दा इंडियन वायर » समाचार » दिल्ली हाई कोर्ट ने लोकसभा उपाध्यक्ष के चुनाव की याचिका पर केंद्र को रुख साफ़ करने को कहा
राजनीति समाचार

दिल्ली हाई कोर्ट ने लोकसभा उपाध्यक्ष के चुनाव की याचिका पर केंद्र को रुख साफ़ करने को कहा

दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को केंद्र सरकार से एक याचिका पर अपना रुख स्पष्ट करने के लिए कहा। इस याचिका में कहा गया है कि लोकसभा के उपाध्यक्ष का पद खाली रखना संविधान के अनुच्छेद 93 का उल्लंघन है। याचिकाकर्ता पवन रिले ने बताया कि यह पद पिछले 830 दिनों से खाली है।

लोकसभा में कांग्रेस के फ्लोर लीडर अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि, “यह एक संविधान-अनिवार्य पद है और औपचारिकता मात्र नहीं है। कांग्रेस ने हर सत्र के दौरान इस पद के लिए चुनाव कराने की मांग की है, लेकिन हमारी मांगों को अनसुना कर दिया गया है।”

तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि यह पद 12वीं लोकसभा में सबसे लंबे समय तक खाली रहा था और तब भी संसद की 59वीं बैठक में इस पद के लिए चुनाव हुए थे। डेरेक ओ’ब्रायन ने कहा कि, “मोदी-शाह संसद सहित हर संस्थान को खत्म कर रहे हैं। यह बेहद दुख और गुस्से की बात है।”

वहीं लोकसभा में कांग्रेस के मुख्य सचेतक कोडिकुन्निल सुरेश ने कहा कि परंपरा के अनुसार यह पद विपक्ष के पास जाता रहा है। उन्होंने कहा कि, “संसद के बजट सत्र के दौरान लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को कोरोना हो गया था। लेकिन ऐसे में अध्यक्षों का पैनल काम संभालने के लिए सुसज्जित नहीं है।” अभी तक नौ सदस्य हैं जो भाजपा, द्रमुक, वाईएसआर कांग्रेस पार्टी, बीजद, तृणमूल कांग्रेस और रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी के पैनल का हिस्सा हैं।

एक डिप्टी स्पीकर को स्पीकर के समान विधायी शक्तियाँ प्राप्त होती हैं। मृत्यु, बीमारी या किसी अन्य कारण से अध्यक्ष की अनुपस्थिति में उपाध्यक्ष प्रशासनिक शक्तियों को ग्रहण करता है।

2019 के लोकसभा चुनाव के तुरंत बाद सरकार ने इस पद को भरने के लिए कुछ प्रयास किए थे। इसने वाईएसआर कांग्रेस पार्टी से संपर्क किया था जिसने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था क्योंकि इस पद पर रहते हुए आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा नहीं देने के लिए सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करना मुश्किल होता।

लोकसभा अध्यक्ष बिड़ला ने कहा था कि यह सदन के लिए एक उपाध्यक्ष का चुनाव करना है और यह अध्यक्ष का काम नहीं है। बीजद सांसद भर्तृहरि महताब, जो अध्यक्षों के पैनल के सदस्य हैं, ने कहा कि लोकसभा का कामकाज डिप्टी स्पीकर की कमी से प्रभावित नहीं हुआ। उन्होंने कहा, “वर्तमान में, नाना पटोले के इस्तीफे के बाद महाराष्ट्र विधानसभा एक निर्वाचित अध्यक्ष के बिना काम कर रही है।”

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!