पेट के बारे में जानकारी, कार्य प्रणाली, बीमारियाँ

stomach information in hindi पेट के बारे में जानकारी


पेट को अमाशय भी कहा जाता है। यह एक ऐसा अंग है जो मांसपेशियों का बहुत बड़ा समूह है एवं उदर (abdomen) के दाएं हिस्से में पाया जाता है।

जब आप खाना खाते हैं तो ग्रासनली (esophagus) के माध्यम से वह पेट में जाता है। छोटी आंतों में प्रवेश होने से पहले पेट में खाना कुछ देर होता है।

पेट की कार्य प्रणाली (Function of Stomach in Hindi)

पेट bean के समान दिखता है और निचले रिब हड्डी के पीछे स्थित है। जब खाना पेट में पहुँचने वाला होता है तो पेट के शुरुआत में खाना दब जाता है और छोटी आंत के शुरुआत में  पहुँच के रुक जाता है।

पेट
पेट

पेट की पतली परतों से हाइड्रोक्लोरिक एसिड एवं दूसरे एन्ज़यम निकलते हैं जो खाने को तोड़ने का काम करते हैं ताकि पाचन प्रणाली का कार्य सुचारु रूप से जारी रहे।

जैसे जैसे एसिड एवं एंजाइम अपना काम करते हैं, पेट की मांसपेशियां फ़ैल जाती हैं, इस प्रतिक्रिया को peristalsis कहते हैं।

अगर खाना और पानी के साथ नुकसान पहुँचाने वाले बैक्टीरिया या जीवाणु शरीर में पहुँच गए हों, तो ये एसिड उसको मारने का काम करते हैं।

सिर्फ एसिड के होने से पेट के मांसपेशियों को नुकसान पहुँच सकता है, अतः हाइड्रोक्लोरिक एसिड एक प्रकार के चिपचिपे पदार्थ (mucus) के साथ मिश्रित रहते हैं। इस प्रकार पेट की मांसपेशियों पर एसिड का कोई बुरा प्रभाव भी नहीं पड़ता और ठीक से काम भी हो जाता है।

पेट के अंदर एक प्रकार के पदार्थ का भी निर्माण होता है जो विटामिन B12 सोखने के लिए जरुरी होता है।

पेट पाचन तंत्र प्रणाली का सबसे बड़ा अंग है। यह सिर्फ खाने को पचने में ही मदद नहीं करता, बल्कि उसको संग्रहित करके भी रखता है।

एक शोध के अनुसार एक बार में पेट लगभग एक लीटर के बराबर का खाना संग्रहित करके रख सकता है। पेट का आकार एवं बनावट इस प्रकार बना रहता है कि अगर कोई व्यक्ति बहुत अधिक मात्रा में खाना खा भी ले तो धीरे धीरे उसका पाचन होता रहेगा।

औसतन खाने को पचने में चार से छह घंटे लगते हैं या कभी कभी उससे भी ज्यादा समय लग जाता है। किसी खाने में फैट कि मात्रा जितनी ज्यादा होगी, उसको पचने में उतना ज्यादा समय लगेगा।

पेट की कुछ बीमारियां (Diseases of Stomach in Hindi)

पेट में गड़बड़ी की वजह से कई प्रकार के दर्द, पाचन सम्बन्धी समस्या, बीमारियां आदि हो जाती हैं, जिनका सही वक्त पर इलाज होना जरुरी है।

पेट की सबसे आम बीमारी है – Dypepsia। यह बीमारी तब होती है जब जरुरत से ज्यादा खाना खा लिया जाता है जिसकी वजह से पेट में दर्द या जलन शुरू हो जाता है।

कई अन्य बीमारी है – पेट का ulcer, Gastroesophageal Reflux Disease, पेट का कैंसर इत्यादि। समय पर पहचान में आने पर इनका इलाज संभव है।

पेट की देखभाल कैसे रखें? (How to Take Care of Stomach in Hindi)

पेट को कई बीमारियों से बचाने के लिए कुछ उपाय हैं:

  • छोटे छोटे मात्रा में खाना खाएं।
  • कोल्ड ड्रिंक का सेवन करना छोड़ दें।
  • धूम्रपान नहीं करें।
  • खाना खाने के बाद तुरंत सोने नहीं जाना चाहिए।
  • प्रतिदिन आठ से दस ग्लास पानी का सेवन कीजिए।
  • प्रतिदिन व्यायाम करना चाहिए और वजन हमेशा नियंत्रण में रहना चाहिए।

आप अपने सवाल एवं सुझाव नीचे कमेंट बॉक्स में व्यक्त कर सकते हैं।

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here