सोमवार, दिसम्बर 9, 2019

तुर्की: साल 2020 से रूस की एस-400 रक्षा प्रणाली का इस्तेमाल करेंगे शुरू

Must Read

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : तीसरे चरण का मतदान तय करेगा आजसू का राजनीतिक भविष्य

झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए दो चरण का मतदान संपन्न हो जाने के बाद सभी दल तीसरे चरण में...

उत्तर प्रदेश में दो और बलात्कार, औरेया में चलती कार में किया रेप, बिजनौर में नाबालिग के साथ दुष्कर्म

उत्तर प्रदेश में दुष्कर्म जैसे जघन्य अपराध को लेकर एक ओर जहां जनता में आक्रोश है, वहीं राज्य में...

रणजी ट्रॉफी : सांप के कारण विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच मैच में हुई देरी

यहां विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच खेला जा रहा रणजी ट्रॉफी के ग्रुप-ए का मैच सांप के कारण...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

तुर्की के राष्ट्रपति रिच्चप तैयब एर्डोगन ने शुक्रवार को कहा कि वह रूस के एस 400 रक्षा प्रणाली के इस्तेमाल को शुरू करने की योजना अप्रैल 2020 से बना रहे हैं।

राष्ट्रपति ने न्याय और विकास पार्टी की बैठक में कहा कि ईश्वर की इच्छा से हम आगामी अप्रैल 2020 में रूस की रक्षा प्रणाली का इस्तेमाल करना शुरू करेंगे।”

अमेरिका ने तुर्की द्वारा एस 400 रक्षा प्रणाली खरीदने पर नकारात्मक प्रतिक्रिया दी थी और इस माह के शुरू में रूस ने तुर्की को पहली खेप भी सौंप दी थी। अमेरिका ने अंकारा को एफ 35 लड़ाकू विमान कार्यक्रम से भी निकाल दिया था।

अमेरिका ने कहा कि अगर तुर्की एस 400 का इस्तेमाल एफ 35 के साथ करेगा तो रूस को इस विमान की सभी संवेदनशील तकनीक के बारे में मालूम हो जाएगा।

एर्डोगन ने कहा कि आप हमे नही देंगे, सही है। माफ कीजिये लेकिन हम इसके संदर्भ में कदम उठायेगे और अन्यो की तरफ रुख करेंगे।

राष्ट्रपति ने कहा कि मैंने इस मामलों को बैठक के दौरान डोनाल्ड ट्रम्प सामने उठाया था। मैंने डोनाल्ड ट्रंप से कहा था कि अगर हम पेट्रियट नही खरीद रहे है तो हम बोइंग खरीद रहे हैं। हम बेहतर क्लाइंट्स है। लेकिन अगर ऐसा ही रहा तो हमे पुनर्विचार करना होगा।

तुर्की और अमेरिका के बीच इस हफ्ते उत्तरी सीरिया में बफर जोन की स्थापना के लिए बातचीत होगी। ताकि तुर्की और कुर्द सेनाओं के बीच हिंसा को रोका जा सके।

सीरिया के कुर्दिश वाईपीजी चरमपंथियों को आतंकवादी समझते हैं लेकिन इस्लामिक स्टेट के खिलाफ लड़ाई लड़ने में कुर्दिश सेना अमेरिका की सबसे बड़ी सहयोग है।

अमेरिका ने बीते हफ्ते कहा कि “हमने नाटो के सहयोगी तुर्की को एफ-35 कार्यक्रम से हटा दिया है  क्योंकि अंकारा ने रूस के एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली को खरीदा और उसकी खेप को स्वीकार किया है। तुर्की पर प्रतिबंधों के बाबत अभी अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का निर्णय लेना बाकी है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : तीसरे चरण का मतदान तय करेगा आजसू का राजनीतिक भविष्य

झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए दो चरण का मतदान संपन्न हो जाने के बाद सभी दल तीसरे चरण में...

उत्तर प्रदेश में दो और बलात्कार, औरेया में चलती कार में किया रेप, बिजनौर में नाबालिग के साथ दुष्कर्म

उत्तर प्रदेश में दुष्कर्म जैसे जघन्य अपराध को लेकर एक ओर जहां जनता में आक्रोश है, वहीं राज्य में ऐसे मामलों को लेकर शिकायतों...

रणजी ट्रॉफी : सांप के कारण विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच मैच में हुई देरी

यहां विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच खेला जा रहा रणजी ट्रॉफी के ग्रुप-ए का मैच सांप के कारण देरी से शुरू हुआ। मैच...

पीएम मोदी व कांग्रेस नेताओं ने कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को दीं जन्मदिन की शुभकामनाएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को उनके 73वें जन्मदिन की शुभकामनाएं दी। मोदी ने ट्वीट किया, "श्रीमती सोनिया गांधी...

संसद शीतकालीन सत्र : राज्यसभा ने दिल्ली अग्निकांड पर शोक जताया

राज्यसभा ने सोमवार को दिल्ली के रानी झांसी मार्ग इलाके में भयानक आग की चपेट में आकर 43 मजदूरों के मारे जाने पर शोक...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -