Tue. Feb 27th, 2024
    ‘द राइज एंड डिक्लाइन ऑफ कांग्रेस पार्टी’ पर होना है अध्ययन, पीएम मोदी ने कांग्रेस पर कसा तंज

    पीएम मोदी ने बुधवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब दिया। अपने 85 मिनट के भाषण में उन्होंने विपक्ष की एकता से लेकर राहुल की भारत जोड़ो यात्रा पर तंज कसा। पीएम मोदी ने कहा कि यहां कुछ लोगों को हार्वर्ड का क्रेज है। कोरोना काल में ऐसा ही कहा गया था कि भारत की बर्बादी पर हार्वर्ड में स्टडी होगी। मुझे विश्वास है कि भविष्य में कांग्रेस की बर्बादी पर हारवर्ड नहीं, बड़े-बड़े विश्वविद्यालयों में अध्ययन होना ही होना है।

    पीएम ने कहा, कुछ लोग ऐसी निराशा में डूबे हैं। काका हाथरसी ने कहा था, “आगा पीछा देखकर क्यों होते गमगीन, जैसी जिसकी भावना वैसा दिखे सीन।” निराशा का कारण है- जनता का बार-बार हुकुम, लेकिन साथ-साथ इस निराशा के बीचे जो मन में पड़ी चीज है। वो चैन से सोने नहीं देती है। वर्ष 2004 से 2014 के बीच यूपीए सरकार का दशक जहां Lost Decade के रूप में जाना जाएगा, वहीं इस दशक को लोग India’s Decade बता रहे हैं।

    2004 से 2014 आजादी के इतिहास में घोटालों का समय रहा। कश्मीर से कन्याकुमारी, भारत के हर कोने में आतंकवादी हमलों का सिलसिला 10 साल चलता रहा। 10 साल में जम्मू-कश्मीर में हिंसा होती रहती थी। आज हर मौके को मुसीबत में पलटना यूपीए की पहचान बन गई है।

    पीएम मोदी ने कहा कि यहां कुछ लोगों को हार्वर्ड का क्रेज पर कहा, “एक नेता ने कहा था हार्वर्ड में स्टडी होगी। हार्वर्ड में स्टडी हो चुकी है। इस स्टडी का टॉपिक है “द राइज एंड डिक्लाइन ऑफ कांग्रेस पार्टी।” मुझे विश्वास है कि भविष्य में कांग्रेस की बर्बादी पर हारवर्ड नहीं, बड़े-बड़े विश्वविद्यालयों में अध्ययन होना ही होना है।”

    मोदी ने कहा, यूपीए  के 10 साल में सबसे ज्यादा घोटाले हुए। 2004 से 2014 तक यूपीए ने हर मौके को मुसीबत में बदल दिया। जब टेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन का युग बढ़ रहा था, उसी समय ये 2G में फंसे रहे। 2010 में कॉमनवेल्थ गेम्स हुए, तब कॉमनवेल्थ गेम्स घोटाले में देश दुनिया में बदनाम हो गया। सदी के दूसरे दशक में भारत की चर्चा ब्लैकआउट के लिए हुई, तब कोयला घोटाला चर्चा में आ गया। 2008 के आतंकी हमले को कोई भूल नहीं सकता है। 10 साल तक देश आतंकवाद से जूझता रहा।

    मोदी के भाषण के बाद राहुल गांधी ने कहा, पीएम ने मेरे एक भी सवाल का जवाब नहीं दिया। इसके पीछे कई सारे कारण हैं। मैं संतुष्ट नहीं हूं, लेकिन इससे सच्चाई उजागर हो रही है। राहुल ने ट्वीट किया, “न जांच कराएंगे, न जवाब देंगे – प्रधानमंत्री जी बस अपने ‘मित्र’ का साथ देंगे।”

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *