विदेश

तालिबान ने किया पंजशीर घाटी पर कब्ज़े का दावा; सरकार गठन की कवायद तेज़

तालिबान ने सोमवार को अफगानिस्तान पर पूर्ण नियंत्रण का दावा करते हुए कहा कि उन्होंने पंजशीर घाटी में चल रही महत्वपूर्ण लड़ाई को भी जीत लिया है। पंजशीर घाटी उनके शासन के खिलाफ प्रतिरोध का अंतिम गढ़ के रूप में बचा था।

अगस्त के मध्य में पूर्व अफगान सरकार के सुरक्षा बलों पर उनकी जीत और 20 साल के युद्ध के बाद अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद तालिबान ने पहाड़ी पंजशीर घाटी की रक्षा करने वाली ताकतों से लड़ने की ओर रुख किया था।

इस्लामी कट्टरपंथियों की जीत का दावा करते हुए उनके मुख्य प्रवक्ता ने उनके शासन के खिलाफ उठने के किसी भी प्रयास के खिलाफ चेतावनी दी जबकि सुरक्षा बलों के पूर्व सदस्यों से उनके शासन के रैंकों में शामिल होने का आग्रह किया। तालिबान के मुख्य प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने कहा कि, “इस जीत से हमारा देश पूरी तरह से युद्ध के दलदल से बाहर निकल गया है।”

तालिबान ने पंजशीर में राज्यपाल के घर पर अपने झंडे को फहराए जाने

का एक वीडियो प्रकाशित किया। कट्टरपंथी संगठन के लिए यह एक ऐतिहासिक जीत को रेखांकित करती है क्योंकि 40 वर्षों के संघर्ष में पहली बार तालिबान विरोधी गढ़ को पराजित किया जा सका है। यह सोवियत शासन, बाद के गृह युद्ध और 1990 के दशक के अंत में तालिबान के पहले शासन के दौरान प्रतिरोध सेनानियों के हाथों में ही रहा है।

तालिबान विरोधी और पूर्व अफगान सुरक्षा बलों से बने पंजशीर में राष्ट्रीय प्रतिरोध मोर्चा (एनआरएफ) ने रविवार को युद्ध के मैदान में बड़े नुकसान को स्वीकार किया और संघर्ष विराम का आह्वान किया। लेकिन सोमवार को समूह ने एक ट्वीट में कहा कि उसके लड़ाके अभी भी घाटी में “रणनीतिक स्थिति” में मौजूद हैं।

एनआरएफ में प्रसिद्ध सोवियत विरोधी और तालिबान विरोधी कमांडर अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद के प्रति वफादार स्थानीय लड़ाके शामिल हैं – साथ ही पंजशीर घाटी में पीछे हटने वाली अफगान सेना की कुछ टुकड़ियां भी शामिल हैं। जैसे ही तालिबान लड़ाके घाटी में जमा हुए, मसूद ने सोमवार को देश के अंदर और बाहर अफगानों से “प्रतिरोध में उठने” का आह्वान किया।

तीन हफ्ते पहले राजधानी काबुल में घुसने के बाद तालिबान ने अभी तक अपने नए शासन को अंतिम रूप नहीं दिया है। मुजाहिद ने कहा कि पहले एक अंतरिम सरकार की घोषणा की जाएगी और बाद में किसी भी बदलाव की अनुमति होगी। उन्होंने कहा कि, “सरकार के गठन से जुड़े अंतिम निर्णय ले लिए गए हैं और हम अब तकनीकी मुद्दों पर काम कर रहे हैं।”

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Share
लेखक
आदित्य सिंह

Recent Posts

अमेरिकी वैज्ञानिक डेविड जूलियस और अर्देम पटापाउटिन ने नोबेल मेडिसिन पुरस्कार 2021 जीता

अमेरिकी वैज्ञानिकों डेविड जूलियस और अर्डेम पटापाउटिन ने सोमवार को तापमान और स्पर्श के रिसेप्टर्स…

October 5, 2021

किसान संगठन को कृषि कानूनों पर रोक के बाद भी आंदोलन जारी रखने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने लगायी फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी…

October 5, 2021

केंद्र सरकार ने वन संरक्षण अधिनियम में कई संशोधन किये प्रस्तावित

केंद्र सरकार ने मौजूदा वन संरक्षण अधिनियम (एफसीए) में संशोधन के तहत राष्ट्रीय सुरक्षा परियोजनाओं…

October 5, 2021

रूस और जर्मनी के बीच नॉर्ड स्ट्रीम 2 पाइपलाइन का निर्माण पूरा: यूरोपीय राजनीति में होंगे इसके कई बड़े परिणाम

जबकि ईरान-पाकिस्तान-भारत गैस पाइपलाइन, ईरान-भारत अंडरसी पाइपलाइन, और तुर्कमेनिस्तान-अफगानिस्तान-पाकिस्तान-भारत पाइपलाइन पाइप अभी भी सपने बने…

October 4, 2021

पैंडोरा पेपर्स का सचिन तेंदुलकर सहित कई वैश्विक हस्तियों के वित्तीय राज़ उजागर करने का दावा

रविवार को दुनिया भर में पत्रकारीय साझेदारी से लीक पेंडोरा पेपर्स नाम के लाखों दस्तावेज़ों…

October 4, 2021

बढे बजट के साथ आज पीएम मोदी करेंगे एसबीएम-यू 2.0 और अमृत ​​2.0 का शुभारंभ

वित्त पोषण, आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के शीर्ष अधिकारियों ने गुरुवार को कहा…

October 1, 2021