गुरूवार, नवम्बर 14, 2019

फिटनेस में सुधार कैंसर की संभावना को कर सकता है कम

Must Read

गन्ने को प्रदेश के औद्योगिक विकास की बुनियाद बनाएंगे : योगी

लखनऊ, 13 नवम्बर(आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को यहां कहा कि भविष्य में गन्ना प्रदेश...

शी चिनफिंग ने एक्रोपोलिस संग्रहालय का दौरा किया

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और उनकी पत्नी फंग लीयुआन ने 12 नवंबर को ग्रीस के...

हांगकांग चीन का घरेलू मामला : चीन

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। हांगकांग चीन का हांगकांग है। हांगकांग का मामला चीन का घरेलू मामला है। कोई भी...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

न्यूयॉर्क, 6 मई (आईएएनएस)| फिटनेस का सकारात्मक प्रभाव हमारे दिल पर पड़ता है, इस बारे में हम सभी जानते हैं। एक नए अध्ययन से इस बात का पता चलता है कि जिनमें फिटनेस कम होता है उनकी तुलना में जिन वयस्कों में फिटनेस की मात्रा अधिक होती है उनमें फेफड़े व कोलोरेक्टल कैंसर या कोलन कैंसर या वृहदांत्र कैंसर के होने की संभावना बहुत कम हो जाती है।

इस शोध के लिए शोधकर्ताओं ने 49,143 वयस्कों पर साल 1991 से 2009 तक एक्सरसाइज स्ट्रेस टेस्टिंग किया।

शोध के निष्कर्ष से पता चला कि उच्चतम फिटनेस की श्रेणी में आने वाले लोगों में फेफड़े के कैंसर के विकास की संभावना 77 प्रतिशत और कोलन कैंसर के विकास की संभावना 61 प्रतिशत कम हो गई।

कैंसर नामक जर्नल में इस शोध को प्रकाशित किया गया है। इसमें दर्शाया गया है कि फेफड़े के कैंसर से ग्रस्त व्यक्तियों में से जिनमें फिटनेस की मात्रा उच्चतम थी, जांच के दौरान उनके मरने की संभावना में 44 प्रतिशत की कमी आई और कोलन कैंसर से पीड़ित व्यक्तियों में अधिक फिटनेस की श्रेणी में आने वाले लोगों में 89 प्रतिशत की कमी आई।

अमेरिका में जॉन होपकिन्स विश्वविद्यालय के सहायक प्राध्यापक कैथरीन हैंडी मार्शल ने कहा, “कैंसर के परिणामों पर फिटनेस के प्रभाव को देखने के लिए हमारा यह शोध सबसे वृहद और विविध समूहों की इकाई में से एक है।”

मार्शल ने आगे यह भी कहा, “आमतौर पर आजकल डॉक्टरों के पास जाकर लोग फिटनेस टेस्टिंग करवाते हैं। पहले से ही कई लोगों के पास इसके परिणाम हो सकते हैं और उन्हें यह सूचित किया जा चुका है कि फिटनेस का कैंसर की संभावनाओं पर क्या प्रभाव है और इसके साथ ही फिटनेस का स्तर अन्य चीजों जैसे कि दिल की बीमारियों के लिए क्या मायने रखती है।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

गन्ने को प्रदेश के औद्योगिक विकास की बुनियाद बनाएंगे : योगी

लखनऊ, 13 नवम्बर(आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को यहां कहा कि भविष्य में गन्ना प्रदेश...

शी चिनफिंग ने एक्रोपोलिस संग्रहालय का दौरा किया

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और उनकी पत्नी फंग लीयुआन ने 12 नवंबर को ग्रीस के राष्ट्रपति प्रोकोपिस पावलोपोलोस दंपति के...

हांगकांग चीन का घरेलू मामला : चीन

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। हांगकांग चीन का हांगकांग है। हांगकांग का मामला चीन का घरेलू मामला है। कोई भी विदेशी सरकार, संगठन और निजी...

मोदी हर काम में पादर्शिता चाहते हैं : साध्वी निरंजन ज्योति

नई दिल्ली, 13 नवंबर (आईएएनएस)। ग्रामीण विकास राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चाहते हैं कि हर काम...

बीबी की आदतों से आजिज इंजीनियर पति ने जान दे दी

फरीदाबाद, 13 नवंबर (आईएएनएस)। बीबी से आए-दिन होने वाली चिक-चिक से परेशान इंजीनियर ने जहर खा लिया। उसे गंभीर हाल में अस्पताल में दाखिल...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -