रविवार, फ़रवरी 23, 2020

पाकिस्तान से बेहतर आर्थिक स्थिति में क्यों है बांग्लादेश ?

Must Read

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

बांग्लादेश और पाकिस्तान की स्थितियां लगभग एक समान है। दोनों ही राष्ट्र एक जैसी चुनौतियों को झेल रहे हैं, इसमें मुख्यत आतंकवाद, फासीवाद लोकतंत्र, भ्रष्टाचार, अधिक जनसँख्या और अन्य शुमार हैं। बांग्लादेश की आर्थिक वृद्धि दर 7.8 फीसदी है जबकि पाकिस्तान का महज 5.8 प्रतिशत है।

साल 1971 में बांग्लादेश का निर्यात शून्य था और अब 35.8 अरब डॉलर है और वही पाकिस्तान का 24.8 अरब डॉलर है। बांग्लादेश ने अपने स्वास्थ्य विभाग में भी सुधार किया है, इसी कारण पाकिस्तान के मुकाबले बांग्लादेश में जन्मदर कम है। ढाका और इस्लामाबाद में जनसँख्या में अधिक असमानता नहीं है।

बांग्लादेश ने अपने वजूद को पाने के बाद आर्थिक वृद्धि पर ध्यान दिया लेकिन वह चीन, अमेरिका या सऊदी अरब को कुछ महत्वपूर्ण निर्यात नहीं करता है। बांग्लादेश के जन्म के दौरान न पेशेवर नौकरशाह थे, न सेना थी और न अन्य जरूरतमंद सामान, उन्हें बस भारतीय सिविल सर्विस का एक पूर्व सदस्य दिए गए थे।

एक ही वृक्ष की दो शखाओं के लक्ष्य भी आपसे में बैर रखते हैं क्योंकि दोनों राष्ट्रों के राष्ट्र हित अलग-अलग इजाजत देते हैं। बांग्लादेश अपना भविष्य मानव विकास और आर्थिक वृद्धि में देखता है। उनका लक्ष्य निर्यात में वृद्धि, बेरोजगारी में कमी, स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार और कर्ज व सहायता पर निर्भरता को कम करना है।

पाकिस्तान के लिए मानव विकास दूसरे पायदान पर आता है। इस राष्ट्र की पूरी ऊर्जा भारत को मात देने में खर्च हो जाती है। पाक के अफगानिस्तान और ईरान के साथ सम्बन्ध बिगड़ते जा रहे हैं और इसका आरोप पाक भारत पर मढ़ता है और कहता है कि यह राष्ट्र भारत के नजदीकी है। पाकिस्तान में पेशावर स्कूल हत्याकांड स्थितियां बिगड़ना शुरू हो गयी थी। 16 दिसंबर 2014 को यह हत्याकांड हुआ था।

बांग्लादेश में आंतरिक संघर्ष की स्थितियां है लेकिन इसके बावजूद वह अधिक बहुसांस्कृतिक और उदारवाद है। बांग्लादेश के समाज और कार्यकर्ताओं ने सेना को सत्ता पर अपना कब्ज़ा स्थापित करने नहीं दिया। हालाँकि बांग्लादेश के चयनित नेता अधिक भ्रष्ट होते हैं। पाकिस्तान चीन की सीपीईसी परियोजना के साथ या बिना भी भारत का मुकाबला नहीं कर सकता है। पाकिस्तान ज़िंदाबाद के नारे लगाए जाते हैं जबकि बाहर से पाकिस्तान चीन,अमेरिका और सऊदी की हुकूमत में रहा हैं। इस वक्त पाकिस्तान को अपनी आर्थिक स्थिति को मज़बूत करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए न कि भारत को युद्ध में कैसे पछाड़ा जाए।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

आयुष्मान खुराना: “मैं एक प्रशिक्षित गायक हूं क्योंकि मैं एक ट्रेन में गाता था”

आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपने बॉलीवुड डेब्यू के लिए सही प्रोजेक्ट लेने के...

जाफराबाद में एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम किया, DMRC ने मेट्रो स्टेशन को किया बंद

केंद्र की ओर से जारी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (CAA) को रद्द करने की मांग करते हुए 500 से अधिक लोगों, ज्यादातर महिलाओं ने शनिवार...

‘हैदराबाद में शाहीन बाग जैसे विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी’: पुलिस आयुक्त

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने शनिवार को कहा कि शहर में "शाहीन बाग़ जैसा" विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उनका...

निर्भया मामला: आरोपी विनय नें खुद को चोट पहुंचाने की की कोशिश, इलाज के लिए माँगा समय

2012 में दिल्ली में हुए निर्भया मामले (Nirbhaya Case) में चार आरोपियों में से एक विनय नें आज जेल की दिवार से खुद को...

गुजरात सीएम विजय रूपानी ने डोनाल्ड ट्रम्प-मोदी रोड शो की तैयारी की की समीक्षा

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी (Vijay Rupani) ने गुरुवार को अहमदाबाद में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi)...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -