Sat. Feb 4th, 2023
    नामचीन इंडस्ट्रियलिस्ट राहुल बजाज नहीं रहे, 83 साल की उम्र में निधन

    राहुल बजाज, बजाज समूह के मानद अध्यक्ष और बजाज परिवार के सबसे मुख्य सदस्य, का पुणे शहर में 83 वर्ष की आयु में शनिवार दोपहर निधन हो गया। बजाज व्यापक रूप से सम्मानित उद्योगपति है जो कुछ समय से बीमार चल रहे थे। बजाज समूह करीब 96 साल पुराना समूह है।

    परिवार द्वारा जारी एक ब्यान में कहा गया है, “वह हमारे देश की स्थापना के दिनों से चली आ रही पारिवारिक विरासत के पथ प्रदर्शक थे और एक नए भारत के निर्माण के हिमायती थे।”

    राहुल बजाज, बजाज समूह के संस्थापक जमनालाल बजाज के पोते थे, जिन्होंने 1926 में समूह की स्थापना की थी। जमनालाल बजाज जी को महात्मा गाँधी के रूप में मार्गदर्शक मिला, उन्होंने गाँधी जी के सिद्धांतों और गांधीवादी मूल्यों पर व्यवसाय की नींव रखी। जमनालाल के सबसे बड़े बेटे, कमलनयन ने 1942 में बजाज का पदभार संभाला और विनिर्माण क्षेत्र में विस्तार किया जिसमें विशेष रूप से बजाज स्कूटर शामिल है। कमलनयन के छोटे भाई रामकृष्ण ने 1972 में पदभार ग्रहण किया और 1994 में उनकी मृत्यु के उपरान्त, पदभार राहुल बजाज को सौंप दिया गया।

    2007 में पहली बार उद्योगपति बजाज 1.1 बिलियन डॉलर की संपत्ति के साथ अरबपति रैंकिंग में शामिल हुए। राहुल बजाज के तहत, बजाज समूह ने Two Wheeler, वित्तीय सेवाओं और बिजली के उपकरणों जैसे क्षेत्रों में 40 कंपनियों के समूह में विकास किया। मृत्यु के समय,वे फोर्ब्स की दुनिया में रीयल-टाइम अरबपति रैंकिंग के अनुसार, 8.2 बिलियन डॉलर संपत्ति के साथ 302 वें स्थान पर थे।

    वें ऐसे बेबाक उद्योगपति थे, जिन्होंने सत्ता से सच बोलने में कभी संकोच नहीं किया। उनका गृह राज्य महाराष्ट्र द्वारा राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। भारतीय राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने अपनी वेदना व्यक्त करते हुए कहा ,”बजाज का करियर देश के कॉर्पोरेट क्षेत्र की वृद्धि और जन्मजात ताकत को दर्शाता है।” भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी भी ट्वीट कर अपना दुःख व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि बजाज “सामुदायिक सेवा के बारे में भावुक थे और एक महान संवादी थे।”

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *