Tue. Jan 31st, 2023
    नेपाल के प्रधानमंत्री

    नेपाल की दक्षिणपंथी राजनीतिक पार्टी ने मांग की कि सहिष्णु प्रावधान को पलटकर देश को एक हिन्दू राष्ट्र घोषित कर देना चाहिए। साल 2006 में जनता के आंदोलन की सफलता के बाद साल 2008 में नेपाल को सहिष्णु राष्ट्र घोषित कर दिया गया था। इस दौरान राजशाही का अंत हुआ था।

    नेपाली मीडिया के मुताबिक पूर्व उप प्रधानमंत्री कमल थापा के नेतृत्व की पार्टी राष्ट्रीय प्रजातंत्र पार्टी ने प्रधानमंत्री ओली को एक ज्ञापन पत्र सौंपा और मांग की कि सहिष्णुता का प्रावधान को पलटकर, सरकार को पूर्ण धार्मिक स्वतंत्रता के साथ नेपाल को हिन्दू राज्य घोषित कर देना चाहिए। पार्टी ने जिला प्रशासनिक दफ्तर के माध्यम से प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को ज्ञापन पात्र सौंपा था।

    साथ ही पार्टी ने संघवाद जारी रखने या न रखने पर जनमत संग्रह की मांग की है। नेपाल में हिन्दू सबसे बड़ा धर्म है। साल 2011 के आंकड़ों के मुताबिक 81.3 फीसदी नेपाली जनता हिन्दू है, 9 फीसदी बौद्ध है, 3 प्रतिशत संजातीय धर्म, 1.4 प्रतिशत क्रिस्चियन, 0.2 फीसदी सिख, 0.1 फीसदी जैन और 0.6 प्रतिशत भिन्न धर्म या किसी धर्म से ताल्लुक नहीं रखते हैं।

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *