Thu. Jun 20th, 2024

    तालिबान ने सोमवार को अफगानिस्तान पर पूर्ण नियंत्रण का दावा करते हुए कहा कि उन्होंने पंजशीर घाटी में चल रही महत्वपूर्ण लड़ाई को भी जीत लिया है। पंजशीर घाटी उनके शासन के खिलाफ प्रतिरोध का अंतिम गढ़ के रूप में बचा था।

    अगस्त के मध्य में पूर्व अफगान सरकार के सुरक्षा बलों पर उनकी जीत और 20 साल के युद्ध के बाद अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद तालिबान ने पहाड़ी पंजशीर घाटी की रक्षा करने वाली ताकतों से लड़ने की ओर रुख किया था।

    इस्लामी कट्टरपंथियों की जीत का दावा करते हुए उनके मुख्य प्रवक्ता ने उनके शासन के खिलाफ उठने के किसी भी प्रयास के खिलाफ चेतावनी दी जबकि सुरक्षा बलों के पूर्व सदस्यों से उनके शासन के रैंकों में शामिल होने का आग्रह किया। तालिबान के मुख्य प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने कहा कि, “इस जीत से हमारा देश पूरी तरह से युद्ध के दलदल से बाहर निकल गया है।”

    तालिबान ने पंजशीर में राज्यपाल के घर पर अपने झंडे को फहराए जाने का एक वीडियो प्रकाशित किया। कट्टरपंथी संगठन के लिए यह एक ऐतिहासिक जीत को रेखांकित करती है क्योंकि 40 वर्षों के संघर्ष में पहली बार तालिबान विरोधी गढ़ को पराजित किया जा सका है। यह सोवियत शासन, बाद के गृह युद्ध और 1990 के दशक के अंत में तालिबान के पहले शासन के दौरान प्रतिरोध सेनानियों के हाथों में ही रहा है।

    तालिबान विरोधी और पूर्व अफगान सुरक्षा बलों से बने पंजशीर में राष्ट्रीय प्रतिरोध मोर्चा (एनआरएफ) ने रविवार को युद्ध के मैदान में बड़े नुकसान को स्वीकार किया और संघर्ष विराम का आह्वान किया। लेकिन सोमवार को समूह ने एक ट्वीट में कहा कि उसके लड़ाके अभी भी घाटी में “रणनीतिक स्थिति” में मौजूद हैं।

    एनआरएफ में प्रसिद्ध सोवियत विरोधी और तालिबान विरोधी कमांडर अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद के प्रति वफादार स्थानीय लड़ाके शामिल हैं – साथ ही पंजशीर घाटी में पीछे हटने वाली अफगान सेना की कुछ टुकड़ियां भी शामिल हैं। जैसे ही तालिबान लड़ाके घाटी में जमा हुए, मसूद ने सोमवार को देश के अंदर और बाहर अफगानों से “प्रतिरोध में उठने” का आह्वान किया।

    तीन हफ्ते पहले राजधानी काबुल में घुसने के बाद तालिबान ने अभी तक अपने नए शासन को अंतिम रूप नहीं दिया है। मुजाहिद ने कहा कि पहले एक अंतरिम सरकार की घोषणा की जाएगी और बाद में किसी भी बदलाव की अनुमति होगी। उन्होंने कहा कि, “सरकार के गठन से जुड़े अंतिम निर्णय ले लिए गए हैं और हम अब तकनीकी मुद्दों पर काम कर रहे हैं।”

    By आदित्य सिंह

    दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *