सोमवार, दिसम्बर 9, 2019

‘सॉलिडेरिटी ऑवर’ की नाकामी के बाद पाक पीएम ने मुज़फ्फराबाद में भव्य जलसे का किया ऐलान

Must Read

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : तीसरे चरण का मतदान तय करेगा आजसू का राजनीतिक भविष्य

झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए दो चरण का मतदान संपन्न हो जाने के बाद सभी दल तीसरे चरण में...

उत्तर प्रदेश में दो और बलात्कार, औरेया में चलती कार में किया रेप, बिजनौर में नाबालिग के साथ दुष्कर्म

उत्तर प्रदेश में दुष्कर्म जैसे जघन्य अपराध को लेकर एक ओर जहां जनता में आक्रोश है, वहीं राज्य में...

रणजी ट्रॉफी : सांप के कारण विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच मैच में हुई देरी

यहां विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच खेला जा रहा रणजी ट्रॉफी के ग्रुप-ए का मैच सांप के कारण...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

भारत ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटा दिया था और राज्य को दो केन्द्रशासित प्रदेशो में विभाजित कर दिया है। भारत के इस निर्णय से बौखलाए इमरान खान ने बुधवार को मुजफ्फराबाद में भव्य जलसे का आयोजन करने का ऐलान किया है। इससे पूर्व कश्मीरियों के साथ कथित एकजुटता के लिए पाक पीएम ने सॉलिडेरिटी ऑवर का ऐलान किया था।

पाक का नया पैंतरा

पाकिस्तानी पीएम ने ट्वीट कर कहा कि “वह 13 सितम्बर शुक्रवार को मुज्ज़फराबाद में भव्य जलसे का आयोजन करेंगे ताकि दुनिया को कश्मीर पर निरंतर अतिक्रमण के बारे में सन्देश दे सके और कश्मीरियों को दिखा सके कि पाकिस्तान उनके साथ खड़ा है।”

भारत के खिलाफ बयानबाजी के लिए पाकिस्तानी पीएम की सबसे पसंदीदा जगह ट्वीटर बन गया है। हालाँकि पीओके में मानव अधिकारों के उल्लंघन को लेकर अभी भी संघर्ष जारी है। सोमवार को पाकिस्तानी सेना द्वारा मानव अधिकारों के उल्लंघन के कारण व्यापक स्तर पर प्रदर्शन हुआ था।

कश्मीर सॉलिडेरिटी ऑवर पाकिस्तानियों का ध्यान आकर्षित करने में नाकाम रहा है। पकिस्तान के विभाग स्कूल के बच्चो को कश्मीर के लोगो के समर्थन में सीधे खींचने के लिए उत्सुक थी, लेकिन इसमें भी असफलता हाथ लगी। प्रदर्शन के करान विभागों ने ट्रैफिक और सडको को जाम कर दिया था।

इससे सैकड़ो पाकिस्तानियों को उनकी रोजाना की दिनचर्या में काफी दिक्कातो का सामना करना पड़ा था। बीते महीने भारत सरकार ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटा दिया था और जम्मू कश्मीर के सभी विशेष अधिकारों को वापस ले लिया था जैसे वह राज्य के कानूनों का खुद निर्माण करे। साथ ही राज्यों को दो केन्द्रशासित प्रदेशो में विभाजित कर दिया गया था।

 

 

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : तीसरे चरण का मतदान तय करेगा आजसू का राजनीतिक भविष्य

झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए दो चरण का मतदान संपन्न हो जाने के बाद सभी दल तीसरे चरण में...

उत्तर प्रदेश में दो और बलात्कार, औरेया में चलती कार में किया रेप, बिजनौर में नाबालिग के साथ दुष्कर्म

उत्तर प्रदेश में दुष्कर्म जैसे जघन्य अपराध को लेकर एक ओर जहां जनता में आक्रोश है, वहीं राज्य में ऐसे मामलों को लेकर शिकायतों...

रणजी ट्रॉफी : सांप के कारण विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच मैच में हुई देरी

यहां विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच खेला जा रहा रणजी ट्रॉफी के ग्रुप-ए का मैच सांप के कारण देरी से शुरू हुआ। मैच...

पीएम मोदी व कांग्रेस नेताओं ने कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को दीं जन्मदिन की शुभकामनाएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को उनके 73वें जन्मदिन की शुभकामनाएं दी। मोदी ने ट्वीट किया, "श्रीमती सोनिया गांधी...

संसद शीतकालीन सत्र : राज्यसभा ने दिल्ली अग्निकांड पर शोक जताया

राज्यसभा ने सोमवार को दिल्ली के रानी झांसी मार्ग इलाके में भयानक आग की चपेट में आकर 43 मजदूरों के मारे जाने पर शोक...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -