोई चेहरा नहीं है, यही वजह है कि आप सबसे जहरीले बयानों को उभरते देखते हैं। सोशल मीडिया पर विश्वास न करें।”

    https://www.instagram.com/p/B0A_wk7FoB4/?utm_source=ig_web_copy_link

    जॉन की फिल्म ‘बटला हाउस’ 2008 के दिल्ली के बटला हाउस मुठभेड़ मामले से प्रेरित है, और स्वतंत्रता दिवस पर बॉक्स ऑफिस पर अक्षय कुमार की ‘मिशन मंगल’ से भिड़ने के लिए तैयार है।

    क्लैश के बारे में बात करते हुए, जॉन ने कहा-“मुझे लगता है कि अच्छी बात यह है कि दो बहुत ही विश्वसनीय फिल्में रिलीज़ हो रही हैं। व्यवसाय की बात करें तो उस दिन दो फिल्मों के लिए पर्याप्त व्यवसाय है – अक्षय और मैं दोनों जानते हैं। मुझे लगता है कि यह दर्शकों के लिए बहुत अच्छा दिन है, वे विजेता हैं क्योंकि उन्हें दो बहुत अच्छी फिल्मों में से चयन करना है।”

    https://www.instagram.com/p/B078w9EHDyH/?utm_source=ig_web_copy_link

    अपनी फिल्म के बारे में बात करते हुए, जॉन कहते हैं-“‘बटला हाउस’ एक एज-ऑफ-सीट थ्रिलर है। इसलिए, भले ही आप घटना के बारे में परवाह न करें, फिर भी फिल्म आपके लिए काम करती है। निर्देशक निखिल आडवाणी और लेखक रितेश शाह को श्रेय जाता है जिन्होंने फिल्म में चार साल का शोध किया है। न केवल आपके पास एक थ्रिलर है, बल्कि जब आप थिएटर से बाहर निकलते हैं, तो आप अपना सिर खुजलाएंगे और इस तथ्य पर अचंभा करेंगे कि यह भी सच था।”

    स्क्रीन पर सच्ची घटनाओं को दिखाने के बॉलीवुड रुझान के बारे में उन्होंने कहा-“चाहे ‘आर्टिकल 15’ हो, ‘सुपर 30’ या ‘उरी’ हो, मुझे लगता है कि हम अब अच्छी कहानियां बता रहे हैं। मैं विश्वास करना चाहता हूँ कि ‘बटला हाउस’ उन असाधारण अच्छी कहानियों में से एक है जिन्हें बताया जा रहा है। मुझे नहीं लगता कि यह एक चलन है। मुझे लगता है, आपको वह करना चाहिए जिसमे वास्तव में आपको विश्वास है। इसलिए, यदि आप एक वास्तविक जीवन किरदार या घटना पर एक कहानी बनाना चाहते हैं, तो आप इसे बनाइये। यदि आप एक काल्पनिक कहानी बताना चाहते हैं, तो यह करें। सब कुछ काम करता है।”

    निखिल आडवाणी द्वारा निर्देशित ‘बटला हाउस’ में मृणाल ठाकुर, रवि किशन और राजेश शर्मा भी प्रमुख भूमिकाओं में हैं।

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *