Thu. Jun 13th, 2024
    नीना गुप्ता: मुझे अपनी सार्वजनिक छवि के कारण एक अभिनेत्री के रूप में सहना पड़ा

    राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता अभिनेत्री नीना गुप्ता का कहना है कि उन्हें अपनी सार्वजनिक छवि और निजी जीवन के कारण अपने करियर के शुरुआती दिनों में रूढ़िवादिता का सामना करना पड़ा। अभिनेत्री ने अभिनेता राजित कपूर के साथ एक्ट फेस्ट के दौरान एक इंटरैक्टिव सत्र में कहा-“मुझे अपनी सार्वजनिक छवि की वजह से एक अभिनेत्री के रूप में सहना पड़ा। इसलिए मुझे लगता है कि सिनेमा में किरदार पाने के लिए लोगों की आंखों में एक प्रकार की छवि बनाए रखना जरूरी है।”

    https://www.instagram.com/p/BtvzleeHjNn/?utm_source=ig_web_copy_link

    उन्होंने आगे कहा-“समाज आज भी नहीं बदला है और यही कारण है कि मैं विशेष रूप से सभी इच्छुक अभिनेत्रियों को बताना चाहती हूँ कि अपने पेशेवर स्थान पर इतना स्पष्टवादी मत बनो। मैंने सच में झेला है।”

    1982 में फिल्म ‘गांधी’ के साथ अपने करियर की शुरुआत करते हुए, नीना ने ‘जाने भी दो यारो’, ‘खलनायक’, ‘मंडी’ जैसी कई फिल्मों में अभिनय किया। हाल के दिनों में, फिल्म ‘बधाई हो’ में उनके प्रदर्शन को भारी सराहना मिली है।

    59 वर्षीय नीना, मशहूर फैशन डिजाइनर मसाबा गुप्ता की मां हैं, जो नीना और आइकॉनिक वेस्टइंडीज के क्रिकेटर विवियन रिचर्ड्स के प्यार की निशानी है।

    https://www.instagram.com/p/BtabU_3Hw24/?utm_source=ig_web_copy_link

    नीना के मुताबिक, “मेरी बिना शादी के एक बेटी हुई और इसने मुझे एक मजबूत नेतृत्व वाली महिला के रूप में साबित किया, जो कि मैं हूँ। लेकिन उन दिनों, एक मजबूत महिला केवल एक विलन का किरदार निभा सकती थी। इसलिए मैंने फिल्मों में ज्यादातर नकारात्मक भूमिकाएं निभाईं।”

    “लड़कियों, यदि आप धूम्रपान करना चाहते हैं, तो सार्वजनिक रूप से धूम्रपान ना करें या शारीरिक रूप से पुरुष मित्र के करीब ना आएं। इन सभी को मजबूत और स्वतंत्र महिला के संकेत के रूप में माना जाता है, जो आपको केवल एक प्रकार के किरदार दिला सकता है।”

     

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *