शुक्रवार, नवम्बर 22, 2019

27 मई तक इंटर के परिणाम घोषित करे तेलंगाना : उच्च न्यायालय

Must Read

पाकिस्तान में छात्रों का 29 नवंबर को देशव्यापी प्रदर्शन, बेहतर शिक्षा और शैक्षिक माहौल की मांग

पाकिस्तान में प्रगतिशील व वामपंथी छात्र संगठनों ने बेहतर शिक्षा और बेहतर शैक्षिक माहौल की मांग के साथ 29...

वीएफआई के खिलाफ कार्रवाई करेगा बेसलाइन वेंचर्स

बेसलाइन वेंचर्स भारतीय वॉलीबाल महासंघ (वीएफआई) के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने पर विचार कर रहा है। कंपनी ने यह...

बांग्लादेश कप्तान मोमिनुल हक ने कहा, दिन-रात टेस्ट से पहले अभ्यास मैच अच्छा होगा

बांग्लादेश के कप्तान मोमिनुल हक ने भारतीय कप्तान विराट कोहली का समर्थन करते हुए गुरुवार को कहा कि दिन-रात...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

हैदराबाद, 15 मई (आईएएनएस)| तेलंगाना उच्च न्यायालय ने बुधवार को इंटरमीडिएट शिक्षा बोर्ड (बीआईई) को निर्देश दिया कि इंटरमीडिएट के विद्याथियों की कॉपियों का पुनर्मूल्यांकन करने के बाद वह 27 मई तक परिणाम घोषित करे।

न्यायालय ने इंटरमीडिएट शिक्षा बोर्ड से यह भी कहा कि वह परिणाम के साथ-साथ उत्तर पुस्तिका (कॉपी) को भी आनलाइन उपलब्ध कराए।

बोर्ड ने अदालत को सूचित किया कि उत्तर पुस्तिका का पुनर्मूल्यांकन बुधवार रात तक पूरा हो जाएगा और संशोधित मार्कशीट गुरुवार से जारी की जाएगी।

अदालत ने ग्लोबरेना टेक्नोलॉजीज को भी नोटिस जारी किया, जो एक आईटी कंपनी है जिसने परिणामों को तैयार किया है और जिस पर नतीजों को बनाने की प्रक्रिया में लापरवाही का आरोप लगा है।

न्यायालय ने छह जून तक के लिए कार्यवाही स्थगित कर दी। बाल अधिकारों के लिए काम करने वाले एक गैर सरकारी संगठन, ‘बाला हक्कुला संघम’ ने अदालत में याचिका दायर की है जिसमें उसने अंक देने में भयावह गड़बड़ियों के लिए जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

याचिकाकर्ता के वकील दामोदर रेड्डी ने संवाददाताओं से कहा कि इंटरमीडिएट शिक्षा बोर्ड ने अपनी वेबसाइट पर छात्रों की उत्तर पुस्तिकाओं को रखने पर सहमति जताई है।

इंटरमीडिएट शिक्षा बोर्ड ने 18 अप्रैल को इंटरमीडिएट के नतीजों की घोषणा की थी। फरवरी-मार्च में आयोजित कक्षा 11 और 12 की परीक्षा में कुल 9.74 लाख विद्यार्थियों शामिल हुए थे, जिनमें से 3.28 लाख विद्यार्थी पास अंक प्राप्त करने में असफल रहे।

जांच में पता चला था कि उत्तर पुस्तिकाओं की जांच के लिए बोर्ड ने एक आईटी कंपनी को किराए पर रखा था जिसने अपने काम में बहुत बड़े पैमाने पर लापरवाही की जिसकी वजह से विद्यार्थियों में बेचैनी और अशांति पैदा हो गई। कम से कम 22 छात्रों ने खुदकुशी कर ली। इसके खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुए।

छात्र निकायों और अभिभावकों ने उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन में गड़बड़ी और अंकतालिकाओं के प्रसंस्करण और सारणीकरण में गलतियों को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया।

इसके बाद राज्य सरकार ने 24 अप्रैल को उन सभी 3.28 लाख छात्रों की उत्तर पुस्तिकाओं के पुन: सत्यापन की घोषणा की जो परीक्षा पास नहीं कर सके थे।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

पाकिस्तान में छात्रों का 29 नवंबर को देशव्यापी प्रदर्शन, बेहतर शिक्षा और शैक्षिक माहौल की मांग

पाकिस्तान में प्रगतिशील व वामपंथी छात्र संगठनों ने बेहतर शिक्षा और बेहतर शैक्षिक माहौल की मांग के साथ 29...

वीएफआई के खिलाफ कार्रवाई करेगा बेसलाइन वेंचर्स

बेसलाइन वेंचर्स भारतीय वॉलीबाल महासंघ (वीएफआई) के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने पर विचार कर रहा है। कंपनी ने यह कदम वीएफआई के द्वारा करार...

बांग्लादेश कप्तान मोमिनुल हक ने कहा, दिन-रात टेस्ट से पहले अभ्यास मैच अच्छा होगा

बांग्लादेश के कप्तान मोमिनुल हक ने भारतीय कप्तान विराट कोहली का समर्थन करते हुए गुरुवार को कहा कि दिन-रात टेस्ट मैच से पहले अभ्यास...

भारत-बांग्लादेश टेस्ट मैच को लेकर विराट कोहली ने कहा कि विदेशों में दिन-रात टेस्ट मैच से पहले अभ्यास मैच अच्छा होगा

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली का कहना है कि विदेशों में दिन-रात टेस्ट मैच खेलने से पहले अभ्यास मैच खेलना सही होगा।...

पाकिस्तान के हवाई क्षेत्र में अमेरिकी सैन्य विमान के अनाधिकृत रूप से घुसने की चर्चा

पाकिस्तान में इस बात की चर्चा है कि अमेरिका के एक सैन्य विमान ने अनाधिकृत रूप से देश के हवाई क्षेत्र में प्रवेश किया...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -