दा इंडियन वायर » समाचार » रामप्पा मंदिर के बाद अब गुजरात का धौलावीरा यूनेस्को की वर्ल्ड हेरिटेज साइट की सूची में शामिल
इतिहास समाचार

रामप्पा मंदिर के बाद अब गुजरात का धौलावीरा यूनेस्को की वर्ल्ड हेरिटेज साइट की सूची में शामिल

वर्तमान गुजरात में प्राचीन हड़प्पा के शहर धोलावीरा को मंगलवार को यूनेस्को की विश्व विरासत स्थल सूची (वर्ल्ड हेरिटेज साइट) में 40वें भारतीय स्थल के रूप में शामिल किया गया। यूनेस्को की यह घोषणा तेलंगाना के रामप्पा मंदिर को रविवार को इस सूची में शामिल होने के कुछ ही दिनों बाद हुई।

यूनेस्को ने कहा”धौलावीरा का प्राचीन शहर दक्षिण एशिया में सबसे उल्लेखनीय और बेहतर ढंग से संरक्षित शहरी बस्तियों में से एक है। इसका समय तीसरी से दूसरी सहस्राब्दी ईसा पूर्व तक है। इस साइट को 1968 में जेपी जोशी द्वारा खोजा गया था। यह साइट अपनी अनूठी विशेषताओं की वजह से बाकी स्थलों से अलग है, जैसे कि इसकी जल प्रबंधन प्रणाली, बहुस्तरीय रक्षात्मक तंत्र, निर्माण में पत्थर का व्यापक उपयोग और विशेष दफन करने की संरचनाएं।”

साइट पर तांबे, खोल, पत्थर, आभूषण, टेराकोटा और हाथीदांत की कई कलाकृतियां मिली थीं। यूनेस्को ने कहा, “दो नए खुदे हुए विश्व धरोहर स्थल पहले के समाजों, रीति-रिवाजों और समुदायों के ज्ञान और जीवन के तरीकों में महान अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं।”

कच्छ जिले में स्थित, धोलावीरा लगभग 4,500 साल पहले की सिंधु घाटी सभ्यता की दो सबसे उल्लेखनीय खुदाई में से एक है। संस्कृति मंत्रालय के एक बयान में कहा गया है कि साइट 2014 से यूनेस्को की अस्थायी सूची में थी और भारत ने जनवरी 2020 में अपना डोजियर जमा किया था।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट्स की एक श्रृंखला में कहा कि वह धौलावीरा को वर्ल्ड हेरिटेज साइट की सूची में शामिल किये जाने से खुश हैं।

प्रधान मंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा कि, “धौलावीरा एक महत्वपूर्ण शहरी केंद्र था और हमारे अतीत के साथ हमारे सबसे महत्वपूर्ण संबंधों में से एक है। यह विशेष रूप से इतिहास, संस्कृति और पुरातत्व में रुचि रखने वालों के लिए यहाँ की एक यात्रा अवश्य है। मैं अपने छात्र दिनों में पहली बार धौलावीरा गया था और उस जगह से मंत्रमुग्ध हो गया था।”

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!