Sat. Feb 24th, 2024
    द ताशकंद फाइल्स: विवेक अग्निहोत्री को मिला लाल बहादुर शास्त्री के पोते से कानूनी नोटिस, साथ ही किया धमकी मिलने का दावा

    विवेक ओबेरॉय अभिनीत फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ के बाद, अब एक और राजनीतिक बायोपिक विवादों में फंस गयी है। निर्देशक विवेक अग्निहोत्री की फिल्म “द ताशकंद फाइल्स” को पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के पोते विभाकर शास्त्री और दिवाकर शास्त्री से कानूनी नोटिस मिला है। उन्होंने इसे प्रोपेगंडा फिल्म बताते हुए इलज़ाम लगाया कि ये एक अनुचित और अनावश्यक विवाद पैदा करने की कोशिश है।

    एक प्रेस कांफ्रेंस में, कानूनी नोटिस को संबोधित करते हुए विवेक ने कहा कि ट्रेलर कुछ वक़्त से सार्वजानिक है और दावा किया कि शास्त्री परिवार को भी ट्रेलर बहुत पसंद आया है। उन्होंने इलज़ाम लगाया कि ये कांग्रेस के शीर्ष नेता द्वारा किया गया है।

    https://www.instagram.com/p/BwBWIdPHTF4/?utm_source=ig_web_copy_link

    उनके मुताबिक, “हमने रिपोर्ट को प्रमाणित कर दिया है, रिकॉर्ड्स आरटीआई के आधार पर उपलब्ध थे। हमने उनकी मौत से सम्बंधित हर प्रामाणिक फाइलों और उनके दस्तावेजों से फिल्म बनाई थी। 

    हमने ट्रेलर रिलीज़ किया और वह सार्वजानिक था। ट्रेलर को प्यार मिला और बहुत सराहा गया। यहाँ तक कि शास्त्री परिवार ने भी ट्रेलर को प्यार दिया और सराहा। 2 दिन पहले, 200 से ज्यादा लोगो को ट्रेलर प्रीव्यू के लिए आमंत्रित किया गया था। और शास्त्री परिवार से भी 15-20 लोगो ने इसमें भाग लिया। शास्त्री के पोते ने खुद ट्रेलर की सराहना की कि ये युवाओं को प्रेरित करेगा, उन्होंने प्रशंसा की।

    हम कानूनी नोटिस मिलने से चौक गए हैं और मुझे यकीन है और मुझे ये कहने में कोई डर नहीं है कि ये कांग्रेस के शीर्ष नेता द्वारा किया गया है।”

    https://www.instagram.com/p/BvJwXfCHmqz/?utm_source=ig_web_copy_link

    बिना नाम लिए उन्होंने कानूनी नोटिस को झूठे इलज़ाम कहकर खारिज कर दिया और सारा इलज़ाम कांग्रेस के सर्वोच्च परिवार पर लगाया।

    “फिल्म ‘द ताशकंद फाइल्स’ पूर्व दिवंगत पीएम लाल बहादुर शास्त्री पर आधारित है। उनकी मौत पर बहुत से सवाल खड़े हुए। 53 सालो तक, उनका परिवार देनेवाले से पोस्ट-मार्टम के दिन से ही अनुरोध करता रहा। इस कहानी में बहुत से छेद हैं। उनमे से कई लोगो ने मुझसे इस कहानी में गहराई से देखने के लिए कहा।

    कांग्रेस के सर्वोच्च परिवार के कारण, वह हमें झूठे इल्जामो के आधार पर फिल्म रिलीज़ नहीं करने दे रहे।” 

    https://www.instagram.com/p/Bvg-GZijyFm/?utm_source=ig_web_copy_link

    विवेक ने ये भी दावा किया कि उन्हें हर दिन धमकियाँ मिल रही हैं।

    “यह हाथ घुमाना है … वे हमें इस फिल्म को नहीं दिखाने के लिए मजबूर कर रहे हैं। 

    मैंने खुला कहा और मेरी पहली फिल्म से मेरे व्यक्तिगत अनुभव के कारण मुझे यह कहने में कोई शर्म नहीं है। उन्होंने मुझे मारा, वहां मेरे पर हमला किया, इसे हर जगह झुकाने की कोशिश की और मुझे दिखाने के लिए बहुत कुछ करना पड़ा। इस फिल्म के साथ भी नॉन-स्टॉप सन्देश भेज रहे हैं … यदि आप मेरे फोन को देखते हैं तो मैं चौंक जाता हूँ और इतनी धमकियाँ को देखकर आश्चर्यचकित हो जाता हूँ।

    हम आसपास कोई विवाद नहीं चाहते हैं। हम जानते थे, इसीलिए आप शांत हो गए कि इसका उत्तर प्राप्त करना और विवाद शुरू करना बहुत आसान है क्योंकि हमारा मानना है कि यह बहुत संवेदनशील विषय है … शास्त्री जी इस देश के सबसे विनम्र ईमानदार प्रधानमंत्री थे।”

    मिथुन चक्रवर्ती, नसीरुद्दीन शाह, पंकज त्रिपाठी, श्वेता बसु और पल्लवी जोशी अभिनीत फिल्म “द ताशकंद फाइल्स” 12 अप्रैल को रिलीज़ हो रही है।

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *