दा इंडियन वायर » राजनीति » अगर प्रधानमंत्री दिल्ली के मुख्यमंत्री की रक्षा नहीं कर सकते तो उन्हें पद छोड़ देना चाहिए: अरविन्द केजरीवाल
राजनीति समाचार

अगर प्रधानमंत्री दिल्ली के मुख्यमंत्री की रक्षा नहीं कर सकते तो उन्हें पद छोड़ देना चाहिए: अरविन्द केजरीवाल

अरविन्द केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए कहा कि अगर वो एक मुख्यमंत्री कि रक्षा नहीं कर सकते तो उन्हें पद इस्तीफ़ा दे देना चाहिए। केजरीवाल का इशारा दिल्ली सचिवालय में खुद पर हुए मिर्ची पाउडर हमले कि ओर था।

पार्टी मुख्यालय में बोलते हुए केजरीवाल ने दावा किया कि आम आदमी पार्टी की सरकार ने अपने 3 सालों के शासन में उतना काम किया है जितना नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री रहते हुए गुजरात में 12 सालों में भी नहीं किया।

उन्होंने अपनी तारीफ़ करते हुए कहा ‘दिल्ली की जनता ईमानदार मुख्यमंत्री पाकर गर्व का अनुभव करती है। मैं देश की जनता से पूछना चाहता हूँ कि क्या वो भी अपने प्रधानमंत्री के बार में ऐसा ही महसूस करते हैं।’

केजरीवाल ने राफेल डील, नीरव मोदी और विजय माल्या को लेकर केंद्र सरकार को घेरने की कोशिश की।

विकास के गुजरात मॉडल पर निशाना साधते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा ‘मैं चुनौती देता हूँ, आम आदमी सरकार ने दिल्ली में इतना काम किया है जितना नरेंद्र मोदी ने गुजरात में नहीं किया 12 सालों में।’

विधानसभा में उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से इस्तीफे कि मांग करते हुए कहा ‘अगर वो एक मुख्यमंत्री को सुरक्षा नहीं दे सकते तो उन्हें अपना पद छोड़ देना चाहिए।’

केजरीवाल ने खुद पर हुए मिर्ची पाउडर हमले का आरोप भाजपा पर लगाते हुए कहा कि दिल्ली में अच्छे कामों को रोकने के लिए भाजपा ने ये हमला करवाया है।

हमले के बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह के फोन कॉल का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा ‘मैंने राजनाथ जी से कहा, आप या तो एकदम बेकार है या ये आपकी मिली भगत है।’

केजरीवाल पर हुए हमले की चर्चा के लिए दिल्ली सरकार ने विधानसभा में एक दिन का विशेष सत्र आयोजित किया था।

दिल्ली पुलिस के बारे में उन्होंने कहा कि 95 फीसदी पुलिस वाले अच्छे हैं लेकिन वो भाजपा के इशारे पर काम करते हैं। अगर दिल्ली पुलिस दिल्ली सरकार के अंतर्गत काम करे तो लोगों कि अच्छाई के लिए काम कर सकती है।

About the author

आदर्श कुमार

आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!