बुधवार, जनवरी 22, 2020

पाकिस्तान का स्वायत्त राज्यों में पुनर्गठन करे या मौजूदा खतरे का सामना करने को रहे तैयार: वोइस ऑफ़ कराची के अध्यक्ष

Must Read

स्टीव स्मिथ का मानना है ऑस्ट्रेलिया के लिए तीनों प्रारूपों में खेल सकते हैं जोश फिलिप

स्टीव स्मिथ को लगता है कि विकेटकीपर-बल्लेबाज जोश फिलिप में आस्ट्रेलिया के लिए तीनों प्रारूपों में खेलने की काबिलियत...

सीएए पर बहस करने को तैयार अखिलेश यादव, गृहमंत्री के ‘डंके की चोट’ शब्द को लेकर कहा, यह राजनेता की भाषा नहीं हो सकती

समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि वह नागरिकता कानून (सीएए) और विकास...

महिला निशानेबाज मनु भाकर को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार नहीं मिलने पर पिता ने उठाए सरकार पर सवाल

भारत के लिए ओलम्पिक कोटा हासिल कर चुकी युवा महिला निशानेबाज मनु भाकेर को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार न...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अमेरिका के एडवोकेसी समूह के चेयरमैन नदीम नुसरत ने इस्लामाबाद को चेतावनी दी कि पाकिस्तान को कई स्वायत्त राज्यों में पुनर्निर्मित करे क्योंकि उसे बचाने का सिर्फ यही समाधान है। स्वायत्त राज्यों का निर्माण साल 1940 के लाहौर अधिवेशन के तहत होना चाहिए। यह समझौता भारत का भी स्वायत्त राज्यों में निर्माण करने की अनुमति देता है।

पाकिस्तान के रक्षा दिवस पर एक विशेष सन्देश देते हुए मोहाजिर नेता ने कहा कि “बीते 72 सालो के इतिहास ने, खासकर बांग्लादेश के निर्माण ने यह साबित कर दिया है कि पाकिस्तान एक राष्ट्र नहीं बन सकता है और इसका कारण अन्य संजातीय समूहों पर पंजाब की नेतृत्व भी है।”

पाकिस्तान के संस्थापको ने भी इस खतरे को भांप लिया था और सिलिये स्वतंत्र राज्यों के निर्माण की थी। 1940 के संसोधन को अपने बयान से बताया कि भूगौलिक मिले हुए सीमांकित इलाकों को संघठित होना चाहिए और ऐसे क्षेत्रीय पुनर्निर्माण शायद जरुरी है खासकर ऐसे इलाको के लिए जहां मुस्लिम बहुसंख्यक है। भारत को संघठित स्वतंत्र राज्यों का समूह होना चाहिए था और जिसमे संवैधानिक इकाइयों को संप्रभु और स्वायत्त होना चाहिए।”

उन्होंने कहा कि “1940 अधिवेशन एक पुख्ता सबूत है कि पाकिस्तान की मौजूदा प्रशासनिक संरचना उसकी संस्थापक सदस्यों की असल इच्छाओं का घोर उल्लंघन है और यह इस विश्वासघात के बारे में बताने का समय है। पाकिस्तान का मौजूदा खतरा भारत, अफगानिस्तान, इजराइल या अमेरिका से नहीं बल्कि उसके खुद के घर से उभर रहा है।”

जेहादी सेनाओं की संख्या में तीव्र वृद्धि, धार्मिक असहिष्णुता, आतंकी ढाँचे, संजातीय विभाजन, नागरिक मामले में पाकिस्तानी सेना की निरंतर दखलंदाज़ी, चुनाव परिणामो पर सेना का दबदबा, भ्रष्टाचार और बुरा शासन ही पाकिस्तान की अखंडता और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा है।

उन्होंने कहा कि “पाकिस्तान का सिंय नेतृत्व शायद इस बात पर कभी चर्चा न करे लेकिन यह तथ्य हमेशा रहेगा कि उन्होंने भारत के खिलाफ सभी जंगो में शिकस्त खायी है।”

 

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

स्टीव स्मिथ का मानना है ऑस्ट्रेलिया के लिए तीनों प्रारूपों में खेल सकते हैं जोश फिलिप

स्टीव स्मिथ को लगता है कि विकेटकीपर-बल्लेबाज जोश फिलिप में आस्ट्रेलिया के लिए तीनों प्रारूपों में खेलने की काबिलियत...

सीएए पर बहस करने को तैयार अखिलेश यादव, गृहमंत्री के ‘डंके की चोट’ शब्द को लेकर कहा, यह राजनेता की भाषा नहीं हो सकती

समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि वह नागरिकता कानून (सीएए) और विकास को लेकर भाजपा के लोगों...

महिला निशानेबाज मनु भाकर को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार नहीं मिलने पर पिता ने उठाए सरकार पर सवाल

भारत के लिए ओलम्पिक कोटा हासिल कर चुकी युवा महिला निशानेबाज मनु भाकेर को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार न मिलने पर उनके पिता रामकिशन...

पाकिस्तान : पीपीपी अध्यक्ष बिलावल भुट्टो ने कहा, कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएगी इमरान सरकार

पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी ने प्रधानमंत्री इमरान खान के नेतृत्व वाली पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) सरकार की आलोचना करते हुए...

चीन : कोरोना वायरस से हुए निमोनिया के 440 नए मामलों की पुष्टि

चीनी स्वास्थ्य अधिकारियों ने कोरोना वायरस से होने वाले निमोनिया के 440 नए मामलों की पुष्टि होने की बुधवार को घोषणा की। देश में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -