रविवार, मार्च 29, 2020

पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर की कंपनियों के लिए कोई भी सरकार मदद नहीं करेगी: सीओल

Must Read

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए।...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

जम्मू कश्मीर के भागो पर पाकिस्तान के गैरकानूनी कब्जे के मुद्दे को उठाते हुए राजनाथ सिंह ने दक्षिण कोरिया से संरचनाओं और अन्य परियोजनाओं में निवेश पर रोक लगाने का आग्रह किया है और बताया कि चीन-पाक आर्थिक गलियारा भारत की संप्रभुता का उल्लंघन करता है।

पीओके में निवेश

सूत्रों के मुताबिक, सिंह ने दक्षिण कोरिया की कंपनियों पर चिंता व्यक्त की है जो पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में परियोजनाओं का निर्माण करने जा रही है। उन्होंने कोरिया के प्रधनामंत्री ली नाक योन से मुलाकात में यह बात कही थी। कोरिया ने भारत को सुनिश्चित किया था कि कोई भी सरकार पीओके में संचालित कंपनियों को मदद मुहैया करने की अनुमति नहीं देगी क्योंकि यह साल 2014 में लागू की गयी नीति है।

कोरियाई ने सरकार को बताया कि विवादित इलाके में परियोजनाओं का निर्माण करने वाली कंपनियों को सरकार द्वारा दिए जाने वाले फायदे जैसे सब्सिडी और शुल्क कटौती की सुविधा नहीं दी जाएगी। सिंह ने कोरिया को जम्मू कश्मीर से व्सिहेश राज्य का दर्जा हटाने के पीछे की वजह भी बताई है।

पीओके में निवेश के बाबत भारत ने अपनी चिंताओं को मैत्रीपूर्ण देशो के साथ साझा किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान में दक्षिण कोरिया के राजदूत ने सुनिश्चित किया कि निवेश जारी रहेगा। सिंह ने गुरूवार को सीओल रक्षा वार्ता को संबोधित किया था और कहा कि कोरियाई प्रायद्वीप में शान्ति और स्थिरता लाने के प्रयासों और इसका निरस्त्रीकरण बातचीत और कूटनीति के जरिये करने का भारत ने हमेशा समर्थन किया है।

आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई

रक्षा मंत्री ने आतंकवाद के खिलाफ एकजुट कार्रवाई की मांग की है। सिंह ने इंडो पैसिफिक में सभी राष्ट्रों की  क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता पर भारत की स्थिति को बताया है और कहा कि नियम और कायदे आम सहमती के आधार पर होने चाहिए।

उन्होंने कहा कि “हिंद-प्रशांत क्षेत्र में जो देश आपसी सौहार्द से काम कर रहे है उन्हें हर मुल्क में जाने का अवसर मुहैया कराना चाहिए। साथ ही समुद्री और हवाई क्षेत्र में पहुंचने का समान अधिकार देना चाहिए। भारत इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में एक खुले और समावेशी ढांचागत विकास की वकालत करता हैं।”

भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरूवार को कहा कि भारत इतिहास में कभी आक्रमक नहीं रहा था लेकिन आत्मरक्षा के लिए अपनी ताकत का इस्तेमाल करने से नहीं हिचकिचाएगा।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

एक विलेन 2: दिशा पटानी के बाद, तारा सुतारिया फिल्म से जुड़ी, जॉन अब्राहम और आदित्य रॉय कपूर भी होंगे फिल्म का हिस्सा

यह पहले बताया गया था कि जॉन अब्राहम 2014 की फिल्म, एक विलेन की अगली कड़ी बनाने के लिए बातचीत कर रहे थे। जनवरी...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए। 2 दिन में 16.03 करोड़...

महाराष्ट्र सरकार को कोई खतरा नहीं – कांग्रेस

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने बुधवार शाम को अपने सभी विधायकों की बैठक बुलाई है। राकांपा नेताओं ने कहा कि 26 मार्च को होने...

पीएम मोदी, राहुल गांधी ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके 78 वें जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं। पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा,...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -