Fri. May 24th, 2024
    पेट्रोल को जीएसटी दायरे में लाने के लिए सरकार तैयार

    मंगलवार को एक बार फिर से इंधन के भावों में तेजी दर्ज की गयी। इससे मुख्य महानगरों में पेट्रोल ईवा डीजल के भाव बढ़ गए। जहां पेट्रोल के भावों में 7 पैसों तक की तेजी देखी गयी वहीँ डीजल के भाव भी 10 से 11 पैसों तक बढ़ गए।

    दिल्ली में पेट्रोल डीजल के दाम :

    राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पेट्रोल के दाम रविवार के 72.17 रूपए प्रति लीटर के भाव की तुलना में 7 पैसे बढ़कर आज पेट्रोल दिल्ली में 72.24 रूपए प्रति लीटर के भाव पर खुदरा बिक्री कर रहा है। इसके साथ ही दील्ली में डीजल के भाव में भी 10 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी देखी गयी जिससे डीजल के दाम रविवार के 67.54 रूपए प्रति लीटर की तुलना में आज सोमवार को 67.64 रूपए प्रति लीटर पर बिक्री कर रहा है।

    अन्य शहरों में दाम :

    कोलकाता में नागरिकों को एक लीटर पेट्रोल के लिए 74.33 रूपए चुकाने पड़ रहे हैं। कोलकाता में रविवार के 74.26 रूपए प्रति लीटर की पेट्रोल की कीमत की तुलना में आज सोमवार को 75 पैसों की बढ़ोतरी देखी गयी। इसके अलावा कोलकाता में डीजल के भावों में रविवार 69.33 रूपए प्रति लीटर के भावों की तुलना में आज सोमवार को 10 पैसों का इजाफा हुआ जिससे ये आज 69.43 रूपए प्रति लीटर के भावों पर खुदरा बिक्री कर रहा है।

    मुंबई शहर में भी पेट्रोल के खुदरा दामों में सोमवार को 7 पैसों का इजाफा देखा गया जिससे सोमवार के 77.80 रूपए प्रीत लीटर के भाव के मुकाबले आज पेट्रोल 77.87 रूपए प्रति लीटर पर बिक्री कर रहा है। इसके साथ ही डीजल के भावों में भी मुंबई में 10 पैसों की बढ़ोतरी हुई जिससे आज यह 70.86 रूपए प्रति लीटर के भाव पर बिक रहा है।

    पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोतरी के कारण :

    इंधन के खुदरा दामों का मुख्य कारक इसके थोक के भाव को माना जाता है। इसके बैरल के भाव बढ़ने से इसका भी दाम बढ़ जाता है एवं बैरल के भाव कम होने से पेट्रोल एवं डीजल के भावों में भी गिरावट आती है। बैरल के भाव उसकी मांग एवं आपूर्ति के कारण बढ़ते एवं घटते है। ब्रेंट क्रूड फ्यूचर्स शुक्रवार को $54 से भी नीचे 53.82 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ। यह 2017 की दूसरी तिमाही के बाद से सबसे निचला स्तर है। यह पिछले हफ्ते 12 फीसदी से अधिक गिर गया था। 

    By विकास सिंह

    विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *