पीएम नरेंद्र मोदी: राज्य सरकार ने केरल की संस्कृति के हर पहलु का अपमान किया है

पीएम नरेंद्र मोदी: राज्य सरकार ने केरल की संस्कृति के हर पहलु का अपमान किया है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को फिर सबरीमाला मंदिर मुद्दे को घेरते हुए, केरल सरकार को निशाना बनाया और कहा कि वे केरल की संस्कृति के हर पहलु का अपमान कर रही है।

उन्होंने कांग्रेस और लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट (एलडीएफ) दोनों को महिला सशक्तीकरण की कोई परवाह नहीं करने के लिए लताड़ लगाई, तीन तलाक को समाप्त करने के एनडीए सरकार के प्रयासों का विरोध करने का उदाहरण देकर।

उन्होंने सवाल किया-“मैं आपको बता दूँ, ना कांग्रेस को और ना ही वाम दलों को महिला सशक्तीकरण की कोई परवाह है। अगर उन्हें होती तो वे तीन तलाक को समाप्त करने के एनडीए सरकार के प्रयासों का विरोध नहीं करते। भारत के पास कई महिला मुख्यमंत्री रही हैं, मगर क्या कोई कम्युनिस्ट मुख्यमंत्री है?”

सबरीमाला मुद्दे पर, पीएम मोदी ने इलज़ाम लगाया कि राज्य के सांस्कृतिक लोकाचार पर वाम सरकार ने हमला कर रखा है।

उनके मुताबिक, “दुर्भाग्य से आज, केरल के सांस्कृतिक लोकाचार पर हमला हो रहा है। और ये हमला, राज्य में सरकार चला रही पार्टी द्वारा किया गया है। सबरीमाला मंदिर के मुद्दे ने पूरे देश का ध्यान अपनी और खींच लिया है। भारत के लोग देख रहे हैं कि कैसे केरल की वाम सरकार, केरल की संस्कृति के हर पहलु का अपमान कर रही है। मैं ये समझ नहीं पा रहा कि कम्युनिस्ट हमारी संस्कृति और सभ्यता को क्यों कम आंक रहे हैं, जो समय की कसौटी पर खरी उतरी है। यूडीएफ भी वाम दलों की तरह ही है।”

प्रधानमंत्री ने विपक्ष को ‘राजनीतिक दिवालियापन’ के लिए भी निशाना साधा।

उन्होंने कहा-“भारत की ताकत लोकतंत्र में निवास करती है। हमारी ज़मीन से ही लोकतंत्र पूरी दुनिया में फैला है। चुनाव आएँगे और चले जाएँगे मगर देश रहेगा। नरेंद्र मोदी को नापसंद करने के चक्कर में, कांग्रेस और वाम दल और उनके दोस्तों को संस्थाओं और हमारे लोकतंत्र का अपमान रोकना चाहिए।”

उन्होंने आगे कहा कि देश की संस्कृति का विरोध करने के अलावा, विपक्षियों में एक और समानता है, और वो है-भ्रष्टाचार। उनके मुताबिक, “पिछले तीन सालो में, कई सारे एलडीएफ मंत्रियों को इस्तीफा देना पड़ा। क्यों? कांग्रेस का इतिहास भी सबको पता है।”

“चार साल पहले दिल्ली में, आपने मुझे अपने चौकीदार के रूप में चुना था। मैं वहाँ हूँ। मैं भ्रष्टाचार की अनुमति नहीं दूंगा। मैं देश की संस्कृति और एकता को नष्ट नहीं होने दूंगा।”

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here