Tue. Apr 16th, 2024

    चीनी अधिकारियों ने रविवार को कहा कि 1 सितंबर से दक्षिण चीन सागर में सैन्य और वाणिज्यिक दोनों तरह के जहाजों के मुक्त मार्ग के लिए उसे हर जहाज की जानकारी की रिपोर्ट चाहिए होगी क्योंकि वह सागर को अपनी प्रादेशिक जलीय सीमा के भीतर मानता है।

    वहीं भारत के विदेश मंत्रालय के अनुमान के अनुसार देश का $ 5 ट्रिलियन से अधिक व्यापार दक्षिण चीन सागर से होकर गुजरता है, और 55% व्यापार इस सागर और मलक्का जलसंधि से होकर गुजरता है। चीन अपने नक्शे पर तथाकथित “नौ डैश लाइन” के तहत दक्षिण चीन सागर के अधिकांश जल का दावा करता है जो फिलीपींस, वियतनाम, मलेशिया और इंडोनेशिया सहित कई अन्य देशों द्वारा विवादित माना जाता रहा है।

    हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि चीन बुधवार से शुरू होने वाले इस नए नियम को कैसे, कहां और कहां तक लागू करने की योजना बना रहा है। चीन की कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा संचालित ग्लोबल टाइम्स ने बताया समुद्री सुरक्षा प्रशासन ने एक नोटिस में कहा कि, “पनडुब्बियों, परमाणु जहाजों, रेडियोधर्मी सामग्री ले जाने वाले जहाजों और थोक तेल, रसायन, तरलीकृत गैस ले जाने वाले जहाजों के ऑपरेटरों और अन्य जहरीले और हानिकारक पदार्थों को चीनी क्षेत्रीय जल की अपनी यात्राओं पर अपनी विस्तृत जानकारी की रिपोर्ट करने की आवश्यकता होगी।

    अखबार ने पर्यवेक्षकों के हवाले से कहा कि, “समुद्री नियमों का इस तरह का रोलआउट समुद्री पहचान क्षमता को बढ़ावा देने के लिए है। साथ ही यह सख्त नियमों को लागू करके समुद्र में चीन की राष्ट्रीय सुरक्षा की रक्षा के लिए किए गए प्रयासों का संकेत है।”

    नोटिस में कहा गया है कि उन जहाजों के अलावा, “चीन की समुद्री यातायात सुरक्षा को खतरे में डालने” वाले समझे जाने वाले किसी भी जहाज को भी अपनी जानकारी की रिपोर्ट करने की आवश्यकता होगी जिसमें उनका नाम, कॉल साइन, कॉल के अगले बंदरगाह की वर्तमान स्थिति और आगमन का अनुमानित समय शामिल होगा। जहाजों को माल की प्रकृति और कार्गो डेड वेट के बारे में भी जानकारी देनी होगी। चीनी क्षेत्रीय समुद्र में प्रवेश करने के बाद, यदि पोत की स्वचालित पहचान प्रणाली अच्छी स्थिति में है, तो अनुवर्ती रिपोर्ट की आवश्यकता नहीं है। लेकिन अगर स्वचालित पहचान प्रणाली ठीक से काम नहीं करती है, तो जहाज को हर दो घंटे में रिपोर्ट करना होगा जब तक कि वह प्रादेशिक समुद्र से बाहर न निकल जाए।

    By आदित्य सिंह

    दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *