दा इंडियन वायर » राजनीति » बंगाल की सियासत में ओपीनियन पोल का ट्विस्ट
राजनीति समाचार

बंगाल की सियासत में ओपीनियन पोल का ट्विस्ट

पश्चिम बंगाल की सियासत दिन-ब-दिन पेचीदा होती जा रही है। हाल ही में पश्चिम बंगाल की सियासत में एक मजेदार ट्विस्ट देखने को मिला है। बहुत ही कम समय में पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव होने हैं। बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर है। वहीं इसी बीच एबीपी न्यूज़ सी वोटर का सर्वे सामने आया है। इस सर्वे के अनुसार ममता बनर्जी सत्ता में वापसी कर सकती हैं।

यह देखना भी दिलचस्प है कि बीजेपी की लगातार रैलियां और एक के बाद एक नए चुनावी दांव पेंच ममता बनर्जी पर भारी पड़ सकते हैं। साथ ही पार्टी से लगातार विधायक और बड़े दिग्गज नेताओं का खिसकना भी ममता बनर्जी के चुनाव में जीत की दावेदारी को कमजोर कर रहा है। बीजेपी लगातार ममता बनर्जी को मुख्यमंत्री की कुर्सी से हटाने की पूरी कोशिश कर रही है। वहीं ममता बनर्जी भी धीरे-धीरे ही सही पर अपनी जीत को सुनिश्चित करने के लिए कोई ना कोई कदम उठा रही है।

ऐसे में इस सर्वे के अनुसार विधानसभा की 294 सीटों में से 154 सीटें तृणमूल के खाते में जा सकती हैं वहीं बीजेपी लगभग 106 तक पर काबिज़ हो सकती है। देखा जा रहा है कि तृणमूल को बढ़त मिलती दिख रही है हालांकि बीजेपी की दिन ब दिन बंगाल में बढ़ती गतिविधियां चुनाव तक पासा पलट सकती हैं।

इसी बीच शिवसेना ने भी बंगाल में एंट्री करने का मन बना लिया है। शिवसेना के नेता संजय राउत का कहना है कि शिवसेना पश्चिम बंगाल में 10 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। शिवसेना का यह कदम भी पश्चिम बंगाल के राजनीतिक समीकरण को कहीं ना कहीं प्रभावित कर सकता है। संजय राउत ने ट्वीट कर के ये जानकारी दी है। शिवसेना यदि बंगाल में एन्ट्री करती है तो इसका असर बीजेपी की हिंदुवादी छवि पर हो सकता है। तृणमूल कांग्रेस के लिए ये राहत भरी खबर हो सकती है।

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!