Tue. Dec 6th, 2022
    दिल्ली अरविन्द केजरीवाल

    आज दिल्ली विधानसभा ने अपने तीन-दिवसीय अधिवेशन के आखरी दिन पूर्ण राज्य के दर्जे के लिए जरुरी प्रस्ताव एकमत से आरित किया हैं। विधानसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा, “पूर्ण राज्य का दर्जा न होने के कारन दिल्ली को अन्य राज्यों को दिए जानेवाली मुलभुत सुविधाओं से वंचित रखा गया हैं, और यह बात दिल्ली के विकास के लिए बाधक हैं।”

    अपने भाषण में केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए अरविन्द केजरीवाल ने कहा, “केंद्र सरकार अगले साल होनेवाले लोकसभा चुनावों से पहले दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा प्रदान करें। में बीजेपी से कहना चाहता हूँ, अगर दिल्ली को 2019 से पहले पूर्ण राज्य का दर्जा दिया जाता हैं। तो हम यह पक्का करेंगे की दिल्ली की जनता आपको (बीजेपी) को अपना मत दें, लेकिन ऐसा नहीं होता हैं तो यही दिल्ली की जनता बीजेपी दिल्ली छोडो पोस्टर हाथों में लेकर खडी दिखेगी।

    आपको बतादे, आम आदमी पार्टी ने दिल्ली विधानसभा का तीन दिवसीय अधिवेशन बुलाया था। अपने भाषण में मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली के विकास में अडंगा डालने के लिए उपराज्यपाल अनिल बैजल और पूर्व उपराज्यपाल नजीब जंग पर निशाना साधा।

    केजरीवाल ने कहा, “दिल्ली पर कई शासकों ने राज्य किया हैं, अकबर, औरंगजेब, बहादुर शाह जफ़र, अंग्रेज़। 2013 से 2016 तक दिल्ली पर महाराज नजीब जंग ने राज किया और अब महाराज अनिल बैजल राज कर रहे हैं। हमें दिल्ली की जनता ने चुना हैं, लेकिन असलियत में सरकार चलाने के लिए सारी जरुरी शक्तियां केंद्र सरकार ने उपराज्यपाल के हाथों में दे रखी हैं।”

    पूर्ण राज्य का दर्जा मिलने के बाद किए जानेवाली विकास कार्यों के बारें में सदन में बोलते हुए केजरीवाल ने कहा, “अगर दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिया जाता हैं, तो हर परिवार को घर मिलेगा और हर एक(काबिल युवाओं को) काम मिलेगा।

    दिल्ली सरकार द्वारा राज्य में कॉलेजों के निर्माण के लिए केंद्र को 3-4 प्रस्ताव भेजे थे मगर एक प्रस्ताव का भी जवाब नहीं दिया गया। अगर दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा मिलता हैं, तो अपने पांच साल के कार्यकाल के अन्दर सरकार दिल्ली में 100 से ज्यादा कॉलेजों का निर्माण कराएगी।”

    कांग्रेस और बीजेपी पर निशाना साधते हुए सीएम केजरीवाल ने कहा की दोनों दलों ने अपने चुनावी वादों में दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने की बात कही थी, मगर अब वे अपने वादों से पीछे हट रहे हैं।

    दिल्ली विधानसभा में नेता विपक्ष, विजेंदर गुप्ता और बीजेपी विधायक एम एस सिरसा को पूर्ण राज्य के विषय पर चर्चा शुरू होने से पहले, स्पीकर ने सदन से बाहर निकला। विजेंदर गुप्ता ने कहा आप सरकार अपनी खामियां छुपाने के लिए जनता का ध्यान भटका रही हैं।

    By प्रशांत पंद्री

    प्रशांत, पुणे विश्वविद्यालय में बीबीए(कंप्यूटर एप्लीकेशन्स) के तृतीय वर्ष के छात्र हैं। वे अन्तर्राष्ट्रीय राजनीती, रक्षा और प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेज में रूचि रखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *