शनिवार, दिसम्बर 7, 2019

पाक आर्मी प्रमुख के ईरान दौरे से सऊदी अरब प्रशासन चिंतित

Must Read

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लौटे जेम्स एंडरसन और मार्क वुड

इसी महीने होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए जेम्स एंडरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम में वापसी हुई है।...

मायावती ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर महिला सुरक्षा पर कड़े कदम उठाने की अपील

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद उत्तर प्रदेश के विपक्षी दलों ने सड़क पर उतर कर सरकार के...

एप्पल 2021 में लॉन्च कर सकती है पूर्ण वायरलेस आईफोन

प्रसिद्ध विश्लेषक मिंग-ची कुओ ने खुलासा किया है कि एप्पल कंपनी 2021 में पूरी तरह से वायरलेस आईफोन लॉन्च...

हाल ही में पाकिस्तानी सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा ने ईरान की राजधानी तेहरान का तीन दिवसीय दौरा किया। इस दौरान पाकिस्तान व ईरान के बीच में द्विपक्षीय सैन्य संबंधों को मजबूत करने व अगले स्तर पर ले जाने पर चर्चा हुई। दोनों देशों के बीच बढ़ती नजदीकिया सऊदी अरब को नागवार गुजर रही है।

सऊदी प्रशासन को पाकिस्तान का ईरान जाना व संबंधों को बढ़ावा देना चिंतित कर रहा है। क्योंकि सऊदी अरब व पाकिस्तान के बीच में पारंपरिक व घनिष्ठ संबंध स्थापित है। सऊदी अरब प्रशासन पाकिस्तानी सेना प्रमुख के ईरान दौरे पर सख्ती से नजर बनाए हुए है।

इस दौरे को समझा जा रहा है कि पाकिस्तान अब ईरान के साथ मतभेदों को भुलाकर सुलभ प्रयास कर रहा है। वहीं सऊदी अरब के साथ मौजूदा साझेदारी से स्पष्ट कटौती करना चाहता है।

पाकिस्तान और ईरान में संयुक्त रूप से बैलिस्टिक मिसाइल विकसित करने के लिए एक समझौता हुआ है, जिसे सऊदी अरब प्रशासन को चिंता में डाल दिया है। तेहरान के अलावा इस्फहान और मोसाद की भी पाकिस्तानी सेना प्रमुख ने यात्रा की।

ईरानी राष्ट्रपति व विदेश मंत्री से की मुलाकात

पाकिस्तानी सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा ने ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी , विदेश मंत्री जावेद जारिफ व ईरान में अपने समकक्ष मेजर जनरल मोहम्मद बाघेरी से मुलाकात सहित शीर्ष ईरानी नेतृत्व के साथ भी मिले। पाकिस्तानी सेना प्रमुख की ईरान यात्रा को द्विपक्षीय सैन्य और रक्षा संबंधों को बढ़ाने के तौर पर प्रस्तुत किया गया।

इसके अलावा दोनों देशों ने संयुक्त रक्षा निगरानी, ड्रोनों की निगरानी, खाड़ी और अरब सागरों में संयुक्त समुद्री संचालन, जनवरी से फरवरी 2018 में संयुक्त सैन्य अभ्यास, पाकिस्तान में ईरान के सैन्य अधिकारियों के सहयोग और प्रशिक्षण के लिए मिसाइलों का सहयोग और विकास के मुद्दों पर बातचीत की गई।

गौरतलब है कि पिछले साल राष्ट्रपति हसन रूहानी ने पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को संयुक्त राष्ट्र महासभा के दौरान कहा था कि तेहरान चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर (सीपीईसी) परियोजना के करीब 60 अरब डॉलर का हिस्सा बनना चाहता है। उस समय पाक के नजरिए की सराहना ईरान ने की थी।

पाकिस्तान व ईरान के बीच बढ़ते संबंधो का असर सऊदी अरब पर पड़ने की संभावना लग रही है। सऊदी अरब और ईरान दोनों मुस्लिम बहुमत वाले राष्ट्र है। लेकिन फिर भी इन देशों के बीच में तनाव की स्थिति बनी हुई है। सऊदी अरब मध्य पूर्व में बढ़ती ईरानी प्रभाव को नियंत्रित करने के लिए बेहद सख्त कोशिश कर रहा है।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लौटे जेम्स एंडरसन और मार्क वुड

इसी महीने होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए जेम्स एंडरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम में वापसी हुई है।...

मायावती ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर महिला सुरक्षा पर कड़े कदम उठाने की अपील

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद उत्तर प्रदेश के विपक्षी दलों ने सड़क पर उतर कर सरकार के खिलाफ मोर्चेबंदी की। सपा, कांग्रेस...

एप्पल 2021 में लॉन्च कर सकती है पूर्ण वायरलेस आईफोन

प्रसिद्ध विश्लेषक मिंग-ची कुओ ने खुलासा किया है कि एप्पल कंपनी 2021 में पूरी तरह से वायरलेस आईफोन लॉन्च करने की योजना बना रही...

एनजीएमए के महानिदेशक को मिला 3 साल का सेवा विस्तार

नेशनल गैलरी ऑफ मॉर्डन आर्ट (एनजीएमए) के महानिदेशक अद्वैत गणनायक को तीन साल का सेवा विस्तार दिया गया है। संस्कृतिक मंत्रालय ने शनिवार को...

मेमोरी चिप मार्केट में 2020 में आएगी तेजी : रिपोर्ट

सबसे तेजी से बढ़ते सेमीकंडक्टर नंद फ्लैश के साथ वैश्विक मेमोरी चिप मार्केट में अगले साल फिर से तेजी आने की उम्मीद है। एक...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -