Tue. Apr 16th, 2024
    triple talaq

    लोकसभा में तीन तलाक बिल पर बहस के दौरान शिवसेना सांसद अरविन्द सावंत ने कहा “अगर देश में यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू किया जाता, तो तीन तलाक बिल या मुस्लिम तलाक कानून में संशोधन की जरूरत नहीं होती। यदि भाजपा इन तीन चीजों को लागू करती है: राम मंदिर का निर्माण, धारा 370 को निरस्त करना, और समान नागरिक संहिता को लागू करना तो शिवसेना भाजपा के साथ होगी।”

    लोकसभा में मुस्लिम महिलाओं और तीन तलाक के मुद्दे पर एक चर्चा में बोलते हुए, सांसद सावंत ने कहा, “मुस्लिम महिलाओं को न्याय प्रदान करने के लिए, तीन तलाक बिल संसद में पेश किया जा रहा है। वे आज बहुत खुश होंगी। लेकिन अगर देश में यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू किया गया होता तो इस तीन तालक कानून की कोई जरूरत नहीं होगी। यूनिफॉर्म सिविल कोड को लाएं और 370 को निरस्त करें, यही काम करने की जरूरत है।”

    शिवसेना सांसद सावंत ने सरकार से राम मंदिर मुद्दे पर एक कानून लाने की भी अपील की। “राम मंदिर राजनीति का विषय नहीं है, बल्कि जनहित का मामला है।” यह संविधान का अपमान है कि पिछले 70 सालों से सरकार ने राम मंदिर को लेकर कोई फैसला नहीं लिया है।

    तीन तलाक बिल दूसरी बार लोकसभा में पेश किया जा रहा है क्योंकि पिछली बार राज्यसभा में ये बिल पास नहीं हुआ था। तो यह एक अध्यादेश साबित हुआ। कांग्रेस मांग कर रही है कि तीन तलाक विधेयक पर रचनात्मक बहस की जरूरत है और फिर प्रवर समिति को भेजा जाए। इस बिल में तीन साल की कैद का प्रावधान है। कांग्रेस ने इस प्रावधान का विरोध किया था। लेकिन नए विधेयक में इस प्रावधान को बरकरार रखा गया है।

    भारत के सर्वोच्च न्यायालय द्वारा तीन तलाक को असंवैधानिक घोषित किए जाने के 492 दिनों बाद, लोकसभा ने गुरुवार को संशोधित मुस्लिम महिला विधेयक (तीन तालक) को 245 मतों से पारित कर दिया, लेकिन विपक्ष ने इसे आपराधिक कृत्य का हवाला देते हुए बहस में भाग लेने से परहेज किया।

    By आदर्श कुमार

    आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *