दा इंडियन वायर » भाषा » परिमाणवाचक विशेषण : परिभाषा एवं उदाहरण
भाषा

परिमाणवाचक विशेषण : परिभाषा एवं उदाहरण

परिमाणवाचक विशेषण की परिभाषा

ऐसे शब्द जो हमें किसी संज्ञा या सर्वनाम के नाप-तौल या मात्रा का बोध कराएं, वे शब्द परिमाणवाचक विशेषण कहलाते हैं।

जैसे : दो किलो चीनी, चार किलो तेल, थोड़े फल, एक लीटर दूध, एक तोला सोना, थोड़ा आटा आदि।

परिमाणवाचक विशेषण के उदाहरण

  • जाओ बाज़ार से एक किलो आटा लेकर आओ।

पर दिए गए उदाहरण में आप देख सकते हैं एक किलो शब्द का प्रयोग किया गया है। यह हमें आटे का परिमाण बता रहा है जो कि हमें बाज़ार से लाना है।

इस शब्द से हमें आटे का परिमाण पता चल रहा है। अतः यह परिमाणवाचक विशेषण के अंतर्गत आएगा।

  • मेरे लिए थोड़े फल लेकर आओ।

जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं थोड़े शब्द का इस्तेमाल किया गया है।

इस शब्द से हमें सटीक मात्र का पतानाही चल रहा लेकिन इससे हमें पता चल गया है कि लगभग कितने फल लाने हैं। यह शब्द अनिश्चितता प्रकट कर रहा है। अतः यह शब्द परिमाणवाचक विशेषण के अंतर्गत आएगा।

  • मिठाइयाँ बनाने के लिए हमें दो किलो चीनी की ज़रूरत पड़ेगी।

ऊपर दिए गए उदाहरण में जैसा कि आप देख सकते हैं दो किलो शब्द का इस्तेमाल किया गया है। यह शब्द हमें बता रहा है की असल में हमें कितनी मात्रा में चीनी की आवश्यकता होगी।

इस शब्द से हमें चीनी के परिमाण का पता चल रहा है। अतः यह शब्द परिमाणवाचक विशेषण के अंतर्गत आएगा।

  • जाओ जाकर दर्जी से दो मीटर कपड़ा लेकर आओ।

जैसा कि आपने ऊपर दिए गए उदाहरण में देखा दो मीटर शब्द का प्रयोग किया गया है। इससे हमें कपडे का वो परिमाण पता चल रहा है जोकि हमें लाना है।

यह शायद हमें कपडे की मात्रा या परिमाण बता रहा है। अतः यह शब्द परिमाणवाचक विशेषण के अंतर्गत आएगा।

परिमाणवाचक विशेषण के भेद

  1. निश्चित परिमान्बोधक विशेषण
  2. अनिश्चित परिमाणबोधक विशेषण

 1. निश्चित परिमाणबोधक विशेषण :

वो विशेषण शब्द जो हमें किसी वस्तु की निश्चित मात्रा या परिमाण का बोध कराते हैं, वे निश्चित परिमाणबोधक विशेषण कहलाते हैं।

जैसे: एक बीघा ज़मीन, चार मीटर कपडा, दो  किलो चीनी, तीन लीटर पेट्रोल, सौ सेंटीमीटर, दो सेर गेहूँ, पाँच मीटर कपड़ा, एक लीटर दूध आदि।

उदाहरण:

  • मैंने दो बीघा ज़मीन खरीदी है।

उपर्युक्त वाक्य में दो बीघा शब्द का प्रयोग किया गया है। यह शंड हमें ज़मीन का परिमाण बता रहा है। इससे हमें ज़मीन का निश्चित परिमाण पता चल रहा है। अतः यह शब्द निश्चित परिमाणबोधक विशेषण के अंतर्गत आएगा।

  • गाडी को रोज़ पांच लीटर पेट्रोल की ज़रूरत पड़ती है।

ऊपर दिए गए बाक्य में आप देख सकते हैं कि पांच लीटर शब्द का प्रयोग किया गया है। यह शब्द हमें पेट्रोल के निश्चित परिमाण के बारे में बता रहा है।

इस शब्द से हमें कोई अनिश्चितता का बोध नहीं हो रहा है। अतः यह शब्द निश्चित परिमाणबोधक विशेषण के अंतर्गत आएगा।

  • हमें स्वस्थ रहने के लिए रोज़ कम से कम आठ लीटर पानी पीना चाहिए।

जैसा कि आप ऊपर दिए गए उदाहरण में देख सकते हैं आठ लीटर शब्द का प्रयोग किया गया है। यह शब्द बिना कोई अनिश्चितता प्रकट किये हुए हमें पानी की सटीक मात्र बता रहा है। अतः यह निश्चित परिमाणबोधक विशेषण के अंतर्गत आएगा।

  • तुम्हे यह पोशाक बनवाने के लिए चार मीटर की आवश्यकता होगी।

ऊपर दिए उदाहरण में चार मीटर शब्द हमें कपडे का निश्चित परिमाण बता रहा है। अतः यह निश्चित परिमाणबोधक विशेषण के अंतर्गत आएगा।

2. अनिश्चित परिमाणबोधक विशेषण

वो विशेषण शब्द जो हमें किसी संज्ञा य सर्वनाम की अनिश्चित मात्रा या परिमाण का बोध कराते हैं, वे शब्द अनिश्चित परिमाणबोधक विशेषण कहलाते हैं। जैसे: थोड़ी जगह, बहुत पानी, कुछ फल, ज़रा सा रस आदि।

उदाहरण:

  • ज़िन्दगी में सफल होने के लिए तुम्हे बहुत परिश्रम करना पड़ेगा।
  • मुझे बैठने के लिए थोड़ी जगह चाहिए।
  • तुम्हे थोडा काम और करना पडेगा।
  • काम के साथ थोड़ा खाना खाते रहना।
  • कुम्भ के मेले में बहुत लोग आते हैं।
  • मुझे अपनी ज़िन्दगी में ढेर सारा पैसा कमाना है।

जैसा की आप ऊपर दिए गए उदाहरणों में देख सकते हैं बहुत, थोड़ी, ढेर सारा आदि शब्दों का प्रयोग किया गया है।

ये शब्द हमें सटीक मात्रा के बारे में नहीं बताते एवं ये हमें अनिश्चितता का बोध कराते हैं। अतः यह शब्द अनिश्चित परिमाणबोधक विशेषण के अंतर्गत आयेंगे।

इस लेख के विषय में यदि आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो उसे आप नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

About the author

विकास सिंह

विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

4 Comments

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!