सोमवार, नवम्बर 18, 2019

नेपाल से चीन के लिए रवाना हुए चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग

Must Read

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग नेपाल की दो दिवसीय यात्रा के बाद वापस मुल्क लौट रहे हैं। दो दिनों की इस यात्रा के दौरान उन्होंने कई समझौतों पर दस्तखत किये थे। बीते 23 वर्षो में किसी चीनी राष्ट्रपति की यह पहली नेपाल ली यात्रा थी ताकि काठमांडू और बीजिंग के बीच द्विपक्षीय संबंधो पर कार्य किया जा सके।

ट्रांस हिमालयन रेलवे, इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट, टेक्निकल यूनिवर्सिटी और अन्य कई मेमोरेंडम ऑफ़ अंडरस्टैंडिंग पर दोनों देशो के बीच दस्तखत हुए हैं। शी ने रसुवगधी-छारे-काठमांडू टनल के निर्माण और अरनिको हाईवे को अपग्रेड करने का वादा किया है।

शनिवार को जिनपिंग ने ऐलान किया कि वह ट्रांस बॉर्डर रेलवे पर लचीलता से अध्ययन करेंगे जो नेपाल और चीन की जमीं से जोड़ता है। उन्होंने यह ऐलान नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी के साथ आयोजित समारोह में की थी।

चीनी राष्ट्रपति ने नेपाल में विपक्षी पार्टी नेपाली कांग्रेस के अध्यक्ष शेर बहादुर देबुआ से भी मुलाकात की थी और नेपाल व चीन के बीच दशकों पुराने सम्बन्धो को मज़बूत करने के तरीको पर चर्चा की थी।

चीन नेपाल की भारत पर निर्भरता को कम करने की कोशिशो में जुटा हुआ है। यह लिंक चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव का भाग होगा जिसमे नेपाल ने साल 2017 में हस्ताक्षर किये थे। ओली के आला सहायको में से एक राजन भट्टराई ने कहा कि “इस योजना के लचीलेपन का अध्ययन चीनी के जानकारों ने किया था।”

चीन के साथ रेलवे की परियोजना को चीन भारत से निर्भरता को खत्म करने के लिए एक वैकल्पिक चयन के तौर पर देखता है। नेपाल के दो-तिहाई व्यापार पर भारत का कब्ज़ा है और यह ईंधन के सप्लाई का एकमात्र स्त्रोत है। साल 2015 में बॉर्डर क्रोसिंग में बाधा उत्पन्न होने के कारण नेपाल में कई महीनो तक दवाइयों और ईंधन की काफी किल्लत रही थी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज के बाद...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को दरकिनार करते...

मोइन अली ने कहा, आईपीएल जीतने के लिए आरसीबी नहीं रह सकती विराट कोहली और डिविलियर्स के भरोसे

इंग्लैंड के हरफनमौला खिलाड़ी मोइन अली उन दो विदेशी खिलाड़ियों में से हैं जिन्हें रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आगामी...

श्रीलंका राष्ट्रपति चुनाव: गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी, भारत के लिए झटका

श्रीलंका के राष्ट्रपति पद के चुनाव में गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी जताई जा रही है। मीडिया में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -