रविवार, दिसम्बर 8, 2019

दूसरी तिमाही में जीडीपी घटकर 4.5 फीसदी

Must Read

अमेरिकी राजनयिकों पर चीन ने उठाया जवाबी कदम

अमेरिका द्वारा चीनी राजनयिकों पर लगाए गए प्रतिबंध के मद्देनजर चीन ने जवाबी कदम उठाते हुए अमेरिकी राजनयिकों पर...

जीएसटी परामर्श दिवस पर वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने सुझाव मांगे

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लिए रिटर्न फाइलिंग प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए...

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते...

उत्पादन गतिविधियों में सुस्ती के कारण देश की समग्र विकास दर (जीडीपी) सितंबर में समाप्त दूसरी तिमाही (क्यू2) में घटकर 4.5 फीसदी हो गई। इस तरह लगातार पांचवीं तिमाही में भी जीडीपी में गिरावट दर्ज की गई है।

शुक्रवार को जारी किए गए आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि जुलाई-सितंबर की अवधि में भारत की अर्थव्यवस्था छह साल से अधिक की धीमी गति से बढ़ी। देश के सकल घरेलू उत्पाद या जीडीपी चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 4.5 प्रतिशत बढ़ी, जबकि पिछली तिमाही में यह 5 प्रतिशत और जुलाई-सितंबर 2018 में 7 प्रतिशत थी।

वृद्धि दर क्रमिक आधार पर 2019-20 के पहली तिमाही के 5 फीसदी से कम हो गई, 2018-19 के चौथी तिमाही में 5.8 फीसदी ही और 2018-19 की तीसरी तिमाही में 6.6 फीसदी रही।

जीडीपी के आंकड़े अर्थशास्त्रियों के अनुमान से भी बदतर थे। समाचार एजेंसी रॉयटर्स द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार, अर्थशास्त्रियों ने जुलाई-सितंबर में जीडीपी की वृद्धि दर 4.7 प्रतिशत रहने की उम्मीद की थी।

2013 के जनवरी-मार्च की अवधि के बाद पहली बार आर्थिक विकास की गति 5 प्रतिशत से कम हो गई, जब जीडीपी 4.3 प्रतिशत की दर से बढ़ी। शुक्रवार के आंकड़ों ने कई अर्थशास्त्रियों को निराश किया जिन्होंने हाल ही में खत्म हुए त्योहारी सीजन में अपनी मांग में तेजी लाने के लिए अपनी उम्मीद लगा रखी थी।

वर्तमान में देश की अर्थव्यवस्था उच्च जीएसटी दरों, कृषि संकट, वेतन में कमी और नकदी की कमी की वजह से ‘मंदी’ का सामना कर रही है।

उपभोग में मंदी के रुझान को अर्थशास्त्री मंदी के तौर पर जिक्र करते हैं, जो कि जीडीपी विकास दर में लगातार गिरावट का प्रमुख कारण है।

इसके परिणामस्वरूप ऑटोमोबाइल, पूंजीगत वस्तुएं, बैंक, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स, एफएमसीजी और रियल एस्टेट सहित सभी प्रमुख सेक्टरों में भारी गिरावट आई है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

अमेरिकी राजनयिकों पर चीन ने उठाया जवाबी कदम

अमेरिका द्वारा चीनी राजनयिकों पर लगाए गए प्रतिबंध के मद्देनजर चीन ने जवाबी कदम उठाते हुए अमेरिकी राजनयिकों पर...

जीएसटी परामर्श दिवस पर वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने सुझाव मांगे

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लिए रिटर्न फाइलिंग प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए सुझाव आमंत्रित किए हैं। केंद्र...

हॉकी : भारतीय महिला जूनियर टीम ने न्यूजीलैंड को 4-1 से हराया

भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम ने यहां जारी तीन देशों के हॉकी टूर्नामेंट में अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए शनिवार को न्यूजीलैंड को...

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए इंग्लैंड की टेस्ट टीम में लौटे जेम्स एंडरसन और मार्क वुड

इसी महीने होने वाले दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए जेम्स एंडरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम में वापसी हुई है। एंडरसन एशेज सीरीज के पहले...

मायावती ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर महिला सुरक्षा पर कड़े कदम उठाने की अपील

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद उत्तर प्रदेश के विपक्षी दलों ने सड़क पर उतर कर सरकार के खिलाफ मोर्चेबंदी की। सपा, कांग्रेस...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -