दा इंडियन वायर » विदेश » थिच नहत हान- वियतनामी कवि और शांति कार्यकर्ता ने 95 की उम्र में चोला छोड़ा
विदेश

थिच नहत हान- वियतनामी कवि और शांति कार्यकर्ता ने 95 की उम्र में चोला छोड़ा

थिच नहत हान- वियतनामी कवि और शांति कार्यकर्ता ने 95 की उम्र में चोला छोड़ा

थिच नहत हान (Thich Nhat Hanh), ज़ेन बौद्ध सन्यासी (Buddhist monk), कवि और शांति कार्यकर्ता, जो 1960 के दशक में वियतनाम युद्ध के विरोधी के रूप में उभरे थे, उन्होंने  शनिवार को 95 वर्ष की आयु में चोला छोड़ा।

उनके आधिकारिक ट्विटर हैंडल ने कहा, “इंटरनेशनल प्लम विलेज कम्युनिटी ऑफ एंगेज्ड बौद्ध धर्म ने घोषणा की कि हमारे प्रिय शिक्षक थिच नट हान का वियतनाम के ह्यू में तू हिउ मंदिर में 22 जनवरी, 2022 को 00:00 बजे शांतिपूर्वक निधन हो गया।”

 

 

थिच नहत हान की  जीवन यात्रा 

उन्हें 2014 में एक स्ट्रोक का सामना करना पड़ा जिस कारण उनके बोलने की क्षमता चैल गयी थी। निर्वासन में अपने वयस्क जीवन का अधिकांश समय बिताने के बाद उन्होंने ये तय किया था कि वह अपने  प्राचीन राजधानी और अपने जन्म स्थान –ह्यू  में अपने अंतिम दिनों को जीने के लिए वियतनाम लौट आएंगे।

पश्चिम में बौद्ध धर्म के अग्रदूत के रूप में, उन्होंने फ्रांस में “प्लम विलेज”  मठ का गठन किया और नियमित रूप से माइंडफुलनेस के अभ्यास पर  कॉर्पोरेट जगत और उनके अंतर्राष्ट्रीय अनुयायियों से बात की। मिंडफुल्नेस्स को साधारण भाषा में “ध्यान” करना कहते है।   

उन्होंने 2013 के एक व्याख्यान में कहा, “आप सीखते हैं कि कैसे भुगतना है। यदि आप जानते हैं कि कैसे भुगतना है, तो आप बहुत कम पीड़ित हैं। और फिर आप जानते हैं कि खुशी और खुशी पैदा करने के लिए दुख का अच्छा उपयोग कैसे किया जाए।”

“सुख की कला और दुख की कला हमेशा साथ-साथ चलती है”।

1926 में जन्मे  थिच नहत हान को एक साधू के रूप में नियुक्त किया गया था क्योंकि आधुनिक वियतनाम के संस्थापक क्रांतिकारी हो ची मिन्ह ने दक्षिण पूर्व एशियाई देश को अपने फ्रांसीसी औपनिवेशिक शासकों से मुक्त करने के प्रयासों का नेतृत्व किया था।

थिच नहत हान को सात भाषाओ का ज्ञान था।  1960 के दशक की शुरुआत में संयुक्त राज्य अमेरिका के प्रिंसटन (Princeton University) और कोलंबिया (Columbia University) विश्वविद्यालयों में उन्होंने व्याख्यान भी दिए थे। वह 1963 में अमेरिका-वियतनाम युद्ध के बढ़ते बौद्ध विरोध में शामिल होने के लिए वियतनाम लौट आए, जिसका प्रदर्शन कई संत-साधुओ द्वारा आत्मदाह के विरोध में किया गया था।

उन्होंने 1975 में लिखा था, “मैंने कम्युनिस्टों और कम्युनिस्ट-विरोधी को एक-दूसरे को मारते और नष्ट करते देखा क्योंकि हर पक्ष का मानना ​​था कि सच्चाई पर उनका एकाधिकार है।”

“बमों, मोर्टार और चिल्लाहट ने मेरी आवाज  को दबा  दिया”। 

1960 के दशक में वियतनाम युद्ध जब अपने चरम सीमा पर पहुँच रहा था तब वह नागरिक अधिकार नेता मार्टिन लूथर किंग (Martin Luther King) से मिले थे , जिन्हें उन्होंने संघर्ष के खिलाफ बोलने के लिए राजी किया था।

किंग ने थिच नहत हान को “शांति और अहिंसा का प्रेरित” कहा और उन्हें नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामांकित भी किया।

किंग ने अपने नामांकन पत्र में लिखा, “मैं व्यक्तिगत रूप से वियतनाम के इस सौम्य बौद्ध साधू की तुलना में नोबेल शांति पुरस्कार के योग्य किसी और को नहीं जानता।”

जबकि संयुक्त राज्य अमेरिका में एक साल पहले  किंग से मिलने के लिए, दक्षिण वियतनामी सरकार ने थिच नहत हान के देश वापसी पर प्रतिबंध लगा दिया था।

साथी मोंक हनीम सुनीम, जिन्होंने कभी दक्षिण कोरिया की यात्रा के दौरान थिच नहत हान के अनुवादक के रूप में काम किया था, ने कहा कि ज़ेन मास्टर शांत, विनीत और प्यार करने वाले थे।

थिच नहत हान के विचार और वर्तमान हालत 

थिच नहत हान के कार्यों और माइंडफुलनेस और मेडिटेशन के विचार को बढ़ावा देने ने एक नए सिरे से लोकप्रियता हासिल की है क्योंकि दुनिया एक कोरोनोवायरस महामारी के प्रभावों से जूझ रही है जिसने एक मिलियन से अधिक लोगों की जान ले ली है और दैनिक जीवन को प्रभावित किया है।

“आशा महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह वर्तमान क्षण को सहन करना कम कठिन बना सकती है,” थिच नट हान ने लिखा था। “अगर हम मानते हैं कि कल बेहतर होगा, तो हम आज एक कठिनाई को सहन कर सकते हैं।

“यदि आप उम्मीद से दूर रह सकते हैं, तो आप अपने आप को पूरी तरह से वर्तमान क्षण में ला सकते हैं और उस आनंद की खोज कर सकते हैं जो पहले से ही यहाँ है।”

 

About the author

Surubhi Sharma

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]