Tue. Apr 16th, 2024
    इमरान खान

    पाकिस्तान निरंतर अपनी सेना, खासकर परमाणु  और मिसाइल काबिलियत को बढ़ा रहा हिया, जबकि नकदी के संकट से जूझ रहा है। भारतीय रक्षा मंत्रालय ने कहा कि “सीमा पार आतंकवाद के साथ पाकिस्तान भारत पर हमले को जारी रखेगा। हालिया वार्षिक रिपोर्ट के एमओडी ने कहा कि पाकिस्तान की सेना अपनी स्थिति को मजीद मज़बूत कर रही है क्योंकि यह संस्थान पाकिस्तान की विदेश सुरक्षा और रक्षा नीतियों को संचालित कर रहा है।”

    पाकिस्तान परमाणु हथियारों में कर रहा वृद्धि

    एमओडी के मुताबिक, पाकिस्तान बेहद तीव्रता से परमाणु और मिसाइल आर्सेनल में वृध्दि कर रहा है। अंतरराष्ट्रीय आंकलन के तहत पाकिस्तान के समक्ष 140-150 परमाणु वारहेड है जबकि भारत के समक्ष 130-140 है। साथ ही वह यूरेनियम संवर्धन और प्लूटोनियम प्त्पदन सुविधाओं का विस्तार कर रहा है।

    अगर मौजूदा ट्रेंड बरक़रार रहा तो साल 2025 तक पाकिस्तान 220-250 वारहेड के लिए परमाणु स्टॉक को बढ़ा देगा। परमाणु वैज्ञानिको की बुलेटिन के मुताबिक, परमाणु और मिसाइल आर्सेनल में वृद्धि सालो से चीन और उत्तर कोरिया को मदद करने के लिए किया जा रहा है।

    एमओडी ने कहा कि “नरसंहार के हथियारों के प्रसार से विश्व चिंतित है और उसकी डिलीवरी प्रणाली अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एक खतरनाक खतरा है। नरसंहार के हथियार एक खतरा बने रहेंगे जब तक आतंकिवादियों को उनकी क्रूर गतिविधियों के लिए सम्बंधित पदार्थ और तकनीक मुहैया की जा रही है।”

    भारत विरोधी संगठनो की सहायता में पाकिस्तानी सेना की सक्रीय भूमिका पर रिपोर्ट ने कहा कि “वह जिहादियों और अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधित आतंकी संगठनो के खिलाफ कार्रवाई करने से बचते हैं, जो आतंकी समूह उनके पड़ोसी मुल्कों पर हमला करते हैं। ऐसे समूहों को समर्थन नियंत्रण रेखा और जम्मू कश्मीर में सीमा पार गोलीबारी को प्रोत्साहन देंगे।”

    26 फ़रवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में जैश ए मोहम्मद के आतंकी शिविरों पर भारतीय वायुसेना के हमले की एमओडी ने सराहना की है। एमओडी ने कहा कि “भारत अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए ऐसे ठोस और निर्णायक कदम उठाना जारी रखेगा। जब तक पाकिस्तान आतंकी ठिकानो को तबाह करने के लिए विश्वसनीय और अपरिवर्तनीय कदम नहीं उठाता है। साथ ही आतंकवादियों को समार्थन करना बंद नहीं करता और अपनी सरजमी से संचालित आतंकी समूहों पर नियंत्रण नहीं करता।”

    एमओडी के अनुसार, पाकिस्तान के राजनीतिक हालात समावेशी और संतुलित आर्थिक विकास के साथ चुनौतीपूर्ण बने रहेंगे। पाकिस्तान-अफगानिस्तान की सीमा पर आदिवासी इलाको में संघर्ष बढ़ा है। पाकिस्तान में धार्मिक कट्टरपंथता भी बढ़ी है।

     

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *