Wed. Dec 7th, 2022
    दिन में नींद आना

    कई लोग ऐसे होते हैं जो बिना दिन में सोये नहीं रह पाते हैं क्योंकि यह उनकी आदत बन जाती है। लेकिन क्या आपने कभी इस बात पर विचार किया है कि आखिर आपको दिन में नींद क्यों आती है?

    कुछ लोग कहते हैं कि दिन में सोना लाभकारी होता है और अन्य कहते हैं कि यह नुकसानदायक होता है।

    दरअसल दिन में नींद आना एक सामान्य बात है। हालाँकि सभी लोगों के लिए दिन में सोना उचित नहीं होता है।

    दिन में नींद आने के कारण

    आयुर्वेद इन सभी सवालों के जवाब बड़ी ही आसानी से देता है और दिन में सोने के नुक्सान और लाभों से हमें अवगत कराता है। हमारा शरीर प्रतिदिन चार घंटे की अवधि में चार दशकों के माध्यम से गुज़रता है। ये हैं चक्र – पित, और कफ।

    प्रत्येक समय अवधि संबंधित दोष से प्रभुत्व रखती है, और हमारे शरीर को प्राकृतिक लय के साथ ट्यून करने से हमें अपने जीवन में आसानी और सद्भाव का अनुभव करने में मदद मिलती है। 

    कफ दोष, जो 6 से 10 बजे के बीच हावी होता है, वह शरीर के बारे में है, जहां आप सक्रिय होना चाहते हैं। व्यायाम करना फायदेमंद होता है। यदि आप दिन के इस समय के दौरान सोते हैं, तो आप आलसी महसूस करेंगे, और आपके आंतरिक अंग उतना बेहतर और आसानी से काम नहीं करेंगे जितना उन्हें करना चाहिए।

    आयुर्वेद के अनुसार, दोपहर का भोजन दिन का सबसे महत्वपूर्ण भोजन होता है। इस प्रकार, एक हल्का नाश्ता करने की सलाह भी दी जाती है ताकि आप नींद महसूस न करें।

    पित 10 बजे से 2 बजे के दौरान हावी होता है। पित ट्रांसफॉर्मेटिव आग को संदर्भित करता है जो भोजन की पाचन की अनुमति देता है। यही कारण है कि यह हमेशा कहा जाता है कि आपको दोपहर के भोजन के दौरान अपना सबसे बड़ा भोजन पसंद करना होगा।

    इस समय के दौरान, आपका शरीर उस ऊर्जा को बदलने में सक्षम होता है जो आप ऊर्जा और ईंधन में खाते हैं जो शेष समय के दौरान सहायक होता है। चूंकि शरीर की ऊर्जा भोजन को पचाने की दिशा में अधिक केंद्रित होती है, इसलिए शारीरिक गतिविधियों के लिए कम ऊर्जा होती है।

    वता 2 बजे से शाम 6 बजे तक की अवधि में हावी होता है। यह समय मानसिक और रचनात्मक गतिविधियों के लिए सबसे अच्छा है क्योंकि आपका दिमाग बहुत प्रभावी ढंग से कार्य करता है। लेकिन इसके साथ ही, आप इस समय नींद महसूस कर सकते हैं।

    इस समय उन चीजों को हमेशा करना बेहतर होता है जो आपको गर्म चाय के कप के सामान आराम और ख़ुशी दें। और दोष का चक्र इस तरह से चल रहता है।

    दिन में नींद आने के उपाय

    आयुर्वेद के अनुसार, दिन में नहीं सोना चाहिए क्योंकि इससे कफ और पित्त दोष के बीच में असंतुलन पैदा हो जाता है। यह असंतुलन शरीर पर बुरा असर डाल सकता है। हालांकि, आयुर्वेद के अनुसार स्वस्थ लोग दिन में सो सकते हैं लेकिन सिर्फ गर्मियों में। इसका कारण यह होता है कि गर्मियों में रातें छोटी होती हैं जिसके कारण इस मौसम में शरीर में अधिक थकान हो जाती है।

    आयुर्वेद यह भी निश्चित करता है कि किन लोगों को दिन में सोना चाहिए और किन्हें नहीं। आइये उनके बारे में बताते हैं जो दिन में सो सकते हैं।

    • विद्यार्थी: ये लोग लगातार पढने से थक जाते हैं। दिन में सोने से इनके दिमाग को आराम मिलता है।
    • वयस्क: उनके दिमाग और शरीर को आराम देने के लिए।
    • जिन लोगों को पाचन सम्बन्धी समस्याएं होती हैं।
    • गायक: दिन में सोने से उनका वात दोष संतुलित रहता है।
    • गुस्से वाले लोग: सोने से उनके दिमाग को आराम मिलता है।
    • जिन लोगों की पूर्व में कोई सर्जरी हो चुकी हो।
    • जिन लोगों को वज़न बढ़ाना है या जो कुपोषण का शिकार हैं।
    • मजदूर जो दिन में बहुत काम करते हैं।
    • जो लोग दुखी रहते हैं वे दिन में सोने से अपना दुःख भूल जाते हैं।
    • जो लोग नशे में होते हैं।

    आइये बताते हैं किन लोगों को दिन में नहीं सोना चाहिए।

    • मोटापे से ग्रस्त लोग।
    • जो वज़न कम करने का प्रयास कर रहे हों।
    • मधुमेह से पीड़ित लोग।
    • जो लोग तैलीय खाना अधिक खाते हैं।

    इन लोगों को दिन में सोने से मना करने के कई कारण हैं। वे निम्न हैं:

    • बुखार
    • सर्दी में उत्तेजना
    • मोटापा
    • चक्कर आना और उल्टियाँ होना
    • तेज़ दिमाग की कमी
    • त्वचा रोग
    • सूजन
    • कमज़ोर प्रतिरक्षा प्रणाली
    • कमज़ोर इन्द्रियाँ

    उपसंहार

    दिन में सोने के विचार पर आयुर्वेद ने कई सलाह दी हैं। इसलिए हर इंसान को अपने अनुसार सोचना चाहिए कि दिन में सोने से उसपर फायदे होंगे या नुक्सान।

    7 thoughts on “दिन में नींद आना : कारण और उपाय”
    1. main jab bhi raat mein sone kii koshish kartaa hoon to mujhe kai der tak neend nahi aati or subaah uthne par neend adhoori si lagti hai m kya karun?

    2. Mai jaa raat me learning karte ho toh mujhe neend ana lagta hai iska koi upaya batao

    3. Jin logo ke din me bilkul km sone par bhi neend ki poorti ho jati hai unka dimag kis str ka hota hai ? Khana khane ke baad din me 10 minutes ke liye nind aakar inhi 10 minutes me neend ki poorti bhi ho jati hai, jb neend aane lgti hai tb ese lgta hai ki 1 ya 2 ghnte ke liye aayegi par sone ke baad 10 minutes me hi apne aap aankh khul jati hai neend bhi poori ho jaati hai . Yah dimag ka kesa str hai kripaya jarur batayen ….

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *