दा इंडियन वायर » समाचार » दिल्ली और देवघर के बीच सीधी उड़ान सेवा का शुभारंभ, बाबा बैद्य नाथ धाम के तीर्थयात्रियों को पहुंचने में मिलेगी मदद
पर्यटन समाचार

दिल्ली और देवघर के बीच सीधी उड़ान सेवा का शुभारंभ, बाबा बैद्य नाथ धाम के तीर्थयात्रियों को पहुंचने में मिलेगी मदद

दिल्ली और देवघर के बीच सीधी उड़ान सेवा का शुभारंभ, बाबा बैद्य नाथ धाम के तीर्थयात्रियों को पहुंचने में मिलेगी मदद

नागरिक विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया और नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री वी के सिंह ने शनिवार को दिल्ली और देवघर के बीच इंडिगो की सीधी उड़ान सेवा का वर्चुअल माध्यम से शुभारंभ किया। नागरिक विमानन मंत्री ने कहा कि 655 एकड़ में फैले देवघर हवाई अड्डे का निर्माण किया गया है और यह हवाई अड्डा 400 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है। इसके तैयार होने से यह रांची के बाद झारखंड का दूसरा हवाई अड्डा बन गया है।

इंडिगो एयरलाइन ने इस मार्ग पर 180-सीटर ट्विन टर्बोफैन इंजन वाले ए-320 नियो यात्री विमान को तैनात कर रही है। इस विमान का मुख्य रूप से घरेलू मार्गों पर उपयोग किया जाता है। 

इस नई उड़ान सेवा के साथ, देवघर से दैनिक प्रस्थान करने वाली उड़ानों की कुल संख्या 11 हो जाएगी।

इस अवसर पर अपने संबोधन में ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया ने कहा, “देवघर में बाबा बैद्य नाथ धाम एक अंतरराष्ट्रीय धार्मिक विरासत है और मुझे यह बताते हुए बहुत खुशी हो रही है कि मेरे मंत्रालय ने लाखों तीर्थयात्रियों को देवघर पहुंचाने में मदद की है। देश की मज़बूत आर्थिक शक्ति के साथ-साथ हमें देश की सॉफ्ट पावर को भी जोड़ने की जरूरत है। यही कारण है कि अयोध्या अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे और अब देवघर हवाई अड्डे जैसी जगहों पर प्रमुख विमानन बुनियादी ढांचे का निर्माण किया गया है।”

सिंधिया ने कहा कि वह देश के छोटे शहरों को हवाई सेवा से जोड़ने के लिए इंडिगो को भी बधाई देना चाहता है। उन्होंने कहा वह दिन दूर नहीं जब नागरिक विमानन सेवा भारत में यात्रा का प्राथमिक स्रोत बन जाएगी। माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 12 जुलाई को घोषणा की थी कि दिल्ली से देवघर हवाई सेवा से जुड़ जाएगा और आज यह सच हो रहा है। 

यह मालुम हो कि इस विमान के कप्तान सांसद सह पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी थे।

उन्होंने कहा की उनकी मंत्रालय झारखंड में 3 और हवाई अड्डा- बोकारो, जमशेदपुर और दुमका में बनाने की दिशा में भी काम कर रही हैं, निर्माण कार्य पूरा होने पर झारखंड में कुल हवाई अड्डों की संख्या 5 हो जाएगी।

मंत्री ने कहा, “उड़ान योजना के अंतर्गत 425 मार्ग और 68 हवाई अड्डे, हेलीपोर्ट, जल एरोड्रम का संचालन किया गया है और 1 करोड़ से अधिक लोगों ने इसका लाभ उठाया है। इनमें ज्यादातर पहली बार हवाई यात्रा करने वाले लोग शामिल हैं। इस योजना के अंतर्गत 1 लाख 90 हजार से अधिक उड़ानें संचालित की जा चुकी हैं। नागरिक विमानन मंत्रालय ने पिछले 8 वर्षों में 66 हवाई अड्डों का निर्माण किया है। इससे पहले वर्ष 2014 में हवाई अड्डों की संख्या केवल 74 थी। हम 220 नए हवाई अड्डों के निर्माण की योजना बना रहे हैं जिसमें अगले 5 वर्षों में जल एरोड्रम और हेलीपोर्ट शामिल हैं।”

नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री विजय कुमार सिंह ने कहा, “देवघर में हवाई अड्डे का निर्माण करने की मांग लंबे समय से चली आ रही थी जिसका उद्घाटन इस साल 12 जुलाई को हमारे माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया था।”

राज्य मंत्री ने कहा कि इससे पहले देवघर केवल कोलकाता से ही जुड़ा था लेकिन अब यह सीधे दिल्ली से जुड़ जाएगा। इससे बाबा बैद्य नाथ धाम में आने वाले तीर्थयात्रियों की निर्बाध आवाजाही में मदद मिलेगी। 

उन्होंने कहा कि इससे झारखंड में पर्यटन बढ़ेगा, और उन्हें उम्मीद है कि अन्य एयरलाइंस भी देवघर के लिए और अधिक उड़ानों के लिए उसी मार्ग को अपनाएंगी।

इस कार्यक्रम में झारखंड सरकार के पर्यटन मंत्री हाफिजुल हसन, निशिकांत दुबे, लोकसभा सांसद गोड्डा, झारखंड, नारायण दास, विधान सभा सदस्य, देवघर, सुनील सोरेन, विधान सभा सदस्य, दुमका, राजीव बंसल, सचिव, नागरिक विमानन मंत्रालय तथा नागरिक विमानन मंत्रालय, झारखंड सरकार और इंडिगो के कई अन्य गणमान्य व्यक्ति वर्चुअल माध्यम से शामिल हुए।

About the author

Shashi Kumar

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]