Sun. Jun 4th, 2023
    नीरव मोदी

    भारत से भगोड़ा हीरा व्यापारी नीरव मोदी जमानत के लिए लंदन की शाही न्यायिक अदालत में याचिका दायर की है। यह लंदन की उच्च अदालत है और निचली अदालत ने उनकी याचिका को तीन बार खारिज कर दिया था। रॉयल कोर्ट नीरव मोदी की याचिका पर सुबह 10 बजे सुनवाई करेगा।

    48 वर्षीय नीरव दक्षिण-पश्चिममि लंदन में स्थित वांड्सवर्थ जेल में बाद हैं। उनकी याचिका पर आखिरी सुनवाई बीते माह वेस्टमिनिस्टर अदालत में हुई थी और उसकी याचिका को तीन बार चीफ मेजिस्ट्रेट एम्मा अर्बुथनोट ने खारिज कर दिया था।

    भारत के प्रवर्तन निदेशालय ने ब्रिटेन से मार्च में हीरा कारोबारी के प्रत्यर्पण का आग्रह किया था, उस दौरान वह लंदन की सड़कों पर नजर आया था। नीरव मोदी ने मुंबई में पंजाब नेशनल बैंक की ब्रांच से 11400 करोड़ रूपए का गबन किया है। इंटरपोल ने नीरव मोदी के खिलाड़ बीते वर्ष रेड कार्नर नोटिस जारी कर दिया था।

    मध्य लंदन में स्थित मेट्रो बैंक ब्रांच से जारी प्रत्यर्पण वारंट के बाद स्कॉटलैंड के अधिकारीयों ने नीरव मोदी को हिरासत में लिया था। वह 19 मार्च को एक नया बैंक अकाउंट खोलने का प्रयास कर रहा था।

    नीरव मोदी की गिरफ्तारी के बाद भारत ने अदालतों द्वारा पास चार्जशीट, एफआईआर और गैर जमानती वारंट ब्रितानी विभागों के साथ साझा किये थे। अधिकारीयों ने सीपीएस को सूचना दी कि अदालत में नीरव मोदी को आर्थिक आपराधिक भगोड़ा घोषित करने के लिए याचिका दायर की गई है।

    नीरव मोदी एक भारतीय व्यापारी है, जो 2010 में स्थापित ‘नीरव मोदी ग्लोबल डायमंड जेवेलरी हाउस’ के संस्थापक है।उसकी इस कंपनी का मुख्यालय मुंबई में है। पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में $1.8 बिलियन के एक धोखाधड़ी मामले में फिलहाल उस पर जांच चल रही है। नीरव मोदी को भारत सरकार ने 11000 करोड रु फ़्रॉड केस में भगोड़ा घोषित किया है।

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *