पीवी सिंधु और साइना नेहवाल 83वीं सीनियर राष्ट्रीय बैडमिंटन चैंपियनशिप में खेलते नजर आएंगे

साइना, पीवी सिंधु

भारत की टॉप शटलर पीवी सिंधु और साइना नेहवाल 12 फरवरी से शुरू होने वाले 83वीं सीनियर राष्ट्रीय बैडमिंटन चैंपियनशिप में भाग लेंगे। यह टूर्नामेंट गुवाहटी में 50 लाख की विजेता राशि के लिए खेला जाएगा। इससे पहले साल 2010 में गुवाहटी ने इस टूर्नामेंट की मेजबानी की थी।

50 लाख की विजेता राशि वाले इस टूर्नामेंट की शुरूआत 74वीं अंतर-क्षेत्रीय टूर्नामेंट से शुरू की जाएगी। जिसके मैच 10 और 11 फरवरी को खेले जाएंगे। उसके बाद खिलाड़ी 12 फरवरी से व्यक्तिगत तौर पर अपना-अपना ड्रॉ खेलेंगे।

बीडब्ल्यूएफ रैंकिंग के शीर्ष 8 खिलाड़ी चाहे वह पुरूष या महिला वह इस अभियान की शुरूआत 14 फरवरी से सीधे प्री-क्वार्टरफाइनल मुकाबले से करेंगे।

डबल्स में, शीर्ष 50 के भीतर शीर्ष 4 टीमों को क्वार्टर फाइनल में रखा जाएगा। सिंग्लस मैच में 16 वीरयता प्राप्त खिलाड़ी होंगे, जबकि युगल में 8 जोड़ियो को जगह मिल पाएगी।

महिला खिलाड़ियो में गत चैंपियन साइना नेहवाल और पिछले संस्करण की उपविजेता खिलाड़ी पीवी सिंधु पर सबकी निगाहे होंगी।

साइना नेहवाल ने नए बीडब्ल्यूएफ सीजन की एक अच्छी शुरूआत की है और उन्होने हाल ही में इंडोनेशिया मास्टर्स का खिताब अपने नाम किया है। वह अपनी इस जीत की लय को आगे भी रखना चाहेगी और और उनकी निगाहे चौथे राष्ट्रीय टूर्नामेंट जीतने पर होगी।

पीबीएल में नॉर्थ ईस्टन वॉरियर्स का नेतृत्व कर चुकी साइना इस क्षेत्र में खेल के विकास को देखने के लिए उत्सुक हैं।

साइन ने कहा, ” मैंने इस पीबीएल सीजन में नॉर्थ ईस्टन वॉरियर्स का नेतृत्व किया था, हालांकि हम नॉर्थईस्ट में मैच नही खेल पाए थे। गुवाहटी में इसका आयोजन होने से हमे पूर्वोत्तर के प्रशंसको के सामने खेलने का मौका मिलेगा और मैं इसके प्रतियोगिता के लिए आगे देख रही हूं।”

हालांकि, पुरूष सिंगल्स मैच में थोड़ा कम रोमांच देखने को मिलेगा क्योंकि गत चैंपियन प्रयण और उपविजेता किंदाबी श्रीकांत चोट के कारण इस राष्ट्रीय टूर्नामेंट में भाग नही ले पाएंगे।

इन दोनो खिलाड़ियो की अनउपस्थिति में, समीर वर्मा और पी. कश्यप पर सबकी नजर बनी रहेगी।

युवा खिलाड़ी लक्ष्य सेन जो इस टूर्नामेंट के पिछले सीजन में सेमीफाइनल तक पहुंचे थे। वो भी इस बार यहा पर अपना प्रभाव छोड़ना चाहेंगे। इससे पहले सेन ने पिछले साल विश्व जुनियर चैंपियन शिप, यूथ ओलंपिक और एशियन ओलंपिक जूनियर में अपने नाम खिताब किया था।

युगल प्रतियोगिताओ की बात करे तो कुछ युवा खिलाड़ियो की प्रतिभा देखने को मिल सकती है।

बीएआई की अध्यक्ष हिमांता बिस्वा का कहना है, ” हमारा लक्ष्य यह है कि यह खेल देश के हर कौने तक फैले, ताकि फैंस अपने पसंदीदा खिलाड़ियो को लाइव देख सके।”

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here