2022 तक राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में शुरू होगा नया एयरपोर्ट; इसी वर्ष शुरू होगा निर्माण

इन्दिरा गाँधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट

CAPA द्वारा हाल ही में पेश की गयी एक रिपोर्ट में बताया गया है की राजधानी दिल्ली को जल्द ही एक नया एयरपोर्ट मिल सकता है और इसी वर्ष प्रधानमंत्री मोदी द्वारा इस नए एअरपोर्ट के निर्माण के लिए आधारशिला राखी जायेगी।

नए एयरपोर्ट के बारे में पूरी जानकारी :

सेंटर फ़ॉर एविएशन (CAPA) जो कि विमानन और यात्रा उद्योग के लिए बाजार की बुद्धिमत्ता के सबसे भरोसेमंद स्रोतों में से एक है, के अनुसार, दिल्ली के दूसरे हवाई अड्डे के निर्माण कार्य की शुरुआत के लिए जल्द ही आधारशिला रखी जाएगी।

सीएपीए की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि पीएम मोदी 23 फरवरी से 25 फरवरी के बीच न्यू ग्रेटर दिल्ली एयरपोर्ट पुनर्विकास परियोजना के रूप में जाने वाले जेवर नोएडा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे (जेएनआईए) का उद्घाटन करने जा रहे हैं। इस परियोजना की लागत 3.1 बिलियन अमरीकी डॉलर तक आंकी गई है। यह सतह क्षेत्र द्वारा भारत का सबसे बड़ा हवाई अड्डा होगा।

भारत एविएशन मंत्रालय से मिली स्वीकृति :

हवाई अड्डे की योजनाओं को भारत के विमानन मंत्रालय ने 25 जून, 2015 को मंजूरी दी थी और जून 2017 में सैद्धांतिक रूप से सरकार की मंजूरी दी गई थी।

इस परियोजना को सार्वजनिक-निजी भागीदारी के रूप में लागू किया जाएगा। ऐसा होने के नाते, जीएमआर ग्रुप के पास दिल्ली के किसी भी नए हवाई अड्डे के लिए मना करने का पहला अधिकार है। पिछले साल फरवरी में, जीएमआर इन्फ्रास्ट्रक्चर के निदेशक के. नारायण राव ने जीएमआर की परियोजना में भाग लेने की योजना की पुष्टि की।

राव ने कहा कि परियोजना की देखरेख और देरी से बचने के लिए केंद्र सरकार, उत्तर प्रदेश राज्य सरकार और निजी क्षेत्र के प्रतिनिधियों के साथ एक समन्वय समिति की स्थापना की जानी चाहिए। उन्होंने योजनाबद्ध हवाई अड्डे के लिए मेट्रो रेल कनेक्टिविटी के विकास का भी आह्वान किया।

इंदिरा गाँधी एयरपोर्ट पर से बोझ होगा कम :

नया एयरपोर्ट बनने के बाद दिल्ली के पुराने इंदिरा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे से थोड़ा भार काम हो जाएगा क्योंकि नया हवाई अड्डे से भी यात्रियों को सुविधा मिलेगी। यह बात  उल्लेखनीय है की 2018 में इंदिरा गाँधी को भारत का सबसे व्यस्त एयरपोर्ट बताया गया था।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here