मंगलवार, सितम्बर 17, 2019

दलित भाजपा के ढोंग को समझ चुके हैं: बीजेपी सांसद सावित्री बाई फुले

Must Read

सोलोमन द्वीप ने थाईवान के बदले चीन संग राजनयिक संबंध स्थापित किए : ह्वा छुनइंग

बीजिंग, 17 सितम्बर (आईएएनएस)। चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ह्वा छुनइंग ने 16 सितंबर को इस बात पर संवाददाताओं...

अंतर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण स्मारक बैठक आयोजित

बीजिंग, 17 सितम्बर (आईएएनएस)। 2019 अंतर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण स्मारक बैठक 16 सितंबर को चीन के शानतोंग प्रांत के...

बिहार के एक गांव में भगवान की तरह पूजे जाते हैं मोदी

कटिहार, 17 सितंबर (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके 69वें जन्मदिन पर देश और विदेश से शुभकामना संदेश तो...
आदर्श कुमार
आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

बहराइच से भारतीय जनता पार्टी की सांसद सावित्री बाई फुले ने योगी आदित्यनाथ के हनुमान जी पर दिए गए दलित सम्बन्धी बयान के लिए उनपर निशाना साधा।

सावित्री बाई ने कहा कि “यदि वो (आदित्यनाथ) दलितों से सच में प्रेम करते हैं तो उन्हें उनसे उससे कहीं अधिक प्यार करना चाहिए जितना वो भगवान हनुमान से करते हैं। क्या उन्होंने कभी किसी दलित को गले लगाया? उन्होंने भले ही दलित के घर खाना खाया लेकिन वो खाना दलित द्वारा नहीं बनाया गया था। विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र उनके पास कोई मुद्दा नहीं बचा तो वो हनुमान जी को दलित बता रहे हैं। वो केवल दलित के वोट लेना चाहते हैं। लेकिन अब देश के दलित, पिछड़े और आदिवासी उनके ढोंग को समझ चुके हैं।”

फुले अक्सर दलितों के मुद्दे पर अपनी पार्टी की आलोचना करती रहती है।

राजस्थान में एक चुनावी रैली के दौरान आदित्यनाथ ने कहा था कि भगवान वंचित, वनवासी और दलित, सबको उत्तर से लेकर दक्षिण और पूरब से ले कर पश्चिम तक लोगों को एक सूत्र में बाँधने का काम किया।

आदित्यनाथ के इस बयान के बाद भीम आर्मी के अध्यक्ष चंद्रशेखर ने दलित समुदाय से आग्रह किया था कि देश के सभी हनुमान मंदिरों पर अपना हक जताएं।

फुले ने मांग की कि अगर हनुमान जी दलित थे तो देश के सभी हनुमान मंदिरों में दलितो को पुजारी बनाया जाए। उन्होंने पूछा कि जब हनुमान हमेशा भगवन राम के साथ रहे तो फिर उन्हें पूँछ क्यों दे दिया गया।

सावित्री बाई फुले ने ये भी कहा कि भगवन हनुमान मनुवादी लोगों के गुलाम थे। उन्होंने कहा “यदि उन्होंने राम की सेवा की, उनकी पूजा की तो उन्हें इंसान होना चाहिए था ना कि बन्दर। इस बार भी उन्हें दलित घोषित करना उनका शोषण किया गया। हम दलितों को इंसान क्यों नहीं समझा जाता।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

सोलोमन द्वीप ने थाईवान के बदले चीन संग राजनयिक संबंध स्थापित किए : ह्वा छुनइंग

बीजिंग, 17 सितम्बर (आईएएनएस)। चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ह्वा छुनइंग ने 16 सितंबर को इस बात पर संवाददाताओं...

अंतर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण स्मारक बैठक आयोजित

बीजिंग, 17 सितम्बर (आईएएनएस)। 2019 अंतर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण स्मारक बैठक 16 सितंबर को चीन के शानतोंग प्रांत के चिनान शहर में आयोजित हुई।...

बिहार के एक गांव में भगवान की तरह पूजे जाते हैं मोदी

कटिहार, 17 सितंबर (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके 69वें जन्मदिन पर देश और विदेश से शुभकामना संदेश तो मिल ही रहे हैं, उनके...

मोदी के जन्मदिन के शोर में दब गई सरदार सरोवर प्रभावितों की आवाज : मेधा

भोपाल, 17 सितंबर (आईएएनएस)। नर्मदा बचाओ आंदोलन की अगुवा मेधा पाटकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके समर्थकों पर बड़ा हमला बोला है, उनका...

सऊदी में तेल संयंत्रों पर हमले का भारतीय अर्थव्यस्था पर पड़ सकता है असर

नई दिल्ली, 17 सितंबर (आईएएनएस)। यमन के ईरान समर्थित विद्रोही समूह हौती ने शनिवार को सऊदी अरब के अबक्विक संयंत्र और खुरियास तेल क्षेत्र...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -