Thu. Jun 13th, 2024
    trinmool congress

    पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस मंगलवार को 21 साल की हो गई और इस अवसर का इस्तेमाल पार्टी ने पार्टी प्रमुख और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को आगामी लोकसभा चुनावों के लिए विपक्षी महागठबंधन के संभावित प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में पेश करने के लिए किया।

    पार्टी ने 63 वर्षीय सुश्री बनर्जी के नेतृत्व में एक धर्मनिरपेक्ष और प्रगतिशील भारत को सुनिश्चित करने के लिए काम करने की कसम खाई।

    वरिष्ठ टीएमसी कानूनविद् अभिषेक बनर्जी ने 2019 को बदलाव का वर्ष बताते हुए कहा कि पार्टी एक ऐतिहासिक मोड़ पर खड़ी है जहाँ वह नई दिल्ली में कामकाजी वर्ग के पक्ष में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाना चाहती है”।

    अभिषेक बैनर्जी, जो टीएमसी प्रमुख के भतीजे हैं, ने कहा कि देश में अच्छे दिन लाएंगे। उन्होंने कहा, “2019 का वर्ष परिवर्तन और संघर्ष का वर्ष है। हमें यह सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए कि हम ममता बनर्जी के नेतृत्व में इस देश के लोगों को नई दिल्ली में एक धर्मनिरपेक्ष और प्रगतिशील भारत का उपहार दे सकें।”

    उन्होंने कहा, “हमारी पार्टी आज 21 साल की हो गई है। संख्या 21 काफी महत्व रखती है क्योंकि यह संघर्ष, युवावस्था और बदलाव को दर्शाती है।”

    टीएमसी की स्थापना 1 जनवरी 1998 को ममता बनर्जी ने की थी, जिन्होंने खुद कांग्रेस के माध्यम से राजनीति में प्रवेश किया। वर्तमान में, टीएमसी के पास पश्चिम बंगाल की 42 लोकसभा सीटों में से 34 सीटें हैं।

    अभिषेक ने कहा “1 जनवरी 1998 को शुरू हुई यह यात्रा संघर्षों से भरी रही है, लेकिन हम लोगों के लिए संघर्ष करने के संकल्प में दृढ़ रहे हैं।  हम जनता के निरंतर समर्थन के लिए मां-माटी-मानुष के आभारी हैं।  कार्यकर्ता जो लोगों के लिए वर्ष में 365 दिन कड़ी मेहनत करते हैं। आपको एक बड़ा सलाम।”

    टीएमसी, जो पिछले कुछ वर्षों से केंद्र में एक व्यापक राजनीतिक स्थान पर नजर गड़ाए हुए है, भाजपा विरोधी विपक्षी गठबंधन बनाने में सबसे आगे है और 19 जनवरी को कोलकाता में विपक्षी दलों की एक रैली बुलाई। ममता बनर्जी देश का दौरा कर रही हैं और कई विपक्षी दलों के नेताओं से मिलकर भाजपा के खिलाफ विपक्षी एकता बनाने की कोशिश कर रही हैं।

    By आदर्श कुमार

    आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *