Sat. Apr 13th, 2024
    पेटीएम मॉल

    अलीबाबा के द्वारा स्वामित्व वाली कंपनी Paytm Mall के बाज़ार छोड़ने के हालत लग रहे हैं हालांकि कुछ समय पहले इसने अपने बिज़नस मॉडल को भी बदला लेकिन उससे भी इसे कोई फायदा नहीं हो रहा है जिसके चलते शायद पैरेंट कंपनी ने इसे स्थगित करने का फैसला ले लिया है।

    अक्टूबर 2018 से शुरू हुआ पतन :

    सूत्रों के अनुसार पेटीम मॉल को बंद करने का फैसला अचानक नहीं लिया गया है बल्कि पिछले कुछ समय से इस पर विचार किया जा रहा था। सूत्रों के मुताबिक, कंपनी की बोर्ड मीटिंग्स की एक श्रृंखला के बाद पिछले साल अक्टूबर में पेटीएम मॉल के लिए समस्याएं शुरू हुईं, इस नतीजे पर पहुंचीं कि बी 2 सी मॉडल टिकाऊ नहीं था, और इसे धीरे-धीरे कारोबार को कम करने और ऑनलाइन (ऑफलाइन) रणनीति के साथ बी2बी मॉडल में बदलने की जरूरत है।

    हालांकि उस समय इस फैसले पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया गया और बाज़ार में बढ़त बनाने के लिए अलीबाबा द्वारा दो और कंपनियों का अधिग्रहण किया गया। हालांकि इसके बाद भी पेटीएम मॉल में में कोई ख़ास बदलाव नहीं देखा गया और अब शायद इसे बंद करने का फैसला ले लिया गया है।

    88 प्रतिशत कम हुए ग्राहक :

    विभिन्न व्यवसायों के लिए वेब एनालिटिक्स प्रदान करने वाली न्यूयॉर्क स्थित वेबसाइट सिमिलर वेब के अनुसार, जनवरी 2019 में पेटीएम मॉल का ट्रैफिक घटकर 5 मिलियन प्रति माह हो गया है, जो पिछले साल अक्टूबर में एक महीने में 45 मिलियन आगंतुकों से 88 प्रतिशत कम है। अर्थात केवल 3 महीनों में पेटीएम मॉल की वेबसाइट पर आगंतुकों की संख्या कुल 88 प्रतिशत कम हो गयी है।

    सूत्रों के अनुसार ऐसा होने के बाद कंपनी ने अपने व्यवसाय को धीरे धीर कम करना शुरू कर दिया है, व्यापारियों को इन्वेंटरी लौटा दी गयी है, वेयरहाउस बंद कर दिए गए हैं और इसके साथ ही कंपनी ने बचे उत्पादों पर कैशबैक भी देना बंद कर दिया है।

    विक्रेताओं को हो रहा नुक्सान :

    हालांकि, बी2सी व्यवसाय के स्केलिंग ने कई पेटीएम मॉल विक्रेताओं को प्रभावित किया है, जिन्हें इन्वेंटरी के संबंध में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

    विक्रेताओं ने बताया “पेटीएम ने हमें पिछले साल दिसंबर के लिए एक महीने की इन्वेंट्री स्टॉक करने के लिए कहा और अब हमें इन्वेंट्री वापस को वापस लेने के लिए कहा जा रहा है। उन्होंने कई स्थानों पर पूर्ति केंद्र बंद कर दिए हैं। हम इन अनसोल्ड इन्वेंट्री को अब निर्माताओं को वापस नहीं कर सकते हैं।

    By विकास सिंह

    विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *