Tue. Nov 29th, 2022

    बीसीसीआई और कोहली (BCCI and Kohli Controversy) विवाद का असर भारतीय टीम के परफॉर्मेंस पर साफ दिख रहा है। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट मैचों में 2-1 की करारी हार के बाद अब वनडे सीरीज में 3-0 से शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा।

    तीन एकदिवसीय मैचों की श्रृंखला के शुरुआती 2 मैचों में ही भारत को हराकर द. अफ्रीका ने अजेय बढ़त बना ली थी। ऐसे में केपटाउन में कल खेले गए तीसरे और आख़िरी मुकाबले में जीत या हार से सीरीज़ के नतीजे पर कोई फर्क नहीं पड़ना था। भारत के पास अपनी साख बचाने का आखिरी मौका था। हालाँकि इस औपचारिक मुकाबले में भी भारत की टीम को मुँह की खानी पड़ी।

    कैसा रहा इस मैच में भारत का प्रदर्शन…

    इस सीरिज में भारत की कमान संभाल रहे के.एल. राहुल ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। राहुल के आमंत्रण पर बल्लेबाजी करने उतरी द.अफ्रीका की टीम ने क्विन्टन डी कॉक के जबरदस्त शतकीय पारी के बदौलत निर्धारित 50 ओवर से 1 गेंद पहले ही 287 रन बनाकर आल आउट हो गई।

    इसके जवाब में 288 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारत की टीम 49.2 ओवर में 283 रन बनाकर सिमट गई। इस तरह भारत को 4 रनों से शिकस्त का सामना करना पड़ा। भारत के तरफ से विराट कोहली ने 65 और ओपनर शिखर धवन ने 61 रन बनाए।

    कप्तान राहुल के विकेट सस्ते में खो देने के बाद दोनों ने एक अच्छी साझेदारी कर एक उम्मीद जरूर जगाई लेकिन इन दोनों के आउट होने के बाद मध्यक्रम फिर से ध्वस्त हो गया।

    क्या वजहें रही भारत के लचर प्रदर्शन के पीछे…

     राहुल की कप्तानी:

    एकदिवसीय टीम के नियमित और नवनियुक्त कप्तान रोहित शर्मा के अनुपस्थिति में इस पूरे सीरीज में भारतीय दल की कमान के एल राहुल के हाँथो में थी। के.एल. राहुल आईपीएल में जरूर पंजाब की टीम की कप्तानी कर चुके हैं। लेकिन अंतराष्ट्रीय मैचों में कप्तानी का कोई अनुभव नहीं है। उनकी यह अनुभवहीनता मैदान पर भी देखने को मिली। चाहे टीम का चयन हो या गेंदबाजी में बदलाव; मैदान पर उनके कई फैसले हज़म नहीं हुए।

    उदाहरण के लिए, पहले मैच में 5 प्रमुख गेंदबाजों के ठीक ठाक पिटाई के बावजूद वेंकटेश अय्यर के रूप में मौजूद छठे विकल्प का उपयोग नहीं करना या आखिरी मैच में दूसरे मैच में उतरी टीम में अचानक 4 बड़े परिवर्तन करना।

    विराट कोहली और बीसीसीआई विवाद

    विराट कोहली और बीसीसीआई के बीच पिछले कई महीनों से चल रही खींचतान अब टीम के मनोबल और प्रदर्शन पर साफ़ झलक रहा है। विराट कोहली अब किसी भी फॉर्मेट में भारत के कप्तान नहीं है। उनका प्रदर्शन भी अपेक्षा के अनुरूप नहीं रहा है। विराट, जो आज से 2 साल पहले लगभग हर चौथी या पांचवीं पारी में शतक जड़ रहे थे; आज उनके बल्ले से किसी भी फॉर्मेट में शतक आये हुए 2 साल से ज्यादा हो गया है।

    पारी के मध्य ओवरों में स्पिनरों का जादू नहीं चलना…

    “हंटिंग इन पेयर (Hunting In Pair)” वाला फॉर्मूला क्रिकेट के मैदान पर अक्सर देखा जाता है। लेकिन भारत की टीम में जब से कुलचा जोड़ी (कुलदीप यादव और यजुवेंद्र चहल की जोड़ी) टूटी है और इनके जगह दूसरे स्पिनर्स को अजमाया गया है, भारत के स्पिनरों द्वारा विकेट चटकाने की दर (Average Wickets per match) एकदम नीचे आ गई है। ऐसे में 15-40 ओवर्स के बीच विपक्षी टीम जमकर रन बनाती है औऱ भारत के लिए यह एक परेशानी का सबब बन गया है।

    द. अफ्रीका के खिलाड़ियों का उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन

    पूरे सीरीज के दरमियान भारत की टीम काफी औसत दर्जे की दिखाई पड़ी और निश्चित ही अपनी क्षमता के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर पाई। लेकिन वहीं द. अफ्रीका की टीम टेस्ट मैचों के बाद एकदिवसीय में भी उम्मीद से बहुत बेहतर खेल दिखाया और खेल के हर विभाग में भारत के टीम पर बीस साबित हुई।

    द. अफ्रीका क्रिकेट बोर्ड ने बीसीसीआई को शुक्रिया कहा

    द. अफ्रीका क्रिकेट के  डायरेक्टर और पूर्व कप्तान ग्रीम स्मिथ ने बीसीसीआई (BCCI) और भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) को कोविड-19 के साये मे भी सीरीज खेलने के लिए शुक्रिया अदा किया।

    गौरतलब है कि कोविड19 के नए प्रारूप ओमिक्रोन (Omicron) की शुरुआत अफ्रीका से ही हुई थी जिसके कारण ओमिक्रोन के शुरुआत में विश्व पटल पर अफ्रीका की एक अलग सी छवि बना दी गई थी। ऐसे में भारत की टीम का द. अफ्रीका के भी प्रभावित होने के आसार थे। हालाँकि क्रिकेट द.अफ्रीका और बीसीसीआई ने आपसी सहमति के बाद इस सीरीज को एक हफ्ते की देरी से शुरू किया था।

    3 टेस्ट और 3 एकदिवसीय मैचों की सीरीज का सफलतापूर्वक आयोजित हो जाने के बाद स्मिथ ने बीसीसीआई को धन्यवाद दिया।

    बीसीसीआई को सुलझाना होगा पूरा विवाद

    बीसीसीआई और कोहली विवाद को जितना जल्दी सुलझा लिया जाए, वह भारतीय टीम के लिए उतना ही बेहतर होगा। अच्छी बात यह है कि विराट कोहली के समकक्ष टीम के एक और वरिष्ठ खिलाड़ी रोहित शर्मा अपनी चोट से उबर चुके हैं और कई मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आने वाली भारत वेस्टइंडीज सीरीज में कप्तानी करने को तैयार हैं।

    रोहित शर्मा अभी तक सफेद गेंद की क्रिकेट (One Day and T20I) की ही कप्तानी संभाल रहे हैं। लेकिन साउथ अफ्रीका के हाथों 2-1 से करारी शिकस्त के बाद विराट कोहली के कप्तानी छोड़ देने से रोहित को टेस्ट मैचों की भी कप्तानी दी जा सकती है। हालाँकि इस बाबत अभी आधिकारिक घोषणा बाकी है।

    भारत को इसी साल 2022 के अक्टूबर में ICC T20I वर्ल्ड कप में हिस्सा लेना है जिसका आयोजन ऑस्ट्रेलिया में होना है।
    उसके अगले साल एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय विश्व कप (ICC ODI World Cup 2023) की मेजबानी करनी है। उसके कुछ ही महीने बाद आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप भी है। इसके पिछले संस्करण में भारत को फाइनल में न्यूजीलैंड के हाँथो करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा था।

    बता दे कि 2013 चैंपियंस ट्रॉफी के बाद से भारत कोई भी आईसीसी (ICC) टूर्नामेंट नहीं जीत सका है। विराट कोहली की कप्तानी जाने के पीछे यह एक प्रमुख वजह रही है।

    ऐसे में तमाम विवादों और अनिश्चितताओं को जितनी जल्दी सुलझा लिया जाए, वह उतना ही बेहतर होगा। उम्मीद है, वर्तमान बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली जो खुद के उच्च कोटि के क्रिकेटर और भारत के सफलतम कप्तानों में से एक रहे हैं, इसको भली भाँति समझते होंगे और जल्दी ही तमाम विवादों का निराकरण हो सकेगा।

    By Saurav Sangam

    | For me, Writing is a Passion more than the Profession! | | Crazy Traveler; It Gives me a chance to interact New People, New Ideas, New Culture, New Experience and New Memories! ||सैर कर दुनिया की ग़ाफ़िल ज़िंदगानी फिर कहाँ; | ||ज़िंदगी गर कुछ रही तो ये जवानी फिर कहाँ !||

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *