गुरूवार, अक्टूबर 24, 2019

पाकिस्तान महाराजा रंजीत सिंह की प्रतिमा का करेगा अनावरण

Must Read

बैडमिंटन : सायना की संघर्षपूर्ण जीत, कश्यप, श्रीकांत और समीर पहले दौर में बाहर (लीड-1)

पेरिस, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। सायना नेहवाल ने यहां जारी फ्रेंच ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के पहले दौर में मिली संघर्षपूर्ण...

उत्तराखंड पंचायत चुनाव में रावत व योगी के गृह जनपद में भाजपा पर भारी पड़ी कांग्रेस

देहरादून 23 अक्टूबर, (आईएएनएस)। उत्तराखंड में हुए पंचायत चुनाव में सबसे चौंकाने वाला नतीजा पौड़ी जिले का रहा है।...

गैर-तेल क्षेत्र की कंपनियों के लिए भी खुला पेट्रोल, डीजल की बिक्री का द्वार

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल की खुदरा बिक्री के नियमों को सरल बनाते...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

पंजाब सूबे में दशकों तक हुकूमत करने वाले महाराणा रंजीत सिंह का गुरूवार को पाकिस्तान में अनावरण किया जायेगा और यह उनकी 180 वीं वर्षगांठ पर किया जायेगा। मशहूर लाहौर किले की सिख गैलरी के बाहर उनकी प्रतिमा की स्थापना की जाएगी। म्यूजियम के डायरेक्टर सैफुद्दीन ने ट्रिब्यून से कहा कि “यह प्रतिमा सरजमीं के पुत्र के लिए श्रद्धांजलि है।”

इस प्रतिमा के शिल्पकार ने बताया कि “यह प्रतिमा बेहद सुन्दर और वास्तविक है और इसमें महाराणा रंजीत सिंह के सभी गुण है। करीब 465 भारतीय सिख श्रद्धालुओं के लाहौर के गुरुद्वारा डेरा साहिब में आने की सम्भावना है। यहां उनका अंतिम संस्कार किया गया था।

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक सिमिति ने वीजा के लिए 282 आवेदनों को भेजा था और सिर्फ 224 को ही वीजा दिया गया है, 58 का वीजा ख़ारिज कर दिया गया है। जिन सिखों का वीजा मंज़ूर नहीं किया गया है उन्होंने एसजीपीसी दफ्तर के बाहर प्रदर्शन किया था। उन्होंने मांग की कि यहां वीजा सिस्टम नहीं होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि “हमारी मांग है कि इस वीजा सिस्टम को खत्म कर देना चाहिए। श्रद्धालुओं को इसके बगैर यात्रा की अनुमति होनी चाहिए। हम अब पाकिस्तान की प्रतिक्रिया का इन्तजार कर रहे हैं।”

धार्मिक स्थलों पर यात्रा के भारत-पाकिस्तान प्रोटोकॉल, 1974 के तहत मंज़ूरी दी गयी है। इस समझौते के तहत भारत से हज़ारो श्रद्धालु  हर साल धार्मिक त्योहारों और अवसरों में शामिल होने के लिए पाकिस्तान की यात्रा कर सकते हैं।

1798 में जमन शाह के पंजाब से लौटने पर लाहौर पर कब्‍जा कर उसे राजधानी बनाया। भारत पर हमला करने वाले आक्रमणकारी जमन शाह दुर्रानी को उन्होंने महज 17 साल की उम्र में धूल चटाई थी। 27 जून, 1839 को महाराजा रणजीत सिंह का निधन हो गया।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

बैडमिंटन : सायना की संघर्षपूर्ण जीत, कश्यप, श्रीकांत और समीर पहले दौर में बाहर (लीड-1)

पेरिस, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। सायना नेहवाल ने यहां जारी फ्रेंच ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के पहले दौर में मिली संघर्षपूर्ण...

उत्तराखंड पंचायत चुनाव में रावत व योगी के गृह जनपद में भाजपा पर भारी पड़ी कांग्रेस

देहरादून 23 अक्टूबर, (आईएएनएस)। उत्तराखंड में हुए पंचायत चुनाव में सबसे चौंकाने वाला नतीजा पौड़ी जिले का रहा है। यहां जिला पंचायत सीटों के...

गैर-तेल क्षेत्र की कंपनियों के लिए भी खुला पेट्रोल, डीजल की बिक्री का द्वार

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल की खुदरा बिक्री के नियमों को सरल बनाते हुए बुधवार को सभी कंपनियों...

रविदास मंदिर पर ओछी राजनीति कर रही कांग्रेस और आप : भाजपा

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर,(आईएएनएस)। दिल्ली के तुगलकाबाद में रविदास मंदिर के मुद्दे पर भाजपा ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पर ओछी राजनीति करने...

रविदास मंदिर पर ओछी राजनीति कर रही कांग्रेस और आप : भाजपा

नई दिल्ली, 23 अक्टूबर,(आईएएनएस)। दिल्ली के तुगलकाबाद में रविदास मंदिर के मुद्दे पर भाजपा ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पर ओछी राजनीति करने...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -