दा इंडियन वायर » समाचार » नए इनकम टैक्स नियम: ईपीएफ आय पर कर लगाने के लिए खातों को विभाजित करना होगा
अर्थशास्त्र समाचार

नए इनकम टैक्स नियम: ईपीएफ आय पर कर लगाने के लिए खातों को विभाजित करना होगा

सरकार ने मौजूदा प्रोविडेंट फंड (पीएफ) खातों को दो अलग-अलग खातों में विभाजित करने का फैसला किया है ताकि कर्मचारी के सालाना 2.5 लाख रुपये से अधिक के योगदान से होने वाली पीएफ आय पर नया कर लागू हो सके।

वित्त मंत्रालय ने मंगलवार को नए आयकर नियमों को अधिसूचित किया। लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि यह कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) और कुछ हजार नियोक्ताओं के लिए एक प्रशासनिक दुःस्वप्न साबित हो सकता है जो अपने कर्मचारियों की ईपीएफ बचत का प्रबंधन घर में करते हैं। .

आयकर (25वां संशोधन) नियम, 2021 के अनुसार “कर योग्य ब्याज की गणना के उद्देश्य के लिए भविष्य निधि खाते के भीतर पिछले वर्ष 2021-2022 के लिया अलग खाते को रखना होगा। एक व्यक्ति द्वारा किए गए बाद के सभी पिछले वर्षों के दौरान कर योग्य योगदान और गैर-कर योग्य योगदान के लिए भी बनाए रखा जाएगा।”

सभी ईपीएफ खातों को एक कर योग्य और गैर-कर योग्य योगदान खाते में विभाजित करना होगा। दुसरे खाते में 31 मार्च 2021 को उनके समापन खाते की शेष राशि सहित, उसके बाद किए गए कोई भी योगदान जो “कर योग्य योगदान खाते में शामिल नहीं हैं” और इन दो घटकों पर अर्जित वार्षिक ब्याज होगा।

ईपीएफओ में ईपीएफ खातों वाले 24.77 करोड़ सदस्य हैं जिनमें से 14.36 करोड़ सदस्यों को 31 मार्च, 2020 तक विशिष्ट खाता संख्या (यूएएन) आवंटित किया जा चुका है। इनमें से लगभग 5 करोड़ सदस्य अपने ईपीएफ खातों में 2019-20 के दौरान सक्रिय योगदानकर्ता थे।

पीएफ खातों के लिए समान सीमा ₹5 लाख है जहां नियोक्ता कोई योगदान नहीं करते हैं। लेकिन परिभाषा के अनुसार अधिकांश ईपीएफ खातों में आमतौर पर मासिक वेतन के 12% के नियोक्ता और कर्मचारियों से मिलान योगदान शामिल होता है।

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड के शीर्ष अधिकारियों ने पहले कहा था कि करदाताओं को कर रिटर्न दाखिल करते समय अपनी कुल आय में कर योग्य पीएफ ब्याज को शामिल करना होगा। लेकिन नए नियमों से पता चलता है कि कंपनियों द्वारा संचालित ईपीएफओ और पीएफ ट्रस्टों को कर कटौती करनी पड़ सकती है और इसे ऐसे खातों से राजकोष में प्रेषित करना पड़ सकता है।

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!