Fri. Mar 1st, 2024
    पेट्रोल को जीएसटी दायरे में लाने के लिए सरकार तैयार

    सोमवार को नियमित संशोधन के बाद मुख्य महानगरों में पेट्रोल के भावों में तेजी देखी गयी और इसके साथ साथ डीजल के भावों में भी बढ़ोतरी हुई। पेट्रोल के भावों में जहां 5 पैसे प्रति लीटर तक बढ़ गए वहीं डीजल के भावों में 6 से 7 पैसे प्रति लीटर तक बढ़ोतरी हो गयी।

    दिल्ली में पेट्रोल डीजल के दाम :

    राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पेट्रोल की कीमतें सोमवार को 5 पैसे बढ़ कर 70.33 रुपये प्रति लीटर हो गईं, जबकि रविवार को यह 70.28 रुपये प्रति लीटर पर बिक्री कर रही थी। इसके साथ ही कल की तुलना में राष्ट्रीय राजधानी में डीजल 6 पैसे महंगा होकर 65.62 रुपये हो गया यह रविवार को 65.56 रुपए प्रति लीटर बिक रहा था।

    अन्य महानगरों में पेट्रोल-डीजल के भाव :

    कोलकाता में भी पेट्रोल के भाव 5 पैसे प्रति लीटर से बढ़कर अब 72.44 रूपए पर पहुँच गए हैं और इसके साथ डीजल के दामों में 6 पैसे की वृद्धि हुई। कोल्कता में डीजल अब रविवार के 67.34 रूपए प्रति लीटर के भाव की तुलना में अब 67.40 प्रति लीटर पर बिक रहा है।

    इसके अलावा चेन्नई में भी पेट्रोल के भाव रविवार को 72.95 थे जोकि सोमवार को 5 पैसे बढ़कर अब 73 रूपए हो गए हैं। डीजल के भावों में भी चेन्नई में 7 पैसे की वृद्धि हुई और अब ये 69.32 हो गए हैं। इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन की वेबसाइट के आंकड़ों के मुताबिक, मुंबई में पेट्रोल 75.97 रुपये प्रति लीटर पर बिक रहा है जिसमे रविवार के 75.92 रुपये के मुकाबले 5 पैसे की बढ़ोतरी हुई है, जबकि डीजल की कीमत 68.71 रुपये पर पहुंच गई, जो कल 68.65 रुपये प्रति लीटर से 6 पैसे अधिक है।

    क्या है इस बढ़ोतरी का कारण ?

    इंधन के खुदरा दामों का मुख्य कारक इसके थोक के भाव को माना जाता है। इसके बैरल के भाव बढ़ने से इसका भी दाम बढ़ जाता है एवं बैरल के भाव कम होने से पेट्रोल एवं डीजल के भावों में भी गिरावट आती है। बैरल के भाव उसकी मांग एवं आपूर्ति के कारण बढ़ते एवं घटते है। ब्रेंट क्रूड फ्यूचर्स शुक्रवार को $54 से भी नीचे 53.82 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ। यह 2017 की दूसरी तिमाही के बाद से सबसे निचला स्तर है। यह पिछले हफ्ते 12 फीसदी से अधिक गिर गया था। 

    By विकास सिंह

    विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *