समाचार

पर्यावरण मंत्रालय ने सर्दियों में वायु प्रदर्शन की रोकथाम के लिए दिल्ली और पड़ोसी राज्यों के साथ की बैठक

केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने गुरुवार को दिल्ली और पड़ोसी राज्यों के प्रतिनिधियों के साथ एक बैठक बुलाई जिससे कि यह सुनिश्चित हो सके कि सर्दियों के दौरान वायु प्रदूषण के स्तर में बढ़ोतरी नही हो।

ना सिर्फ मौसम संबंधी स्थितियां प्रदूषण को बढ़ाती हैं, वाहनों, थर्मल प्लांटों से उत्सर्जन और पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में गेहूं की बुवाई से पहले चावल की भूसी को जलाना, सर्दियों में राष्ट्रीय राजधानी और कई शहरों में होने वाले हानिकारक वायु प्रदूषण के प्रमुख मानव निर्मित कारण हैं। इन राज्यों से कई शहर सबसे खराब हवा वाले स्थानों की वैश्विक सूची में सबसे ऊपर आते हैं।

हालांकि गुरुवार की बैठक के बाद कोई नए उपायों की घोषणा नहीं की गई लेकिन मौजूदा कार्यक्रमों को मजबूत करने पर ध्यान केंद्रित किया गया।

हरियाणा सरकार किसानों को पराली जलाने से रोकने के लिए 200 करोड़ रुपये खर्च करेगी। उत्तर प्रदेश

एक कार्बनिक रसायन को “डीकंपोजर” के रूप में तैनात कर रहा है जो एकत्रित भूसे को भंग कर खाद में बदल देगा। हालांकि पिछले साल छोटे पायलट प्रोजेक्ट शुरू किए गए थे, इस साल राज्य इन कार्यक्रमों को कम से कम छह लाख एकड़, हरियाणा सरकार एक लाख एकड़, पंजाब पांच लाख एकड़ और दिल्ली 4,000 एकड़ में तैनात करेगी।

अन्य उपाय जो इस वर्ष सुदृढ़ किए जा रहे हैं, उनमे शामिल हैं: राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में कोयला संयंत्रों में पूरक ईंधन के रूप में 50% धान के भूसे के साथ बायो-मास के उपयोग को अनिवार्य करना और एक समिति का गठन करना जो राजस्थान और गुजरात में मवेशियों के चारे के रूप में पराली को पुनर्व्यवस्थित करने के तरीकों पर गौर करेगी।

अगस्त में संसद के एक अधिनियम के माध्यम से एक कार्यकारी निकाय बन गये एनसीआर और आस-पास के क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता सुधार आयोग

इन योजनाओं का पालन सुनिश्चित करने के लिए इन राज्यों के साथ अक्सर अनुवर्ती कार्रवाई कर रहा है।

पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव ने संवाददाताओं से कहा कि, “स्वच्छ हवा सभी राज्यों के हित में है और ये राजनीति से परे के मुद्दे हैं। आज की बैठक में सभी प्रतिनिधियों ने उन योजनाओं को लागू करने पर सहमति व्यक्त की है जो किसानों की सहायता करेंगे और हवा को खराब नहीं करेंगे।”

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Share
लेखक
आदित्य सिंह

Recent Posts

अमेरिकी वैज्ञानिक डेविड जूलियस और अर्देम पटापाउटिन ने नोबेल मेडिसिन पुरस्कार 2021 जीता

अमेरिकी वैज्ञानिकों डेविड जूलियस और अर्डेम पटापाउटिन ने सोमवार को तापमान और स्पर्श के रिसेप्टर्स…

October 5, 2021

किसान संगठन को कृषि कानूनों पर रोक के बाद भी आंदोलन जारी रखने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने लगायी फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी…

October 5, 2021

केंद्र सरकार ने वन संरक्षण अधिनियम में कई संशोधन किये प्रस्तावित

केंद्र सरकार ने मौजूदा वन संरक्षण अधिनियम (एफसीए) में संशोधन के तहत राष्ट्रीय सुरक्षा परियोजनाओं…

October 5, 2021

रूस और जर्मनी के बीच नॉर्ड स्ट्रीम 2 पाइपलाइन का निर्माण पूरा: यूरोपीय राजनीति में होंगे इसके कई बड़े परिणाम

जबकि ईरान-पाकिस्तान-भारत गैस पाइपलाइन, ईरान-भारत अंडरसी पाइपलाइन, और तुर्कमेनिस्तान-अफगानिस्तान-पाकिस्तान-भारत पाइपलाइन पाइप अभी भी सपने बने…

October 4, 2021

पैंडोरा पेपर्स का सचिन तेंदुलकर सहित कई वैश्विक हस्तियों के वित्तीय राज़ उजागर करने का दावा

रविवार को दुनिया भर में पत्रकारीय साझेदारी से लीक पेंडोरा पेपर्स नाम के लाखों दस्तावेज़ों…

October 4, 2021

बढे बजट के साथ आज पीएम मोदी करेंगे एसबीएम-यू 2.0 और अमृत ​​2.0 का शुभारंभ

वित्त पोषण, आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के शीर्ष अधिकारियों ने गुरुवार को कहा…

October 1, 2021