मंगलवार, जनवरी 28, 2020

पाकिस्तानी कार्यकर्ता जो श्रीलंका से अमेरिका भागी, पाक में सैन्य अत्याचारों की सुनाई दास्तां

Must Read

ताइवान में कोरोनावायरस संबंधी मामले बढ़कर 4 हुए

ताइपे, 27 जनवरी (आईएएनएस)| ताइवान की एक और महिला के कोरोनोवायरस (Corona Virus) से संक्रमित होने की पुष्टि हुई...

अरविंद केजरीवाल के निर्वाचन क्षेत्र के 11 उम्मीदवारों की याचिका पर सुनवाई को हाईकोर्ट सहमत

नई दिल्ली, 27 जनवरी (आईएएनएस)| दिल्ली हाईकोर्ट नई दिल्ली विधानसभा के लिए नामांकन करने से रोके गए 11 उम्मीदवारों...

आरएसएस का पहला सैनिक स्कूल उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में

लखनऊ, 27 जनवरी (आईएएनएस)| राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) द्वारा संचालित पहला सैनिक स्कूल उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में इस...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

पाकिस्तान में अधिकारों की कार्यकर्ता गुलालई इस्माइल ने खुलासा किया कि वह श्रीलंका से अमेरिका भागी थी। अफगानिस्तान के पत्रकार बशीर अहमद गवाख को मशाल रेडियो पर दिए बयान में इस्माइल ने कहा कि “वह करीब छह महीनो तक पाकिस्तान में छुपती रही और इसके बाद अपने दोस्तों की मदद से श्रीलंका चली गयी।”

श्रीलंका से अमेरिका भागी कार्यकर्ता

इस्माइल ने पाकिस्तानी सुरक्षा कर्मियों द्वारा यौन शोषण के मामले को उठाया था। देश की महिलाओं के साथ किये जा रहे अत्याचारों को उन्होंने जोर शोर से उठाया था तो उन पर देशद्रोह किए आरोप थोप दिए गए थे। 32 वर्षीय कार्यकर्ता अब न्यूयोर्क में अपनी बहन के साथ रह रही है।

इस्माइल ने अमेरिका में राजनीतिक शरण के लिए भी आवेदन किया है। अमेरिका में आने के बाद भी वह अपने माता-पिता और छिपने के दिनों में मदद करने वालो के लिए भी चिंतित है। उन्होंने कहा कि “पाकिस्तान सोचता है कि अमेरिकी विभाग मुझे परिवार समेत देश छोड़ने के लिए मजबूर करेगा लेकिन मैं अमेरिका में भी अपना संघर्ष जारी रखूंगी।”

पाकिस्तान में सेना की आलोचना होती रही है और इस्माइल का अभियान महिलाओं पर केन्द्रित था। उनके मुताबिक, सेना बलात्कार, हत्या, अगवा और अन्य अत्याचार करती है। सोशल मीडिया पर पाकिस्तानी सैनिको के खिलाफ आरोप लगाने के बाद इस्माइल मई में देश छोड़कर भाग गयी थी।

उन्होंने अपने पोस्ट में पाकिस्तानी सैनिको पर महिलाओं के बलात्कार और यौन शोषण का आरोप लगाया था। इस महिला अधिकार कार्यकर्ता ने पश्तून आन्दोलन में भी भाग लिया था और पाकिस्तान की सेना के लिए एक और सिरदर्द बन गयी थी। पाकिस्तानी सेना पश्तून आन्दोलन को बुरी तरह कुचलने माँ नाकाम साबित हुई थी।

इस्माइल ने कहा कि “अमेरिका में पश्तून आन्दोलन को लेकर कुछ ग़लतफ़हमियाँ है जिन्हें सुधारना जरुरी है। वहां से मैं लड़ना शुरू करुँगी और दुनिया जानेगी कि पश्तून जंग के पीड़ित रहे हैं।” मानव अधिकार कार्यकर्ताओं को यकीन है कि इस्माइल के खिलाफ देशद्रोह के आरोप झूठे हैं।

इस्माइल पर सरकार ने देश से बाहर जाने की पाबन्दी लगा रखी थी। डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, बीते वर्ष नवम्बर में इस्लामाबाद उच्च अदालत को सूचित किया गया कि आईएसआई ने  इस्माइल का नाम एग्जिट कंट्रोल लिस्ट में डाल रखा है। अदालत ने नाम हटाने का फरमान सुनाया और आंतरिक मंत्रालय को उचित कार्रवाई करने की अनुमति दी थी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

ताइवान में कोरोनावायरस संबंधी मामले बढ़कर 4 हुए

ताइपे, 27 जनवरी (आईएएनएस)| ताइवान की एक और महिला के कोरोनोवायरस (Corona Virus) से संक्रमित होने की पुष्टि हुई...

अरविंद केजरीवाल के निर्वाचन क्षेत्र के 11 उम्मीदवारों की याचिका पर सुनवाई को हाईकोर्ट सहमत

नई दिल्ली, 27 जनवरी (आईएएनएस)| दिल्ली हाईकोर्ट नई दिल्ली विधानसभा के लिए नामांकन करने से रोके गए 11 उम्मीदवारों की याचिका पर सुनवाई को...

आरएसएस का पहला सैनिक स्कूल उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में

लखनऊ, 27 जनवरी (आईएएनएस)| राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) द्वारा संचालित पहला सैनिक स्कूल उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में इस साल अप्रैल में शुरू होगा।...

उत्तर प्रदेश: कानपुर पुलिस ने थाने में कराई प्रेमी युगल की शादी

कानपुर, 27 जनवरी (आईएएनएस)| कानपुर के जूही पुलिस स्टेशन के अंदर रविवार को एक प्रेमी युगल की शादी कराई गई है। इस दौरान शादी...

कांग्रेस ने अदनान सामी को पद्मश्री देने पर सवाल उठाया

नई दिल्ली, 27 जनवरी (आईएएनएस)| कांग्रेस ने गायक अदनान सामी को पद्म पुरस्कार देने के केंद्र सरकार के फैसले पर सवाल उठाया है। कांग्रेस...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -