बुधवार, नवम्बर 20, 2019

दक्षिण कोरिया तेल आयात के वैकल्पिक स्त्रोतों को ढूंढेगा

Must Read

भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने जताई उम्मीद, भारत-बांग्लादेश के बीच दिन-रात टेस्ट मैच एक नए युग की शुरूआत साबित हो

ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन को उम्मीद जाहिर की है कि भारत और बांग्लादेश के बीच होने वाला ऐतिहासिक दिन-रात...

रीबॉक के नए फिटनेस कैम्पेन में कैटरीना कैफ

फिटनेस ब्रांड रीबॉक ने बुधवार को अपने हालिया कैम्पेन का अनावरण किया है, जिसमें बॉलीवुड अभिनेत्री कैटरीना कैफ नजर...

संसद शीतकालीन सत्र: छत्तीसगढ़ में धान खरीदी मुद्दे पर कांग्रेस का हंगामा, लोकसभा से किया बहिर्गमन

कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के मुद्दे को लेकर बुधवार को लोकसभा में हंगामा किया और सदन से...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

दक्षिण कोरिया ने शुक्रवार को कहा कि “वह तेल आयात के वैकल्पिक स्त्रोतों की खोज करेगा ताकि ईरान पर अमेरिका द्वारा लागू किये प्रतिबंधों के प्रभाव को कम किया जा सके।” हाल ही में अमेरिकी राज्य सचिव माइक पोम्पिओ ने ऐलान किया था कि “दक्षिण कोरिया, भारत, चीन, और अन्य पांच देशों को ईरान से तेल खरीदने की अब कोई रिआयत नहीं दी जा रही है।”

देशों को दी गयी रिआयत का अंत 2 मई हो होगा। इस सप्ताह की शुरुआत में आर्थिक मामलो के उप विदेश मंत्री युन कांग ह्योन ने इस मामले पर बातचीत के लिए वांशिगटन की यात्रा की थी। भारत ने भी मंगलवार को कहा कि “अमेरिका के निर्णय से पड़ने वाले प्रभाव से निपटने के लिए वह पर्याप्त रूप से तैयार है।”

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि “भारत सरकार ने अमेरिकी सरकार के ऐलान को नोट कर लिया था कि वह सभी देशों की ईरान से तेल खरीदने की रिआयत को खत्म कर रहे हैं। हम इस निर्णय से पड़ने वाले प्रभाव से निपटने के लिए वह पर्याप्त रूप से तैयार है।”

बीते वर्ष नवंबर में अमेरिका ने ईरानी तेल खररीदने के लिए आठ देशों को 180 दिनों की मोहलत दी थी और इसके बाद तेल आयात शून्य करने की चेतावनी भी दी थी। अमेरिकी राज्य विभाग ने बयान जारी कर कहा कि “चाबहार बंदरगाह एक अलग अपवाद है और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के निर्णय से इस पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।”

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने साल 2015 में ईरान के साथ हुई अंतर्राष्ट्रीय परमाणु संधि को बीते वर्ष तोड़ दिया था ताकि ईरान पर परमाणु कार्यक्रम को खत्म करने के लिए दबाव बनाया जा सके। ईरान से तेल आयात करने वाले राष्ट्र चीन, भारत, जापान, दक्षिण कोरिया, तुर्की, ग्रीस समेत आठ मुल्क है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने जताई उम्मीद, भारत-बांग्लादेश के बीच दिन-रात टेस्ट मैच एक नए युग की शुरूआत साबित हो

ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन को उम्मीद जाहिर की है कि भारत और बांग्लादेश के बीच होने वाला ऐतिहासिक दिन-रात...

रीबॉक के नए फिटनेस कैम्पेन में कैटरीना कैफ

फिटनेस ब्रांड रीबॉक ने बुधवार को अपने हालिया कैम्पेन का अनावरण किया है, जिसमें बॉलीवुड अभिनेत्री कैटरीना कैफ नजर आ रही हैं। इस कैम्पेन का...

संसद शीतकालीन सत्र: छत्तीसगढ़ में धान खरीदी मुद्दे पर कांग्रेस का हंगामा, लोकसभा से किया बहिर्गमन

कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के मुद्दे को लेकर बुधवार को लोकसभा में हंगामा किया और सदन से बहिर्गमन कर दिया। पार्टी ने...

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल के घर भेजी पेयजल जांच पर बीएसआई की रिपोर्ट

राष्ट्रीय राजधानी में पानी की गुणवत्ता रिपोर्ट को लेकर जारी जंग थमने का नाम नहीं ले रही है। केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक...

डोनाल्ड ट्रंप महाभियोग : यूक्रेन से ट्रंप के जांच के अनुरोध पर गवाहों को संदेह

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की जांच में चार मुख्य गवाहों ने इस पर संदेह व्यक्त किया है कि ट्रंप ने यूक्रेन के...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -