Tue. Jun 18th, 2024
    पीएम मोदी 22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर के उद्घाटन में होंगे शामिल

    पीएम मोदी 22 जनवरी, 2024 को अयोध्या में राम मंदिर के उद्घाटन में शामिल होंगे। पीएम मोदी ने बुधवार को कहा, “मैं खुद को बहुत धन्य महसूस कर रहा हूं। ये मेरा सौभाग्य है कि अपने जीवनकाल में, मैं इस ऐतिहासिक अवसर का साक्षी बनूंगा।”

    राम मंदिर ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने बुधवार को पीएम मोदी से मुलाकात कर उन्हें अयोध्या आने का निमंत्रण दिया था। पीएम मोदी ने इस निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है।

    राम मंदिर ट्रस्ट का कहना है कि मंदिर का गर्भगृह 22 जनवरी को बनकर तैयार हो जाएगा और उसी दिन भगवान राम की मूर्ति स्थापित की जाएगी। ट्रस्ट ने इस अवसर पर 4,000 से अधिक हिंदू धार्मिक नेताओं को 136 सनातन परंपराओं से आमंत्रित करने की योजना बनाई है। इसके अलावा 25,000 गणमान्य व्यक्ति भी इस कार्यक्रम में भाग लेंगे।

    राम मंदिर के परिसर में शिव, देवी अन्नपूर्णा और भगवती, गणेश, हनुमान और सूर्य के मंदिर भी होंगे। यज्ञ/अनुष्ठान मंडप, धार्मिक नेताओं के लिए एक विश्राम गृह और एक प्रशासनिक भवन आदि जैसी अन्य सुविधाओं के अलावा वाल्मिकी, वशिष्ठ, विश्वामित्र, जटायु और सबरी जैसे पौराणिक संतों के मंदिरों की भी योजना बनाई गई है।

    कॉम्प्लेक्स को शून्य डिस्चार्ज के लक्ष्य के साथ विकसित किया जा रहा है। दो सीवरेज उपचार संयंत्रों की योजना बनाई गई है और उपचारित पानी का उपयोग फ्लशिंग और सिंचाई उद्देश्यों के लिए किया जाएगा, जिससे नगर निगम पर बोझ कम होगा।

    वर्ष 2019 में, सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर के निर्माण के पक्ष में फैसला सुनाया। कोर्ट ने कहा कि राम मंदिर के निर्माण के लिए 2.77 एकड़ जमीन दी जाए और मुसलमानों को मस्जिद के निर्माण के लिए वैकल्पिक रूप से 5 एकड़ जमीन दी जाए।

    राम मंदिर के उद्घाटन का महत्व

    राम मंदिर का उद्घाटन भारत के लिए एक ऐतिहासिक क्षण होगा। यह भारत के सांस्कृतिक और धार्मिक इतिहास के लिए एक महत्वपूर्ण घटना है। राम मंदिर के उद्घाटन से देश में एकता और भाईचारे को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है।

    राम मंदिर के उद्घाटन से उत्तर प्रदेश के पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। अयोध्या हिंदुओं के लिए एक पवित्र तीर्थस्थल है और हर साल लाखों श्रद्धालु यहां आते हैं। राम मंदिर के उद्घाटन के बाद, अयोध्या में और अधिक श्रद्धालु आने की उम्मीद है।

    राम मंदिर के उद्घाटन से भारत की वैश्विक छवि को भी मजबूत करेगा। यह भारत के समृद्ध सांस्कृतिक और धार्मिक इतिहास का प्रतीक होगा।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *