Wed. Jul 24th, 2024
    पेट्रोल एवं डीजल

    नई दिल्ली, 28 अप्रैल (आईएएनएस)| राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली समेत देश के अन्य हिस्सों में रविवार को पेट्रोल और डीजल के दाम में स्थिरता बनी रही। उधर, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में भी पिछले सप्ताह के आखिरी सत्र में भारी गिरावट दर्ज की गई, जिससे आने वाले दिनों में पेट्रोल और डीजल की महंगाई बढ़ने की आशंका थोड़ी कम हुई है।

    अमेरिका द्वारा ईरान पर आर्थिक प्रतिबंध लगाने के बाद वहां से तेल आयात करने वाले देशों को दी गई छूट की समय सीमा दो मई को समाप्त करने की घोषणा के बाद अंतर्राष्ट्रीय बाजार में ब्रेंट क्रूड का भाव पिछले सप्ताह 75 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर चला गया था। हालांकि बाद में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के ट्वीट के बाद बेंट्र के दाम में 3.67 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई।

    अमेरिकी राष्ट्रपति ने ट्वीट के माध्यम से कहा कि तेल उत्पादक देशों के समूह ओपेक के प्रमुख सदस्य सऊदी अरब, इराक और संयुक्त अरब अमीरात को तेल का उत्पादन बढ़ाने को कहा गया है।

    हालांकि तेल बाजार के जानकार बताते हैं कि तेल के दाम में आई तेजी या मंदी का असर भारत में पेट्रोल और डीजल के दाम पर करीब दो सप्ताह के बाद देखने को मिलता है। ऐसे में आने वाले दिनों में पहले तेल के दाम में वृद्धि का ही असर देखने को मिलेगा।

    जानकार यह भी बताते हैं कि पेट्रोल और डीजल के मूल्य निर्धारण में अंतर्राष्ट्रीय बाजार में तेल के दाम में तेजी या मंदी के अलावा कुछ और कारकों को भी ध्यान में रखा जाता है। ऐसे में संभव है कि मौजूदा चुनावी माहौल में तेल के दाम में ज्यादा पर्वितन न हो।

    इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल के दाम पूर्ववत क्रमश: 73.08 रुपये, 75.10 रुपये, 78.65 रुपये और 75.85 रुपये प्रति लीटर दर्ज किए। चारों महानगरों में डीजल के दाम भी क्रमश: 66.61 रुपये, 68.35 रुपये, 69.72 रुपये और 70.34 रुपये प्रति लीटर बने रहे।

    एक दिन की स्थिरता के बाद पेट्रोल के दाम में शनिवार को फिर बढ़ोतरी दर्ज की गई, लेकिन डीजल के दाम स्थिर रहे।

    अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज (आईसीई) पर ब्रेंट क्रूड का जून अनुबंध पिछले सत्र के मुकाबले शुक्रवार को 3.67 फीसदी की गिरावट के साथ 71.62 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ। इस सप्ताह ब्रेंट क्रूड 75.60 डॉलर प्रति बैरल तक उछला था, जो कि अक्टूबर 2018 के बाद का सबसे ऊंचा स्तर है।

    न्यूयार्क मर्केंटाइल एक्सचेंज (नायमैक्स) पर अमेरिकी लाइट क्रूड वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट(डब्ल्यूटीआई) का जून अनुबंध 3.63 फीसदी की गिरावट के साथ 62.84 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ।

    भारतीय वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) मई अनुबंध कच्चा तेल वायदा 223 रुपये यानी 4.81 फीसदी की गिरावट के साथ 4,414 रुपये प्रति बैरल पर बंद हुआ।

    By पंकज सिंह चौहान

    पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *