मंगलवार, दिसम्बर 10, 2019

पाकिस्तान ने विदेशों में छिपाएं 11 अरब डॉलर, इमरान खान सरकार ने जताया संदेह

Must Read

बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए रिकॉर्ड किया तेलुगू गाना

सिंगर बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए अपना पहला तेलुगू गाना 'सूर्योदय चंद्रुडिवो' रिकॉर्ड किया है।...

आईआईटी-मद्रास के 831 छात्रों की हुई कैंपस प्लेसमेंट

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटी-एम) के छात्रों को कैंपस प्लेसमेंट के पहले चरण के दौरान 184 कंपनियों द्वारा कुल...

दक्षिण अफ्रीका का मदद करने को तैयार हैं गैरी कर्स्टन

पूर्व सलामी बल्लेबाज और भारत को विश्व विजेता बनाने वाले कोच गैरी कस्टर्न ने कहा है कि वह जरूत...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

पाकिस्तानी नागरिकों के 152500 विदेशी खाते हैं और उनमे 11 अरब डॉलर की रकम होने की सम्भावना हैं। यह एक भारी धनराशि है जिसका आधा अभी अघोषित है।

डॉन के मुताबिक पाकिस्तान के राज्य राजस्व मंत्री हम्माद अज़हर ने लाहौर चैम्बर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के कारोबारियों से कहा कि विदेशों में नागरिकों के खातों की संख्या काफी अधिक है।

उन्होंने कहा कि “इन खातों सभी मालिक पाकिस्तानी नागरिक है और आधे से अधिक धनराशि का ऐलान नहीं किया गया है। अधिकतर खाताधारकों का वैध दस्तावेजों का व्यापार नहीं है, देश में कर चोरी के पैमाने को आंकने के लिए यह काफी है। अगर हम इस धन को वापस मुल्क ले आते हैं तो हमें हाथ नहीं फ़ैलाने होंगे।”

उन्होंने कहा कि “खाताधारक फ़ेडरल बोर्ड ऑफ़ रेवेन्यू की निगरानी में हैं। पाकिस्तानी नागरिकों के बैंक खातों को जानकारी को सरकार के आर्गेनाइजेशन ऑफ़ इकनोमिक कोऑपरेशन एंड डेवलपमेंट के साथ साझा किया गया है। आधा कार्य संपन्न हो चुका है और शेष अप्रैल तक समाप्त हो जायेगा।”

बीते सप्ताह एफबीआर के चेयरमैन ने संसदयीय पैनल से कहा था कि ” बॉर्ड ने इन खाताधारकों से टैक्स रिकवरी के लिए कोई लक्ष्य तय नहीं किया था और न ही पनामा पेपर लीक के बाद कोई सभावना देखी गयी थी। टैक्स रिकवरी का लक्ष्य विदेशी खातों की मिली जानकारी के तहत नहीं तय किये जा सकते हैं क्योंकि ख़तधारा वैध माध्यमों के द्वारा पैसों को कही और ट्रांसफर कर सकता है।”

imran khan campaign
प्रधानमंत्री पद के लिए कैंपेन करते समय इमरान खान नें काले धन का मुद्दा सबसे गंभीरता से उठाया था

करीब 400 खाताधारकों के खातों में 10 लाख डॉलर या उससे अधिक की रकम है और एफबीआर प्रति खाते से 12 लाख डॉलर टैक्स रिकवर करेगी। कई वर्ष पहले पूर्व वित्त मंत्री इशरार डार ने दावा किया था कि पाकिस्तानी नागरिकों का स्विस बैंक खातों में 200 अरब डॉलर की रकम है लेकिन उन्होंने इस जानकारी के स्त्रोत का खुलासा नहीं किया था।

इस दावे के आधार पर इमरान खान ने सत्ता में आने के बाद पैसे को वापस लाने का वादा किया था। प्रधानमंत्री ने इसके लिए एसेट रिकवरी यूनिट का भी गठन किया था।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए रिकॉर्ड किया तेलुगू गाना

सिंगर बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए अपना पहला तेलुगू गाना 'सूर्योदय चंद्रुडिवो' रिकॉर्ड किया है।...

आईआईटी-मद्रास के 831 छात्रों की हुई कैंपस प्लेसमेंट

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटी-एम) के छात्रों को कैंपस प्लेसमेंट के पहले चरण के दौरान 184 कंपनियों द्वारा कुल 831 छात्रों को नौकरियों के...

दक्षिण अफ्रीका का मदद करने को तैयार हैं गैरी कर्स्टन

पूर्व सलामी बल्लेबाज और भारत को विश्व विजेता बनाने वाले कोच गैरी कस्टर्न ने कहा है कि वह जरूत पड़ने पर दक्षिण अफ्रीका की...

दुष्कर्म की घटनाओं पर प्रधानमंत्री चुप क्यों? : राहुल गांधी

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने यहां सोमवार को सवाल उठाया कि देश में दुष्कर्म की बढ़ती घटनाओं पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुप क्यों...

भारतीय जवानों को हनीट्रैप में फंसाने का प्रयास कर रही आईएसआई : रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) ने भारतीय सशस्त्र बलों के अधिकारियों को फंसाने के लिए हनीट्रैप को एक उपकरण के तौर पर...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -